Home > Archived > भर्ती बच्चें को पहचानने में होगी आसानी

भर्ती बच्चें को पहचानने में होगी आसानी

बच्चें को लगाए जाएंगे आई रिस्ट टेग
ग्वालियर। जयारोग्य चिकित्सालय समूह के कमलाराजा अस्पताल में आए दिन नवजात शिशुओं के बदलने के मामले सामने आते हैं, जिसके चलते शिशुओं के परिजनों के साथ विवाद भी सामने आते रहते है, लेकिन अब कमलाराज अस्पताल में भर्ती नवजात शिशुओं की पहचान के लिए उनके पैर में एक आई रिस्ट पहनाया जाएगा, जो कि अधीक्षक द्वारा आर्डर कर दी गई है। इससे उपस्थित नर्स व चिकित्सक बच्चों को पहचान सकेंगे। उल्लेखनीय है कि अभी तक बच्चों की पहचान के लिए चिकित्सकों द्वारा बच्चे के पैर में टेप पर बच्चे की मां का नाम लिख दिया जाता था, लेकिन कभी-कभी वह नाम मिट जाता था और बच्चे के परिजनों के साथ विवाद की स्थिति बन जाती थी। यह निर्णय शनिवार को आयोजित बैठक में अधीक्षक डॉ. जे.एस. सिकरवार ने लिए।
जल्द होगा एसएनटीयू व आब्शटेट्रिक वार्ड का लोकार्पण:- जयारोग्य चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ. जे.एस. सिकरवार ने शनिवार को कमलाराज अस्पताल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान डॉ. सिकरवार ने अस्पताल में नवनिर्मित एसएमटीयू एवं आब्शटेट्रिक वार्ड का लोकार्पण जल्द से जल्द कराने के लिए वार्डों में रखे उपकरणों को एसेम्बल करने के आदेश सम्बंधित अधिकारियों को दिए।
बिना गेट पास प्रवेश देना महंगा पड़ा :- शनिवार को अधीक्षक डॉ. जे.एस. सिकरवार द्वारा कमलाराजा अस्पताल का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान डॉ. सिकरवार ने ड्यूटी गार्ड द्वारा लापरवाही बरतते हुए बिना गेट पास के मरीजों के परिजनों को अंदर आने दिया जा रहा था। इस पर अधीक्षक ने तत्काल कार्यवाही करते हुए सुरक्षा कर्मी पर पांच सौ रुपए का जुर्माना लगा दिया।
सफाई एजेंसी पर एक हजार का जुर्माना:- निरीक्षण के दौरान डॉ. सिकरवार को कमलाराज अस्पताल में कई जगहों पर गंदगी देखने को मिली। इस उन्होंने कार्यवाही करते हुए सुरक्षा एजेंसी द्वारा सही तरह से सफाई न करने पर एक हजार रुपए का जुर्माना लगा दिया।

Updated : 20 Dec 2015 12:00 AM GMT
Next Story
Top