Top
Home > Archived > बेलगाम नौकरशाही बनी बड़ी समस्या

बेलगाम नौकरशाही बनी बड़ी समस्या

बेलगाम नौकरशाही बनी बड़ी समस्या

चंतित सरकार ने 18-19 की कॉन्फे्रंस का एजेंडा बदला
अब अधिकारियों को दी जाएगी सख्त हिदायत


ग्वालियर।
भारतीय जनता पार्टी में संगठन से जुड़े नेताओं, कार्यकर्ताओं में नौकरशाहों के प्रति पैदा हो रहे आक्रोश का असर भोपाल में 18 और 19 अक्टूबर को होने वाली कलेक्टर और कमिश्नर कॉन्फ्रेंस में दिखाई दे सकता है। भोपाल से छनकर आ रही खबरों से इस बात के संकेत मिल रहे हैं।

सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नौकरशाही के प्रति संगठन में पनप रहे गुस्से को गंभीरता से लिया है।

उल्लेखनीय है कि पिछले महीने भोपाल में आहूत की गई समन्वय बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बेलगाम होती नौकरशाही पर जोरदार तंज मारे थे। इतना ही नहीं मध्यप्रदेश के बालाघाट जिले के बैहर थाने में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक की पिटाई का मामला भी बेलगाम होती नौकरशाही का प्रतीक बनकर उभरा। यह प्रकरण ग्वालियर में आयोजित भाजपा प्रदेश कार्यसमिति तक में चर्चा का विषय बन गया था। हाल ही की बात की जाए तो प्रदेश सरकार के मंत्री गोपाल भार्गव हों या फिर ग्वालियर जिला कार्यसमिति की बैठक में आए तमाम पार्टी सदस्य हों, उन्होंने नौकरशाही द्वारा कार्यकर्ताओं के तमाम कार्यों की अवहेलना करने का मामला जोरदारी से उठाया। कुल मिलाकर कहा जाए तो अब धीरे-धीरे बेलगाम नौकरशाही का मामला पूरे प्रदेश के भाजपा जनों की जुबान पर चढ़ता दिखाई दे रहा है।

सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार चौहान दोनों को ही इस मुद्दे ने चिंतित कर दिया है। यही वजह है कि 18 और 19 अक्टूबर को भोपाल में प्रस्तावित कलेक्टर, कमिश्नर कॉन्फे्रंस में यह विषय प्रमुखता से शामिल किए जाने पर जोर दिया जा रहा है। पहले इस कॉन्फे्रंस में कलेक्टर, कमिश्नर व इसी रैंक के अधिकारियों को बुलाने की तैयारी थी लेकिन अब इसमें परिवर्तन कर दिया गया है। इसमें पुलिस अधीक्षक, जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, नगर निगमों के आयुक्तों को भी बुलाया जाएगा।

पहले इस कॉन्फे्रंस में विकास से जुड़ी योजनाओं के साथ-साथ सरकारी नीतियों के मैदानी स्तर पर चर्चा होनी थी, लेकिन अब इस कॉन्फे्रंस को गुडगवर्नेंस पर केन्द्रित कर दिया गया है। सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री इस कॅान्फे्रंस में अधिकारियों को सीधे इस बात की हिदायत देने के मूड में हैं कि अब संभल जाओ अन्यथा कार्रवाई को तैयार रहो।

Updated : 2016-10-08T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top