Home > Archived > फरमान के बाद बढ़ी हेलमेट की मांग

फरमान के बाद बढ़ी हेलमेट की मांग

पेट्रोल पम्पों पर अनिवार्यता के चलते दिखा असर

अशोकनगर। जिले में हेलमेट की अनिवार्यता लागू होने के फरमान का असर दिखाई देने लगा है। शहर के विभिन्न चौराहों पर अब हेलमेट की बिक्री हो रही है। उल्लेखनीय है कि दो पहिया वाहन चालकों से संबंधित सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश के तारतम्य में कलेक्टर अरुण कुमार तोमर बीते मंगलवार को जिले में हेलमेट की अनिवार्यता का फरमान जारी किया गया था। जिसके तहत बिना हेलमेट दो पहिया चालकों को पेट्रोल प्रदाय न किये जाने हेतु पेट्रोल पम्प संचालकों को भी निर्देश जारी किये गए थे। जिले में संचालित पेट्रोल पम्प संचालकों ने आदेश के पालन में हेलमेट धारकों को पेट्रोल पदाय शुरू किया। पहले एक दो दिन तक पेट्रोल पम्पों जरूर हेलमेट को लेकर बहस का माहौल बना लेकिन अब या तो दुपहिया वाहन चालक हेलमेट धारण कर रहे हैं या फिर दूसरे वाहन चालक के हेलमेट से काम चला रहे हैं।
हेलमेट लगाने के बाद ही देना है पेट्रोल:
जिला दण्डाधिकारी द्वारा अनुज्ञापन एवं नियंत्रण आदेश 1980 की धारा 10 के अन्तर्गत समस्त पेट्रोल-डीजल पम्पों के अनुज्ञप्तिधारियों को दो पहिया वाहन चालकों द्वारा हेलमेट लगाकर वाहन लेकर आने पर ही उन्हें पेट्रोल देने का फरमान दिया गया था। आदेश का उल्लंघन करने पर वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3/7 के अंतर्गत दण्डनीय होगा।
पेट्रोल पम्प परिसर में नहीं लगे बैनर:
हेलमेट की अनिवार्यता लागू होने के बाद पेट्रोल-डीजल पम्प संचालकों ने इस आशय के बैनर परिसर में नही लगाए हैं। जबकि जारी आदेश में दो पहिया वाहन चालकों को तत्संबंधी जानकारी देने हेतु पेट्रोल-डीजल पम्पों के परिसर में बैनर लगवाने के निर्देश जिला दण्डाधिकारी द्वारा दिए गए थे। आदेश से अनभिज्ञ वाहन चालकों को बगैर हेलमेट आने से पेट्रोल के लिए परेशान होना पड़ता है।
250 से 1000 रुपए तक के हेलमेट:
बाजार में हेलमेट की मांग बढऩे पर हेलमेट विके्रताओं की संख्या में भी इजाफा हुआ है। शहर में करीब एक दर्जन से अधिक स्थानों पर बिक रहे हेलमेट अलग-अलग वैरायटी के उपलब्ध हैं। विदिशा रोड़ स्थित एक हेलमेट विक्रेता के मुताबिक कम से कम हेलमेट 250 रुपये में उपलब्ध है जबकि अधिकतम हेलमेट की कीमत 1000 रुपये तक की है।

Updated : 14 Feb 2016 12:00 AM GMT
Next Story
Top