Latest News
Home > Archived > भूकंप पीडि़तों के लिए संघ ने किया धन संग्रह

भूकंप पीडि़तों के लिए संघ ने किया धन संग्रह

भूकंप पीडि़तों के लिए संघ ने किया धन संग्रह
X


ग्वालियर। नेपाल में आए भीषण भूकंप में प्रभावित लोगों की सहायतार्थ शहरवासी मुक्त हस्त से दान दे रहे हैं। ऐसा प्रतीत ही नहीं हो रहा है कि भूकंप दूसरे देश नेपाल में आया है। लोग कह रहे हैं भले ही वह नेपालवासी हैं लेकिन मानवता के नाते विपदा की इस घड़ी में हम सभी उनके साथ हैं। कुछ ऐसा ही अनुभव आज उस समय हुआ जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक नेपाल भूकंप पीडि़तों की सहायता के लिए धन संग्रह करने निकले।
संघ के स्वयंसेवक दोपहर बाद महाराज बाड़ा पर एकत्रित हुए और नेपाल भूकंप पीडि़तों की सहायतार्थ धन संग्रह का काम शुरू किया। स्वयंसेवक महाराज बाड़ा और सराफा बाजार तथा आसपास के मार्केटों में व्यापारियों से आपदा पीडि़तों के लिए मुक्त हस्त से दान की अपील कर रहे थे। जैसे ही व्यापारियों को इस बात का पता चला कि संघ के स्वयंसेवक भूकंप पीडि़तों के लिए धन संग्रह कर रहे हैं वे स्वयं दान के लिए आगे आ गए। बहुत सारे व्यापारी तो ऐसे थे जिन्होंने न केवल भूकंप पीडि़तों के लिए सहायता राशि दान दी बल्कि इस पुनीत कार्य में हाथ बंटाने साथ हो लिए।
धन संग्रह का यह कार्य देर शाम तक जारी रहा। उल्लेखनीय है कि भूकंप पीडि़तों की सहायतार्थ संघ स्वयंसेवक रात दिन तन-मन और धन से सेवाकार्य में जुटे हैं। संघ के सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रय होसबोले तो नेपाल में ही पीडि़तों के बीच हैं। उधर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री सुरेश भैय्या जी जोशी ने स्वयंसेवकों तथा देशवासियों से भूकंप प्रभावितों की सहायता के लिए खड़े होने का आव्हान विगत दिवस किया था। संघ के पन्द्रह हजार से अधिक स्वयंसेवक एवं चिकित्सकों का दल पहले से ही नेपाल में आपदा पीडि़तों की मदद में जुटा है। ग्वालियर में आज संघ द्वारा आयोजित धन संग्रह अभियान में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के जिला संघचालक विजय जी गुप्ता, संघ के मध्यभारत प्रांत के सहकार्यवाह श्री यशवंत इंदापुरकर, मध्यभारत प्रांत के सह संपर्क प्रमुख डॉं जे एस नामधारी, गुलशन जी गोगिया, उमेश अरोरा, सोना चांदी व्यवसायी संघ के प्रेमजी बंसल, पूर्व पार्षद मुन्नेश जादौन, रवि जी अग्रवाल, रवि बत्रा, गिर्राज सेामानी, संजय अग्रवाल, धनेश जैन, नंदकिशोर अग्रवाल सहित बड़ी संख्या में संघ के स्वयंसेवक व स्थानीय व्यवसायीगण शामिल थे।


Updated : 2015-04-30T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top