Home > Archived > पाकिस्‍तान को आतंकी राष्‍ट्र घोषित करने की मांग वाली याचिका को मिला रिकॉर्ड समर्थन

पाकिस्‍तान को आतंकी राष्‍ट्र घोषित करने की मांग वाली याचिका को मिला रिकॉर्ड समर्थन


वाशिंगटन | पाकिस्‍तान को आतंकवाद प्रायोजक देश यानी आतंकी राष्‍ट्र घोषित करने की मांग वाली ऑनलाइन याचिका को भरपूर समर्थन मिला है। पाकिस्तान को आतंकी देश घोषित करने की मांग को लेकर इस ऑनलाइन याचिका पर अभी तक 5 लाख लोग हस्ताक्षर कर चुके हैं और यह संख्या 10 लाख तक जा सकती है।

जानकारी के अनुसार, पाकिस्तान को आतंकवाद का प्रायोजक देश घोषित करने के प्रस्ताव वाली ऑनलाइन व्हाइट हाऊस की याचिका पर करीब 5 लाख लोगों ने समर्थन जताया है जो ओबामा प्रशासन से इस बारे में जवाब मिलने के लिए जरूरी संख्या से 5 गुना हैं। याचिका को एक व्यक्ति ने 21 सितंबर को जारी किया था जिसने खुद को आरजी नाम वाला बताया। इस संबंध में व्हाइट हाउस से जवाब मिलने के लिए तीस दिन में एक लाख हस्ताक्षरों की आवश्यकता थी, लेकिन एक सप्ताह के अंदर ही एक लाख का आंकड़ा पार हो गया और दो सप्ताह से भी कम समय में पांच लाख लोगों ने इस याचिका पर हस्ताक्षर कर दिया। अब यह ओबामा प्रशासन की ओर से जवाब की पात्रता रखती है।

एक सप्ताह के अंदर ही याचिका पर एक लाख लोगों के समर्थन का आंकड़ा पार हो गया और 2 सप्ताह से कम समय में 5 लाख लोगों के दस्तखत आ गए। यह याचिका अब व्हाइट हाऊस की वेबसाइट पर मशहूर हो गई है। याचिका के मुताबिक आेबामा प्रशासन 60 दिन में याचिका पर जवाब दे सकता है। अपने फेसबुक पेज पर याचिका डालने वालीं यूनीवर्सिटी की वैज्ञानिक अंजू प्रीत ने कहा कि हम लोगों की पाकिस्तान को आतंकवाद का प्रायोजक देश घोषित करने के लिए प्रशासन से कहने वाली याचिका के समर्थकों ने 10 लाख हस्ताक्षरों का लक्ष्य निर्धारित किया है। हम इससे पहले नहीं रुकेंगे।

उन्होंने कहा कि अब सक्रियता दिखाने का समय है। व्हाइट हाऊस के साथ याचिका पर हस्ताक्षर करने में हम सब हाथ मिलाएं। आतंकवाद पर कांग्रेस की उप समिति के अध्यक्ष टेड पो ने कांग्रेस के एक और साथी सदस्य डाना रोहराबेकर के साथ मिलकर याचिका एच आर 6069 पेश की थी। याचिका पर 21 अक्‍टूबर तक दस्तखत किए जा सकते हैं।

कांग्रेस सदस्य और आतंकवाद पर सदन की उप समिति के अध्यक्ष टेड पोए ने कांग्रेस सदस्य डाना रोरबाशर के साथ मिल कर प्रतिनिधि सभा में ‘पाकिस्तान स्टेट स्पॉन्सर ऑफ टेरॅरिज्म डेजिग्नेशन एक्ट’ पेश किया था। याचिका में कहा गया है कि अमेरिका, भारत और उन कई अन्य देशों के लिए यह याचिका महत्वपूर्ण है जो पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से लगातार प्रभावित हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की पहल के तौर पर व्हाइट हाउस की वेबसाइट पर ऑनलाइन याचिका अमेरिकी नागरिकों को एक खास मुद्दे पर प्रशासन के समक्ष अभियान के लिए एक मंच मुहैया कराती है।
इस बीच, व्हाइट हाउस ने कहा है कि वह फिलहाल, पाकिस्तान के साथ आतंकवाद से निपटने की अपनी क्षमता को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।

Updated : 2016-10-04T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top