Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अन्य > उन्नाव : 24 घंटे के अंदर बुखार के कहर से सात की मौत, स्वास्थ्य विभाग मौन

उन्नाव : 24 घंटे के अंदर बुखार के कहर से सात की मौत, स्वास्थ्य विभाग मौन

उन्नाव : 24 घंटे के अंदर बुखार के कहर से सात की मौत, स्वास्थ्य विभाग मौन
X

उन्नाव/स्वदेश वेब डेस्क। अलग-अलग थाना क्षेत्रों में शनिवार की रात से रविवार की देर शाम तक बुखार की चपेट में आने से एक गांव में चार लोगों सहित सात लोगों की मौत हो चुकी है और दर्जनों लोग बुखार की चपेट में है। इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग इस महामारी से अंजान बना है।

औरास थाना क्षेत्र के धमियाना गांव में फैले विचित्र बुखार से शनिवार की देर शाम वृद्धा की मौत हो गई जबकि एक दर्जन लोग बुखार से पीड़ित हैं। थाना क्षेत्र के धमियाना गांव में रहने वाली वृद्धा सावित्री (65) पत्नी पिछले कई दिनों से विचित्र बुखार की चपेट में थी। शनिवार की देर शाम उसकी मौत हो गई। इसके अलावा गांव में दर्जनों लोग बुखार से पीड़ित हैं जिनमें कल्लू, भरोसे, लालता कौशल, अंकेश, नन्हकी, सियादुलारी हैं। इसके अलावा मनिकापुर मवई धमियाना पास के ही गांवों परेवरी, प्रताप खेड़ा, गोडवा, अदौरा, खेतऊ सहित दर्जनों गांवों में बुखार का कहर है। मात्र एक चिकित्सक के सहारे पूरे क्षेत्र की स्वास्थ्य सेवाएं निर्भर हैं। लोगों ने अन्य स्टाफ बढ़ाये जाने की मांग की है। पेरौरी गांव में रहने वाले टुर्री की सात वर्षीय बेटी जेबा पिछले कई दिनों बुखार की चपेट में थी। रविवार की देर शाम उसकी भी मौत हो गई जबकि करीब दो दर्जन ग्रामीण बुखार की चपेट आकर अलग-अलग जगह अपना उपचार करा रहे हैं। शहर कोतवाली क्षेत्र के करोवन गांव में रहने वाली रामश्री (40) विशुन को शनिवार की देर शाम तेज बुखार आने पर परिजनों ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

इसके अलावा हसनगंज विकास खंड की ग्राम पंचायत कायमपुर निबरवारा में रहने वाले मुन्नीलाल पाल (60) पुत्र बैजू पाल, तेगबहादुर सिंह (50) पुत्र चन्दन सिंह, शांती सिंह (45) पत्नी जगदीश, रामकुमार (45) पुत्र भुइयादीन, रामकुमार कुरील (55) वर्ष पुत्र भुइयादीन की बुखार से मौत हो गई। वही दुर्गाप्रसाद (72) पुत्र बैजू, विष्णु 8 माह व कुनाल (6) वर्ष पुत्रगण बृजेश, सियावती (65) पत्नी मुन्नीलाल, श्यामकुमारी (40) पत्नी राजकुमार, विक्रांत (15) पुत्र निर्भय, निर्भय (40) पुत्र चंदन, जीतबहादुर (45) पुत्र चंदन, शुभम सिंह 4 माह पुत्र कुलदीप, प्रशांत (16) पुत्र निर्भय, अर्थव (4) पुत्र कुलदीप, पुष्पादेवी (40) पत्नी निर्भय, रामकुमार (65) पुत्र भुइयादीन, काजल (5) पुत्री गिरिश, टुनई (70) पुत्र भभूती, मथुरा (55) पुत्र रम्मा, मुकेश (38) पुत्र लेखराम, पंकज (14) पुत्र मुकेश, मुन्नीदेवी (60) पत्नी लेखराज, रामप्रकाश (55) पुत्र भुइयादीन, रामदेवी (35) पत्नी मुकेश, प्रियंका (8) पुत्री मुकेश, कल्लू 55 पुत्र प्रभू, बेचेलाल (50) पुत्र धनीराम, जंगबहादुर (60) पुत्र रामपाल सिंह, रामासरे सिंह (45) पुत्र छेदीलाल, दुर्बल (65) पुत्र होरीलाल, मनोहर (60) पुत्र हरी, परागी (60) पुत्र सुक्खा, विटाना (65) पत्नी लालबहादुर सिंह, रजाना (60) पत्नी रामदीन, सितलू (50) पुत्र प्रीतम, विद्यावती (45) पत्नी बहादुर, कौशल (36) पुत्र लाला, गंगादेई (70), दुर्गा (65) पत्नी बैजू, रहीश (35) पुत्र मंजूर अली, मन्नत (2) पुत्री सुभाष, तन्नू (8) पुत्री रामनरेश, गजराना (35) पत्नी गजराज, रामदेई (65) पत्नी जुग्गीलाल, रामशंकर सिंह (60) पुत्र लल्लू, विनोद (25) पुत्र जंग बहादुर आदि बुखार की चपेट में है।

यह सभी लोग अलग-अलग स्थानों पर अपना इलाज करा रहे हैं लेकिन राहत मिलती नहीं दिख रही है। इस संबंध में सीएचसी अधीक्षक डा. नितिन श्रीवास्तव ने बताया कि ग्राम प्रधान सुन्दरलाल ने पहले से गंभीर बीमारियों से चार लोगों की मौत होना बताया। इसमें बुखार से कोई पीड़ित नहीं था। फिर भी जांच कराकर गांव में शिविर लगाकर परीक्षण कराया जाएगा। 12 घंटे में हुई चार मौतों से पूरे गांव में कोहराम मच गया। सीएमओ डा. लालता प्रसाद ने बताया कि मामला मेरे संज्ञान में नहीं है।

Updated : 2018-09-17T21:04:44+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top