Home > Archived > प्रधानमंत्री मोदी की ब्रिटेन और तुर्की यात्रा आगामी 12 नवंबर से

प्रधानमंत्री मोदी की ब्रिटेन और तुर्की यात्रा आगामी 12 नवंबर से

प्रधानमंत्री मोदी की ब्रिटेन और तुर्की यात्रा आगामी 12 नवंबर से
X

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आगामी 12 नवंबर से ब्रिटेन और तुर्की की यात्रा पर जाने वाले है। अपने ब्रिटेन यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी व्यापार जगत की नेताओं के साथ द्विपक्षीय बातचीत के अलावा तुर्की में जी 20 शिखर बैठक में शामिल होंगे।
अपने फेसबुक एकाउट में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अपने यात्रा के पहले दौर में वह पहले ब्रिटेन जाएंगे। उन्होंने कहा कि उनकी यह यात्रा दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग के उद्धेश्य की गई है। ब्रिटेन यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बकिंघम पैलेस में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से मिलने के अलावा प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के साथ आपसी द्विपक्षीय सहयोग के मुद्धों पर बातचीत करेंगे और लंदन स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ ही उस घर में जाएंगे, जहां बाबा साहब भीमराव आंबेडकर कभी रहा करते थे। इसके अतिरिक्त वे ब्रिटेन संसद को भी संबोधित करेंगे।
उल्लेखनीय है कि लंदन स्थित अंबेडकर के घर को हाल ही में महाराष्ट्र सरकार ने अधिग्रहीत किया गया है। इस घर को लोगों द्वारा बाबा साहेब को श्रंद्धाजलि देने और घूमने के लिए जल्द ही एक संग्रहालय में तब्दील किया जाएगा।
भारत और ब्रिटेन के बीच अधिक प्रभावी आर्थिक सहयोग के रास्ते तलाशने के लिए प्रधानमंत्री मोदी लंदन में एक गोल मेज पर मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ बातचीत करेंगे। उन्होंने उम्मीद जताई कि प्रधानमंत्री के तौर पर उनकी पहली ब्रिटेन यात्रा से रक्षा और सुरक्षा सहित तमाम रिश्ते मजबूत होंगे। स्वच्छ ऊर्जा पर व्यापक विचार-विमर्श किया जाएगा, ताकि 1.25 अरब भारतीयों के लिए स्वच्छ ऊर्जा को और अधिक किफायती एवं सुलभ बनाने के भारत के प्रयास में प्रगति हासिल करने किया जा सके। इसके साथ ही विज्ञान, प्रौद्योगिकी और शिक्षा में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर भी जोर होगा।
14 नवंबर से अपनी टर्की यात्रा का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों को अपनाए जाने और पेरिस में जलवायु परिवर्तन पर आयोजित सम्मेलन कॉप-21 सम्मेलन के बाद जी-20 का शिखर सम्मेलन आयोजित करना एक बेहतर प्रयास है। इससे वैश्विक स्तर पर कई समस्याओं पर व्यापक विचार-विमर्श करना संभव हो सकेगा।

Updated : 7 Nov 2015 12:00 AM GMT
Next Story
Top