Latest News
Home > Archived > भूकंप के झटकों से फिर हिला नेपाल, मरने वालों की संख्या 5000 तक पहुंची

भूकंप के झटकों से फिर हिला नेपाल, मरने वालों की संख्या 5000 तक पहुंची

भूकंप के झटकों से फिर हिला नेपाल, मरने वालों की संख्या 5000 तक पहुंची
X

नई दिल्ली । तबाही के 4 दिन के बाद भी नेपाल में भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं। मंगलवार तड़के एक घंटे के अंदर भूकंप के दो-दो झटके महसूस किए गए। पहला झटका सुबह 4 बजकर 10 मिनट पर महसूस किया गया, जबकि दूसरा 5 बजकर 5 मिनट पर आया। भूकंप से नेपाल में अब तक मरने वालों की संख्या 5000 हो गई है। अकेले काठमांडू में मरने वालों की तादाद 1100 के आसपास जा चुकी है।भूकंप से नेपाल में अब तक कुल 8063 लोग घायल हुए है। इस बीच नेपाल से तीन भारतीयों के शव एयर इंडिया के विमान से दिल्ली लाए गए हैं।पूरे नेपाल में भूकंप से करीब 80 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। काठमांडू में ही एक हजार से ज्यादा लोगों की सांसें थम गईं, जबकि 15 जगहों पर मलबे के नीचे से लोगों को निकालने का काम जारी है। मलबे से भी और लाशें निकलने की संभावना है। मरने वालों की गिनती कहां तक जाएगी, किसी को अंदाजा नहीं।नेपाल में आए भूकंप के तीन दिन बाद वहां के लोगों को दवाओं और भोजन कि भारी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। भूंकप के बाद घायल हुए और बेघर हुए लोगों के लिए नेपाल में दवाइयों और भोजन कम पड़ रहे हैं। नेपाल के लोगों को इन बुनियादी चीजों की सख्त जरूरत है और सरकार उन्हें सामान वितरित करना चाहती है। नेपाल ने भारत, चीन और अन्य देशों से अविलंब सहायता प्रदान करने का आग्रह किया है।नेपाल के अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हजारों भारतीय इकट्ठे हो गए हैं। वे सभी दो दिन पहले आए भीषण भूकंप के बाद अपने घर जाने के लिए बेताब हैं और वतन वापसी के लिए प्रयास कर रहे हैं। नेपाल के लिए राहत सामग्री ले जा रहे विमान ने अभी तक 2,000 भीरतीयों को बाहर निकाल लिया है। निजी भारतीय विमानन कंपनियों ने भी नेपाल से लोगों को बाहर निकालने का काम शुरू कर दिया है। काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास ने भारतीयों से धैर्य बनाए रखने के लिए कहा है। इसके अलावा दूतावास ने उन भारतीयों की आर्थिक सहायता करने का भी वादा किया है जिनके पास धन नहीं बचा है।भूकंप के बाद रविवार रात से हो रही बारिश नेपाल ने हालात को बद से बदतर बना दिया। वहीं, काठमांडू सहित नेपाल के कई हिस्सों में बारिश से बचाव व राहत कार्य बुरी तरह प्रभावित हुआ है। अभी भी मलबे में हजारों की संख्या में लोग फंसे हैं। नेपाल आर्मी व भारत की तरफ से राहत व बचाव कार्य युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है। कई अंतरराष्ट्रीय राहत दल भी बचाव के लिए नेपाल पहुंच गए हैं। भारत ने वायुसेना के 13 विमान राहत कार्य के लिए लगाए हैं। भारत की तरफ से एनडीआरएफ की 10 टीमें बचाव कार्य में जुटी हैं। कई भरतीय मेडिकल टीमों समेत कई मेडिकल टीमें भी घायलों को उपचार मुहैया करा रही हैं। वहीं, भारत से अलग-अलग मंत्रालयों के अधिकारियों की एक टीम नेपाल के लिए रवाना हुई है। इस टीम में गृह, रक्षा, विदेश व एनडीएम के अधिकारी शामिल हैं। यह टीम वहां राहत और बचाव के काम पर नजर रखेगी। गृह मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव बीकेप्रसाद टीम की अध्यक्षता कर रहे हैं।

Updated : 2015-04-28T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top