Home > Archived > पीएससी का पेपर आउट कराने वाला इनामी पकड़ा

पीएससी का पेपर आउट कराने वाला इनामी पकड़ा

ग्वालियर। लोक सेवा आयोग की विगत 18 मई 2014 को हुई परीक्षा का पेपर आऊट कराने वाले फरार 10 हजार रुपये के इनामी आरोपी को बुधवार की सुबह पड़ाव थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर इसे एसटीएफ को सौंप दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार लाखन सिंह पुत्र विजय सिंह रघुवंशी निवासी बामौरी ताल अशोक नगर पर आरोप है कि उसने 18 मई 2014 को हुई पीएससी परीक्षा का पेपर आऊट कर बेचा था। इस मामले में ग्वालियर से लाखन के अलावा तीन अन्य आरोपी बनाए गए थे जो पूर्व में गिरफ्तार हो चुके हैं। चौथा आरोपी लाखन सिंह फरार चल रहा था। एसटीएफ की ओर से इसकी गिरफ्तारी पर 10 हजार रुपये का इनाम भी घोषित था। बुधवार की सुबह पुलिस ने इसे पड़ाव क्षेत्र में घूमते हुए पकड़ा तथा एसटीएफ टीआई शैलेन्द्र जादौन को सौंप दिया। गिरफ्तार आरोपी ग्राम बामोरीताल में ही संविदा शिक्षक है। 

हाजिर हुआ पर बताया गिरफ्तार?
10 हजार के इनामी फरार आरोपी लाखन सिंह रघुवंशी की गिरफ्तारी पुलिस द्वारा पकड़कर की गई है या फिर वह स्वयं ही पड़ाव थाने पहुंचकर हाजिर हुआ है, इस कहानी में पेच है। सूत्र बताते हैं कि आरोपी जिस गांव का रहने वाला है उसके पास ही के रहने वाले पड़ाव थाना प्रभारी सोम सिंह रघुवंशी भी हैं। संविदा शिक्षक का बेटा फरारी के कारण स्कूल भी नहीं जा पा रहा था और बेटे पर इनाम भी बढ़ती जा रही थी। इस कारण लाखन सिंह के पिता विजय सिंह ने पड़ाव थाना प्रभारी से संपर्क साधकर उसे हाजिर कराने की बात कही। इस तरह वह स्वयं ही पड़ाव थाने पहुंच गया।
पकड़ा तो भागा क्यों नहीं?
पड़ाव थाना पुलिस द्वारा आरोपी लाखन सिंह को पकड़े जाने के बाद एसटीएफ टीआई शैलेन्द्र ङ्क्षसह जादौन को सूचना दी गई। वह कार लेकर पड़ाव थाने पहुंचे। दोपहर करीब 12:30 बजे वह इस आरोपी को अपने साथ कार में बैठाकर ले गए। खास बात यह रही कि इस आरोपी को पीछे के रास्ते से निकालकर सड़क पर खड़े होने के लिए कहा गया। वह अकेला सड़क पर जाकर खड़ा हो गया। इस बीच टीआई श्री जादौन अपनी कार लेकर सड़क पर पहुंचे और आरोपी को अपने साथ बैठा लिया। अगर आरोपी स्वयं हाजिर न होकर पकड़ा गया होता तो क्या लाखन पुलिस से दूरी होने पर भागता नहीं? 

Updated : 2015-02-05T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top