Top
Home > Archived > नकवी ने राहुल को बताया संसद का 'गूंगा गुड्डा'

नकवी ने राहुल को बताया संसद का 'गूंगा गुड्डा'

नकवी ने राहुल को बताया संसद का गूंगा गुड्डा
X

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी का संसद में लगातार हंगामा जारी है। कांग्रेस के इस रवैये के चलते मॉनसून सत्र में एक दिन भी कार्यवाही सही ठंग से नहीं हो सकी है और तमाम जरूरी काम अटके पड़े हैं। मोदी सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों में शामिल मुख्तार अब्बास नकवी ने राहुल और कांग्रेस पर ब्लॉग लिखकर उनकी जमकर आलोचना करते हुए निशाना साधा।
नकवी ने लिखा, संसद का ‘गूंगा गुड्डा’, ‘सडक़ का सूरमा’ बनने की कोशिश में ‘घर (संसद) का न घाट (सडक़) का’ की स्थिति में आ गया है। संसद और सडक़ की सियासत जन सरोकार और देश के विकास के मुद्दों के इर्द-गिर्द सिमटी हुई होती है।
संसदीय लोकतंत्र का यह पहला मौका है जब ‘ग्रैंड ओल्ड पार्टी’ के ‘ब्रैंड न्यू लीडर’ न तो सडक़ की हकीकत समझ पा रहे हैं, न ही संसद का महत्व। राहुल बाबा का ‘नॉनसेंस से न्यूसेंस’ तक का राजनैतिक सफर संसदीय सोच और सडक़ की समझ से कोसों दूर है। संसद से कांग्रेस के मंत्री निष्कासित करने के बाद कांग्रेस बौखला गई है।
संसद के दोनों सदनों में कार्यवाही को मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने बिना किसी तर्क के बाधित किया है, जबकि सरकार सभी मुद्दों पर चर्चा और उसके समाधान की बात बार-बार दोहराती रही, बातचीत-बहस के लिए कांग्रेस से बराबर विनती करती रही, लेकिन कांग्रेस अपने असहयोगात्मक और अहंकारी रुख पर कायम रही। प्रजातंत्र में विपक्ष की अहम भूमिका होती है, लेकिन इस मानसून सत्र के दौरान कांग्रेस ने जो व्यवधानकारी और नाकारात्मक रणनीति अपनाई है, उसे किसी भी तरह से उचित नहीं माना जा सकता।
सुषमा स्वराज द्वारा अपना पक्ष रखने के बाद भी कांग्रेस इस मामले को छोडने को तैयार नहीं है, इससे तो यही साबित होता है कि कांग्रेस पूरी तरह से ‘राजनैतिक दिवालिया पार्टी’ बन गई है। कुल 9 बिल इस सत्र में इंट्रोडक्शन के लिए निर्धारित थे, 8 बिल जोकि राज्यसभा में पेंडिंग हैं, पारित किए जाने थे, जिनमें दो अत्यंत महत्वपूर्ण बिल त्रस्ञ्ज, रियल एस्टेट (रेग्युलेशन ऐंड डिवलपमेंट) बिल, 2013 भी हैं।


Updated : 2015-08-09T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top