Home > Archived > रोजगार सहायक का अध्यापक पति रिश्वत लेते दबोचा

रोजगार सहायक का अध्यापक पति रिश्वत लेते दबोचा

लोकायुक्त टीम की कार्रवाई४बीपीएल पर्ची के लिए मांगें थे तीन हजार, श्योपुर जिले में पदस्थ

मुरैना/रामपुर। लोकायुक्त ग्वालियर की टीम ने रामपुर क्षेत्र में जोंसिल का पुरा की रोजगार सहायक के पति को अपनी पत्नी के नाम पर तीन हजार रूपये की घूस लेते रंगे हाथों दबोच लिया। आरोपी ने बीपीएल हितग्राही से पात्रता पर्ची देने के लिए तीन हजार रूपये की मांग की थी। यह पर्ची श्योपुर जिले में पदस्थ सहायक अध्यापक मुकेश जाटव की पत्नी श्रीमती मीना जाटव को जारी करनी थी जो जोंसिल के पुरा में रोजगार सहायक के पद पर पदस्थ है। उक्त कार्यवाही रामपुर में सोमवार को दोपहर लोकायुक्त डीएसपी आरबी शर्मा के नेतृत्व में उस समय की की गई, जब माता मंदिर पर चौपाल का आयोजन चल रहा था।
लोकायुक्त डीएसपी आरबी शर्मा से मिली जानकारी के अनुसार सबलगढ जनपद की ग्राम पंचायत जोंसिल का पुरा निवासी बनवारीलाल कुशवाह ने 24 नवंबर को लोकायुक्त एसपी के समक्ष शिकायत की। जिसमें बताया कि ग्राम जोंसिल का पुरा की रोजगार सहायक मीना जाटव के पति मुकेश जाटव द्वारा बीपीएल पात्रता पर्ची के नाम पर तीन हजार रूपये की मांग की जा रही है। मामला दर्ज करने के बाद लोकायुक्त पुलिस ने फरियादी बनवारी को वॉइस रिकार्डर दिया। रिश्वत मांगनें का वॉयस सैम्पल मिलने के बाद लोकायुक्त की टीम ने 7 दिसंबर को मुकेश जाटव को रंगे हाथ पकडऩे की योजना बनाई। फरियादी बनवारी ने रोजगार सहायक मीना के पति मुकेश को रंग लगे हुए तीन हजार रूपये के नोट थमाए, तभी लोकायुक्त पुलिस की टीम ने उन्हें दबोच लिया। हाथ धुलाए जाने पर निकले रंग ने आरोपी मुकेश की सच्चाई को उजागर कर दिया। कार्रवाई को डीएसपी आरबी शर्मा के साथ निरीक्षक शैलेन्द्र गोविल, कवीन्द्र चौहान, पीके चतुर्वेदी, प्रधान आरक्षक रामगोपाल गोयल, आरक्षक हेमंत शर्मा ने अंजाम दिया।
श्योपुर जिले में सहायक अध्यापक है आरोपी मुकेश जाटव
डीएसपी लोकायुक्त आरबी शर्मा ने बताया कि रिश्वत लेते पकड़ा गया रोजगार सहायक मीना जाटव का पति श्योपुर जिले में सहायक अध्यापक के रूप में पदस्थ है। लेकिन अधिकांश समय मुकेश गांव में ही रहता है और अपनी पत्नी के सारे कामकाज को निपटाता है।
जिलाधीश की चौपाल से पहले हुई कार्रवाई
लोकायुक्त ने सोमवार की सुबह करीब दस बजे कार्रवाई को अंजाम दिया। करीब एक घंटे बाद ही गांव में कलेक्टर की चौपाल का आयोजन होना था। आयोजन से ऐनवक्त पहले हुई कार्रवाई अधिकारियों की मौजूदगी में संपन्न हुई चौपाल में जनचर्चा का विषय बनी रही।

Updated : 8 Dec 2015 12:00 AM GMT
Next Story
Top