Latest News
Home > Archived > बीसीए तृतीय सेमेस्टर की टीम बनी प्रीमियर क्रिकेट लीग विजेता

बीसीए तृतीय सेमेस्टर की टीम बनी प्रीमियर क्रिकेट लीग विजेता

राजीव एकेडमी का पाँच दिवसीय क्रिकेट टूर्नामेंट गणेशरा स्टेडियम में हुआ सम्पन्न

मथुरा। स्थानीय गणेशरा स्टेडियम में राजीव एकेडमी फॉर टेक्नोलाजी एण्ड मैनेजमेंट की एक दर्जन से अधिक टीमों ने पांच दिवसीय प्रीमियर लीग क्रिकेट प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। जिसमें बीसीए तृतीय सेमेस्टर के छात्रों की टीम विजयी रही। सीमित ओवरों का फाइनल मुकाबला 16-16 ओवरों का खेला गया।

बीसीए तृतीय सेमेस्टर की टीम के कप्तान ने टास जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया और 125 रन बनाए। लक्ष्य का पीछा करते हुए बीसीए पंचम सेमेस्टर की टीम 112 रन ही बना सकी और 13 रन से मुकाबला हार गई। इससे पूर्व शुरुआती मैच नाकआउट आधार पर खेले गये जिनमें प्रत्येक मैच 12-12 ओवर का था। पहला सेमीफायनल बीएससी प्रथम वर्ष एवं बीसीए तृतीय सेमेस्टर के बीच खेला गया जिसमें बीसीए तृतीय सेमेस्टर की टीम ने शानदार 170 रन बनाए जिसमें अमित सारस्वत ने 111 रनों की नाबाद पारी खेली। लक्ष्य का पीछा करने उतरी बीएससी प्रथम वर्ष की टीम 90 रन ही बना सकी। प्रतियोगिता का दूसरा सेमीफाइनल मुकाबला बीसीए पंचम सेमेस्टर एवं बीबीए पंचम सेमेस्टर की टीमों के बीच खेला गया जिसमें बीबीए की टीम को बीसीए पंचम की टीम ने हराकर फाइनल में प्रवेश किया। खिताब विजेता टीम के शतकवीर अमित सारस्वत को टूर्नामेंट का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी व आलोक पाण्डेय को मैन आफ द मैच पुरस्कार से सम्मानित किया गया। कप्तान सचिन राघव को विजेता ट्राफी तथा बीसीए पंचम सेमेस्टर के उपकप्तान अभिनव वाष्र्णेय को उपविजेता ट्राफी प्रदान की गई।

आरके एजूकेशन हब के चेयरमैन डा. रामकिशोर अग्रवाल ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ खेल भी आवश्यक हैं। खेलों के माध्यम से ही शैक्षिक गतिविधियां आगे बढ़ती हैं। प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने कहा कि खेलों से राष्ट्रीयता का विकास होता है और अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्धों को मजबूती मिलती है।

निदेशक डा. अमर कुमार सक्सेना ने कहा कि छात्र-छात्राओं के जीवन में खेल महत्वपूर्ण टानिक हैं। लगातार अध्ययन के बाद निश्चित अंतराल पर खेलने से मन और मस्तिष्क तरोताजा हो जाता है। अध्ययन में गतिशीलता के साथ-साथ खेल हमें चुस्त-दुरुस्त बनाये रखते हैं। टूर्नामेंट के संयोजक बीसीए विभागाध्यक्ष चन्द्रेश दुबे थे। अम्पायरिंग मयंक दीक्षित, सुनील शर्मा ने की। अनुशासन व्यवस्था बनाने में मो. जाहिद, प्रखर त्यागी, तनुज अग्रवाल, रामचन्द्र शर्मा, भरत गौतम, सुनील चौहान, नीरज कुशवाह, दुर्गेश नन्दन पाठक, गौरव गोस्वामी, गौरव सिंह आदि का सहयोग रहा। मैच के स्कोर्र शरद सिंह, चन्द्रपाल सिंह और मनीष श्रीवास्तव थे।

Updated : 2016-12-11T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top