Home > Archived > बॉम्बे हाईकोर्ट से नेस्ले को राहत,मैगी से बैन हटा, दोबारा जांच के आदेश

बॉम्बे हाईकोर्ट से नेस्ले को राहत,मैगी से बैन हटा, दोबारा जांच के आदेश

बॉम्बे हाईकोर्ट से नेस्ले को राहत,मैगी से बैन हटा, दोबारा जांच के आदेश
X

मुंबई। बॉम्बे हाईकोर्ट ने मैगी बनाने वाली कंपनी नेस्ले को बडी राहत दी है। नेस्ले इंडिया की याचिका को मंजूर करते हुए बॉम्बे cहाई कोर्ट ने मैगी पर रोक के आदेश को रद्द कर दिया है। यही नहीं बॉम्बे हाई कोर्ट ने एपएसएसएआई से जवाब भी मांगा है। हाई कोर्ट ने पूछा है कि आखिर मैगी पर बैन क्यों लगाया गया।
हालांकि, हाई कोर्ट ने फिलहाल नेस्ले को मैगी बेचने की अनुमति नहीं दी है। हाई कोर्ट ने कहा है कि अभी टेस्ट की प्रक्रिया चल रही है। जब तक टेस्ट पूरा नहीं हो जाता नेस्ले कंपनी बाजार में मैगी को नहीं बेच पाएगी। कोर्ट ने कंपनी को एक चांस देते हुए कहा कि छह हफ्ते के अंदर देश के तीन लैब में मैगी के सैंपल टेस्ट कराएं। सैंपल सही पाए जाने पर मैगी बाजार में दोबारा बेची जा सकेगी। इस समय पूरे देश में मैगी पर बैन लगा हुआ है। नेस्ले ने इसे हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।
मैगी पर देश भर में बैन लगाने का फैसला सही था या नहीं, इस मामले में नेस्ले की पिटीशन पर बॉम्बे हाइकोर्ट में गुरूवार को सुनवाई हुई। कोर्ट ने कहा कि बैन मनमाने तरीके से लगाया गया था। इसमें नेचुरल जस्टिस हुआ, ऎसा नहीं लगता। हाईकोर्ट ने दिया चांस, पर यह रखी शर्त... हाईकोर्ट ने कहा कि मैगी के सभी 9 वैरिएंट्स का टेस्ट होगा। इसके लिए कोर्ट ने मोहाली, जयपुर और हैदराबाद के तीन लैबों के नाम भी सुझाए हैं। यहां नेस्ले को मैगी के पांच-पांच सैंपल भेजने होंगे।
एपएसएसएआई ने जून में नेस्ले को देश भर में मैगी के प्रोडक्शन, सेल और डिस्ट्रीब्यूशन पर रोक लगाने के आदेश दिए थे। मैगी के 9 वेरिएंट्स में लेड (सीसा) तय लिमिट से ज्यादा पाया गया था। फूड अथॉरिटी ने इसे न खाने लायक माना था।
सरकार ने मंगलवार को नेस्ले इंडिया के खिलाफ 640 करोड रूपए का दावा भी ठोक रखा है। इस मामले में शुक्रवार को सुनवाई होगी। सरकार के इस फैसले को कंपनी ने निराशाजनक बताया था। केंद्र सरकार ने आरोप लगाया है कि कंपनी ने बिजनेस में गलत तौर-तरीके अपनाए, कंज्यूमर्स को खराब सामान बेचा और बगैर मंजूरी के मैगी ओट्स नूडल बेचे।
नेस्ले का दावा था कि प्रतिबंध गैरकानूनी, मनमाना, असंवैधानिक है जो समानता और व्यापार के अधिकार का उल्लंघन है। नेस्ले ने दावा किया था कि इस प्रतिबंध से नैचरल जस्टिस के सिद्धांत का उल्लंघन हुआ है, क्योंकि इसे उचित सुनवाई का मौका नहीं दिया गया। नेस्ले ने यह भी दावा किया कि इसके अपने परीक्षणों में सामने आया है कि मैगी नूडल्स सुरक्षित है और यूके, ऑस्ट्रेलिया एवं सिंगापुर समेत किसी भी देशों में इसमें कोई समस्या नहीं पाई गई है। हाई कोर्ट ने नेस्ले को मैगी को अन्य देशों में भी एक्सपोर्ट करने की अनुमति दी थी।

Updated : 2015-08-13T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top