Latest News
Home > Archived > मेडिसन स्‍क्‍वायर में नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी सांसदों का भी जीता दिल

मेडिसन स्‍क्‍वायर में नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी सांसदों का भी जीता दिल

मेडिसन स्‍क्‍वायर में नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी सांसदों का भी जीता दिल
X

न्यूयार्क | अमेरिका दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिर्फ प्रवासी भारतीयों का ही नहीं बल्कि लगभग 40 शीर्ष अमेरिकी सांसदों का दिल भी जीत लिया। इन सांसदों ने उनके शब्दों को ‘प्रेरणादायी और विहंगम दृष्टिकोण से परिपूर्ण’ बताया।
मेडिसन स्क्वायर में अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि वह एक छोटे आदमी थे, जो ‘चाय बेचकर’ यहां तक पहुंचे हैं लेकिन ‘छोटे लोगों के लिए बड़े काम’ करने की इच्छा आरखते हैं। मोदी की इस बात को सुनकर वहां मौजूद कांग्रेस सदस्य उनके साथ एक खास जुड़ाव महसूस करने लगे। इस अवसर पर मौजूद अमेरिका के शीर्ष 40 सांसदों में से एक ने उन्हें एक ‘करिश्माई’ व्यक्ति बताया जबकि कई अन्य को लगा कि वे ‘देश का कायाकल्प उनके हाथों होना है’। न्यूनतम शासन पर उनके विचारों को भी सांसदों ने काफी पसंद किया।
जॉर्जिया से कांग्रेस सदस्य हैनरी सी ‘हैंक’ जॉनसन ने कहा कि अब मैं समझा कि भारत के लोगों ने उन्हें क्यों चुना है? टैक्सास से कांग्रेस के सदस्य पेटे ओल्सन ने कहा कि उनके पास एक परिपूर्ण दृष्टिकोण है। उनके पास उसे सच करने की योजना है। प्रधानमंत्री मोदी ने इस स्थान को एक रॉकस्टार की तरह भीड़ से भर दिया। मौजूदा प्रतिनिधि सभा में भारतीय मूल के एकमात्र अमेरिकी सांसद एमी बेरा ने मोदी के भाषण को प्रेरणादायी और विहंगम दृष्टिकोण से परिपूर्ण बताया।
बेरा ने कहा कि आज भारतीय-अमेरिकी समुदाय जश्न मना रहा है। मैं अमेरिका और भारत के संबंध को पुनर्जीवित करने के लिए मिलकर काम जारी रखने की उम्मीद करता हूं। कांग्रेस की महिला सदस्य तुलसी गब्बार्ड ने कहा कि न्यूयार्क के प्रसिद्ध मेडिसन स्क्वायर गार्डन में जोश से भरे भीड़ को दिए उनके संबोधन में उनका शांति एवं मैत्री का संदेश सुनकर बहुत अच्छा लगा। प्रधानमंत्री को उनके होटल पर फोन करके उनसे बात करने वाली गब्बार्ड ने कहा कि मोदी की यह यात्रा अमेरिका और भारत के बीच संबंध विकसित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण और सकारात्मक कदम है। यह संबंध हमारे साझा लोकतांत्रिक मूल्यों और आपसी समृद्धि एवं सुरक्षा पर किए जाने वाले फोकस पर आधारित है। प्रधानमंत्री और गब्बार्ड के बीच चर्चाएं मुख्यत: गब्बार्ड के भारत से जुड़ी रूचियों पर आधारित थीं।
गब्बार्ड ने प्रधानमंत्री को गीता भेंट की। उनका कहना था कि अमेरिकी प्रतिनिधि सभा का सदस्य चुने जाने पर उन्होंने गीता की शपथ ली थी। न्यूयार्क से कांग्रेस की महिला सदस्य ग्रेस मेंग ने कहा कि मेडिसन स्क्वायर में प्रधानमंत्री मोदी का भाषण अपने आप में परिपूर्ण था। उन्होंने सभी सही विषयों को छुआ, सभी सही मुद्दों को उठाया और अमेरिका एवं भारत के संबंध को एक नयी उंचाई पर ले आए। मेंग ने कहा कि मेडिसन स्क्वायर गार्डन के मंच पर होना और इस ऐतिहासिक एवं महत्वपूर्ण समारोह का हिस्सा बनना एक सम्मान की बात थी। मैं भारत और अमेरिका के बीच के संबंध को और भी अधिक मजबूत बनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी एवं उनके प्रशासन के साथ काम करने का इंतजार कर रही हूं।
व्योमिंग से कांग्रेस की महिला सदस्य सिंथिया ल्यूमिन्स ने मोदी को भारत के लिए एक परिवर्तनकारी शख्सियत बताया। मोदी के मुख्यमंत्रित्वकाल के दौरान सिंथिया ने पिछले साल उनसे गुजरात में मुलाकात की थी। उन्होंने कहा कि मेरे पास बहुत कम भारतीय मूल के अमेरिकी मतदाता हैं लेकिन मैं इस समारोह के लिए व्योमिंग से आई हूं क्योंकि मुझे यकीन है कि भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए वे परिवर्तनकारी शख्सियत हैं। उन्होंने कहा कि सांसद उस समय उनसे बेहद प्रभावित हो गए थे, जब मोदी ने कहा कि वे एक छोटे आदमी हैं और छोटे लोगों के लिए बड़ी चीजें करना चाहते हैं।
उन्होंने कहा कि वे मेरी ही तरह के व्यक्ति हैं, जो शासन को किसी (समस्या के) हल के रूप में नहीं देखते। वे देश के सुधार में सरकार को निर्देशक या नियंत्रक के बजाय सहयोग करने वाले की भूमिका में देखते हैं। एक रिपब्लिकन होने के नाते मैं भी इन्हीं चीजों में यकीन रखती हूं।
भारत अमेरिका संबंध के प्रति एकजुटता का अप्रत्याशित प्रदर्शन करते हुए तीन दर्जन से अधिक शीर्ष अमेरिकी सांसद यहां महत्वपूर्ण मैडिसन स्क्वायर पर आयोजित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत समारोह में शामिल हुए। ऐसा पहली बार हुआ है कि इतनी बड़ी संख्या में अमेरिकी सांसदों ने भारतीय मूल के अमेरिकियों द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शिरकत की। एक ऐसा दुर्लभ मौका भी था जब कई अमेरिकी सांसद प्रवासियों के कार्यक्रम में शामिल हुए। सीनेट के सदस्यों में प्रमुख प्रभावशाली सीनेट विदेश संबंध समिति के अध्यक्ष राबर्ट मेंडेज थे। अन्य सीनेट सदस्यों में इंडियाना से जो डोन्नेली, न्यूजर्सी से कोरी बुकर आदि थे। साउथ कैरोलीना की भारतीय मूल की अमेरिकी गवर्नर निक्की हेली ने भी कार्यक्रम में हिस्सा लिया। वह मंच पर मोदी और अन्य निर्वाचित प्रतिनिधियों के साथ थीं।
इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का करीब 20 हजार अनिवासी भारतीयों ने आज उस समय तालियों की गड़गड़ाहट से भव्य स्वागत किया जब वह मेडिसन स्क्वायर गार्डेन में 360 डिग्री के घूमते मंच से लोगों को संबोधित कर रहे थे। केसरिया रंग का नेहरू जैकेट और पीला कुर्ता पहने मोदी ने खचाखच भरे इंडोर स्टेडियम के लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। उन्होंने 360 डिग्री के घूमते मंच से लोगों को संबोधित किया जिसमें अमेरिकी सीनेटर और कांग्रेस सदस्य शामिल थे। इंडोर स्टेडियम में मौजूद श्रोताओं में पुरूष, महिलाएं और बच्चे शामिल थे जिन्होंने कई बार तालियों की गड़गड़ाहाट से मोदी का स्वागत किया और जय हिंद के नारे लगाये। ये सभी लोग अमेरिकी धरती पर प्रधानमंत्री के संबोधन से काफी उत्साहित महसूस कर रहे थे।
उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यहां मेडिसन स्क्वायर गार्डन में संबोधन के बीच सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर ‘हैश मोदी एट मेडिसन’ प्रमुख हैशटैग में शामिल रहा। मोदी ने एनआरआई समुदाय को एक घंटे से अधिक समय तक संबोधित किया और ट्विटर पर उनकी टिप्पणी के समर्थन और विरोध में कई ट्वीट किये गये। प्रधानमंत्री के भाषण को कई लोगों ने ‘शानदार’ बताया जबकि कई ने इसे ‘असहनीय’ कहा। ट्विटर पर मौजूद हजारों लोगों खासकर भारतीयों ने इस हैशटैग का उपयोग किया।



Updated : 2014-09-29T05:30:00+05:30
Next Story
Share it
Top