Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > उत्तर प्रदेश : पिंक स्पेशल बसों की कमान महिलाओं के हाथ, आठ शहरों में होगी महिला ड्राइवरों की भर्ती

उत्तर प्रदेश : पिंक स्पेशल बसों की कमान महिलाओं के हाथ, आठ शहरों में होगी महिला ड्राइवरों की भर्ती

उत्तर प्रदेश : पिंक स्पेशल बसों की कमान महिलाओं के हाथ, आठ शहरों में होगी महिला ड्राइवरों की भर्ती
X

लखनऊ। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) जल्द ही 50 पिंक महिला स्पेशल बसों को खरीदने जा रहा है। इन बसों की कमान महिला ड्राइवरों की हाथों में होगी।

परिवहन निगम के प्रधान प्रबंधक साद सईद ने गुरूवार को बताया कि जल्द ही 50 पिंक महिला स्पेशल बसें खरीदी जाएंगी। इन बसों की कमान महिला ड्राइवरों की हाथों में होगी। लखनऊ सहित प्रदेश भर के आठ शहरों में भर्ती प्रक्रिया को रोडवेज के प्रबंध निदेशक पी. गुरूप्रसाद ने मंजूरी दे दी है। फिलहाल भर्ती के संबंध में जारी सरकुलर में अंतिम तारीख तय नहीं की गई है।

उन्होंने बताया कि दिल्ली के निर्भया कांड के बाद महिलाओं को सुरक्षित बस यात्रा मुहैया कराने के मकसद से परिवहन निगम ने तैयारी शुरू कर दी है। महिला एवं बाल कल्याण विभाग की ओर से 50 बसें खरीदने के लिए 22.5 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है।

महिला पिंक स्पेशल बसों में महिला यात्रियों की सुरक्षा 'आदिशक्ति' महिलाओं के हाथों में होगा। महिला यात्री की सुरक्षा के लिए निगम प्रशासन ने आदिशक्ति नाम तय किया है। इन्हीं के नाम से संविदा पर भर्ती भी होगी। प्रदेशभर में तीन सौ महिलाओं को भर्ती करके महिला यात्रियों को सुरक्षा मुहैया कराया जाएगा। बस में लगे पैनिक बटन दबाते ही आदिशक्ति की टीम महिला सुरक्षा के लिए मौके पर पहुंच जाएगी।

महिला स्पेशल 50 बसों का संचालन प्रदेश के आठ शहरों से होगा। इनमें लखनऊ से आठ, गाजियाबाद से दस, बरेली से छह, गोरखपुर से चार, वाराणसी से चार, इलाहाबाद से चार, आगरा से दस व बरेली से छह बसें संचालित होंगी। इन शहरों में परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक कार्यालय पर महिलाएं संविदा पर चालक पद के लिए आवेदन कर सकेंगी।

पिंक बसों में हाईस्कूल पास महिलाएं ड्राइवर बन सकेंगी। प्रदेश के आठ शहरों में प्रार्थना पत्र स्वीकार किए जाएंगे जहां से बसों का संचालन होना है। महिला को भारी वाहन चलाने के दो वर्ष के अनुभव के साथ लम्बाई पांच फिट तीन इंच से कम नहीं होनी चाहिए। उम्र न्यूनतम 21 व अधिकतम 40 वर्ष की होगी। जिन महिला चालकों को बस चलाने की क्षमता नहीं है उन्हें निगम प्रशासन कानपुर में ड्राइविंग प्रशिक्षण भी देगा।

Updated : 2018-08-23T22:02:46+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top