Home > Archived > भारतीय गेंदबाजी इकाई को बरकरार रखने से फायदा मिलेगा: फ्लेमिंग

भारतीय गेंदबाजी इकाई को बरकरार रखने से फायदा मिलेगा: फ्लेमिंग

सिडनी। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में बुरी तरह फ्लॉप रहे भारतीय गेंदबाजी इकाई का बचाव करते हुए पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज डेमियन फ्लेमिंग ने कहा कि खिलाड़ियों के मौजूद समूह को बरकरार रखने से लंबे समय में फायदा मिलेगा। फ्लेमिंग ने कहा, ‘‘मैं इस गेंदबाजी इकाई को एक साथ रखना चाहता हूं जिससे कि वे सीखते रहे। ऐसा लग रहा हैं कि इशांत शर्मा के प्रदर्शन में निरंतरता आ रही है। उमेश यादव और वरूण आरोन के रूप में उनके पास दो ऐसे गेंदबाज हैं जो 90 मील प्रति घंटा से अधिक की रफ्तार से गेंदबाजी कर सकते हैं और साथ ही गेंद को भी स्विंग करा सकते हैं। दुनिया में काफी सारे ऐसे गेंदबाज नहीं हैं जो ऐसा कर सकते हैं। इसलिए मैं उन्हें अधिक से अधिक खिलाना चाहूंगा।’’
फ्लेमिंग ने कहा, ‘‘मोहम्मद शमी प्रभावी है लेकिन वह काफी तेज गति से गेंद नहीं करता और ना ही गेंद को अधिक मूव कराता है। वह औसत है। भारत के साथ भुवनेश्वर कुमार भी है जिसे स्विंग गेंदबाजी का तोहफा मिला है और अनुकूल हालात में भारत उसे खिला सकता है।’’ फ्लेमिंग का मानना है कि मोहम्मद शमी और आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन जैसे गेंदबाज कुछ मौकों पर विकेट चटका सकते हैं लेकिन इसके लिए कीमत चुकानी पड़ती है और समय आ गया है कि ये दोनों अपने प्रदर्शन में सुधार करें।

Updated : 12 Jan 2015 12:00 AM GMT
Next Story
Top