Home > Archived > भारतीय मजदूर संघ की वेबसाइट का नया संस्करण शुरु

भारतीय मजदूर संघ की वेबसाइट का नया संस्करण शुरु

भारतीय मजदूर संघ की वेबसाइट का नया संस्करण शुरु
X


देश के सबसे बड़े ट्रेड यूनियन संगठन भारतीय मजदूर संघ (बीए$img_titleमएस) ने अपनी वेबसाइट का नया संस्करण आरंभ किया है। संगठन ने अपने स्थापना दिवस के मौके पर यहां आयोजित एक समारोह में नवीन संस्करण शुरु किया। बीएमस के देश भर में 80 लाख से अधिक सदस्य हैं और करीब 5860 यूनियन इससे जुड़ी हुई हैं। भारतीय श्रम मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार वर्ष 2002 में बीएमएस के सदस्यों की संख्या 6215797 थी। उल्लेखनीय है कि बीएमएस किसी भी अंतरराष्ट्रीय ट्रेड यूनियन से जुड़ा नहीं है। भारतीय मजूदर संघ किन परिस्थितियों में ट्रेड यूनियन के क्षेत्र में अस्तित्व में आया इससे इसके ट्रेड यूनियन आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका का पता चलता है। आटो यूनियन के संयुक्त सचिव शिजिन ने वेबसाइट का उद्घाटन किया। 12 यूनियनों से जुड़े करीब 400 लोगों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया। एन. नागरेश ने उपस्थित लोगों को वेबसाइट की सामग्री की जानकारी दी। बैठक की अध्यक्षता मेखाला अध्यक्ष बाबुजी ने की। इस मौके पर बीएमस के राष्ट्रीय संगठन सचिव बी. सुरेन्द्रन, भारत के पूर्व वित्त सचिव पी. टी. राव और केरल के उपाध्यक्ष एन. नागरेश भी मौजूद थे। यह वेबसाइट लेबर अफेयर्स का अध्ययन करने के इच्छुक लोगों के लिए रेफरेंस साइट का भी काम करेगा | इस वेबसाइट में बीएमएस की विभिन्न गतिविधियों, श्रमिक कानून, श्रम विषय पर अदालत के निर्णयों, विभिन्न स्तरों पर हो रहे विभिन्न ट्रेड यूनियनों के संयुक्त संघर्षों, विरोध-प्रदर्शन से संबंधित खबरों, सफल खबरों, राज्य-केन्द्र सरकार की नीतियों, अधिसूचनाएं, आदेश एवं कल्याणकारी योजनाओं, देश-विदेश की श्रम से संबंधित खबरों, असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों की समस्याओं, मीडिया रुम आदि सेक्सन हैं जिनमें प्रेस विज्ञप्ति, प्रतिक्रियाएं आदि होंगे। बीएमस के राष्ट्रीय संगठन सचिव बी. सुरेन्द्रन ने बताया कि वेबसाइट लांच करने का मुख्य लक्ष्य नवीन तकनीक का इस्तेमाल कर ट्रेड यूनियन आंदोलन की गतिविधियों एवं प्रयासों को देश के विभिन्न तबकों में पहुंचाना है। ट्रेड यूनियन आंदोलन में एक नया तत्व सविस एप्रोच जोड़ा गया है। हमें उम्मीद है कि सामाजिक एवं व्यापारिक गतिविधियों के लिए यह वेबसाइट सूचनाओं के एक संसाधन का काम करेगा। बीएमस वक्त की जरुरत के अनुसार अपने को ढाल रहा है और यह इसी दिशा में उठाया गया एक कदम है।


Updated : 24 July 2012 12:00 AM GMT
Next Story
Top