Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > अन्य > फर्जी दस्तावेज लगाकर पास की सेना की परीक्षा,वेरीफिकेशन में पकड़ा

फर्जी दस्तावेज लगाकर पास की सेना की परीक्षा,वेरीफिकेशन में पकड़ा

फर्जी दस्तावेज लगाकर पास की सेना की परीक्षा,वेरीफिकेशन में पकड़ा
X

झांसी। नगर के भगवंतपुरा निवासी बताकर पिछले दिनों आयोजित सेना की भर्ती परीक्षा में एक युवक ने फर्जी दस्तावेज लगाकर परीक्षा तो पास कर ली। लेकिन जब वह वेरीफिकेशन के लिए पार्षद के पास पहुंचा तो उसकी पोल खुल गई। पार्षद पति ने उसे पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। वहां पूछताछ में उसने अपने आप को अलीगढ़ का बताया।

मंगलवार को प्रशांत नाम का युवक अपने प्रमाण पत्र लेकर भगवंतपुरा पार्षद कमला देवी के यहां वेरीफिकेशन कराने पहुंचा। उसने बताया कि उसकी नौकरी सेना में लग गई है। उसके प्रमाण पत्र वेरीफिकेशन के लिए आए हैं। उसके प्रमाण पत्र देखते हुए कमला देवी चौंक गई। सारे प्रमाण पत्र तो भगवंतपुरा के थे। पर वह युवक वहां का प्रतीत नहीं हो रहा था। उसी समय उनका बेटा रोहित वहां आ पहुंचा। उन्होंने अपने बेटे रोहित से उसके प्रपत्र देखने को कहा। जब रोहित ने उसके जाति और निवास प्रमाण देखते हुए उसका आधार कार्ड मांगा तो वह भी भगवंतपुरा के पते पर बना था। इस पर पार्षद पति राकेश यादव ने उससे उसके पिता का नाम पूछा। उसने जब अपने पिता का नाम प्रताप सिंह बताया तो राकेश यादव भांप गए कि भगवंतपुरा में तो ऐसा कोई व्यक्ति नहीं रहता है। उन्होंने अन्य प्रपत्र देखे। कुछ प्रपत्रों पर तो पार्षद की भी फर्जी मोहर लगी थी और हस्ताक्षर थे। यह देख वह उस युवक को सदर थाने ले आए। वहां शिकायत करते हुए उन्होंने पूरे मामले से पुलिस को अवगत कराया। पुलिस ने तुरंत ही युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ की।

युवक की 12 सितंबर को होनी थी ज्वानिंग

पूछताछ में युवक ने अपना नाम प्रशांत कुमार पुत्र प्रताप सिंह निवासी पासु थाना जवां अलीगढ़ बताया। उसने बताया कि उसके पिता खेती करते हैं। सेना में भती हुए युवक की जुबानी उसकी कहानी कुछ इस प्रकार है। उसके अनुसार 18 अप्रैल को झांसी में उसकी भर्ती परीक्षा हुई थी। परीक्षा में उसका चयन आगरा के लिए 14 अगस्त 2018 को हुआ था। उसके बाद उसके प्रमाण पत्रों का वेरीफिकेशन हो रहा था। इस सबके बाद उसे आगामी 12 सितम्बर 2018 को ज्वानिंग जाट रेजीमेंट बरेली में करनी है। हालांकि पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पड़ताल शुरु कर दी है।

बोले थाना प्रभारी,मामला हो रहा दर्ज

इस संबंध में सदर थाना प्रभारी निरीक्षक जितेन्द्र सिंह चंदेल ने बताया कि मामला फर्जी प्रमाणपत्र लगाकर नौकरी पाने का है। फर्जीवाड़ा किया गया है। पार्षद पति द्वारा दी गई तहरीर के आधार पर मामला दर्ज किया जा रहा है।

चिंता का विषय बने फर्जी प्रमाण पत्र

खुफिया सूत्रों की मानें तो शहर के कोतवाली, प्रेमनगर, सदर और एक अन्य थाना क्षेत्र से फर्जी प्रमाण पत्रों के बनाने का गोरख धंधा जोरों पर चल रहा है। मंगलवार को सदर बाजार थाना क्षेत्र में पकड़ा गया एक युवक इस चर्चा का पुख्ता सुबूत है। देखना यह है कि आगे प्रशासन इस फर्जीवाड़े को रोकने के लिए कौन से कदम उठाती है।

Updated : 2018-08-29T02:20:21+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top