Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > ओएफबी के पुनर्गठन से ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों को कॉरपोरेटाइज्ड करने की कोशिश

ओएफबी के पुनर्गठन से ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों को कॉरपोरेटाइज्ड करने की कोशिश

-आयुध निर्माणी बोर्ड के पुनर्गठन से श्रमिकों की नौकरी को कोई खतरा नहीं -देश की 41 ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों के करीब 43 हजार कर्मचारी एक महीने की हड़ताल पर

ओएफबी के पुनर्गठन से ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों को कॉरपोरेटाइज्ड करने की कोशिश
X

लखनऊ। देश में करीब 200 साल पुराने आयुध निर्माणी बोर्ड (ओएफबी) के पुनर्गठन की सिफारिश करने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा उच्च स्तरीय समिति गठित करने के फैसले के बीच सेना ने गुरुवार को स्पष्ट किया कि ओएफबी के पुनर्गठन से श्रमिकों की नौकरी को कोई खतरा नहीं है बल्कि इस फैसले से लाभ ही ​होगा। सरकार के कदम से नाराज ओएफबी के तहत आने वाली देश की 41 फैक्ट्रियों के करीब 43 हजार कर्मचारी मंगलवार से एक महीने की हड़ताल पर हैं। उनका कहना है कि रक्षा मंत्रालय ने मनमाने तरीके से आयुध निर्माणियों को सरकारी विभाग से निगम या सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम में बदलने का फैसला किया है।

इस पर गुरुवार को यहां ग्रुप कैप्टन बसंत कुमार बी. पांडे के हवाले से बताया गया कि ओएफबी का निजीकरण होने से श्रमिकों की नौकरी की सुरक्षा के लिए कोई खतरा नहीं है। इस प्रस्ताव के जरिये ओएफबी को कॉरपोरेटाइज करना है। यह देश भर में फैले 41 आयुध कारखानों की दक्षता और उत्पादकता में सुधार के लिए श्रमिकों के दीर्घकालिक हित में बनाया जा रहा है।

सेना की ओर से कहा गया है कि ओएफबी को स्वायत्त और पारदर्शी बनाने के लिए कॉरपोरेटाइजेशन की आवश्यकता को बहुत पहले पहचान लिया गया था। अभी तक तीन समितियां इसकी सिफारिश कर चुकी हैं। इनमें मई 2000 में गठित टी के ए नायर, 2004 में गठित डॉ. विजय केलकर और अप्रैल 2015 में गठित रमन पुरी समिति ने अध्यादेश कारखानों के कामकाज में सुधार के लिए विभिन्न सिफारिशें दी हैं।

वास्तव में आयुध कारखानों की स्थापना सशस्त्र बलों की जरूरतों को पूरा करने के लिए की गई थी, लेकिन लंबे समय से कई समस्याएं भी देखने को मिली हैं। ओएफबी ने सभी सशस्त्र बलों को नामांकित आधार पर आपूर्ति की है जिसने उत्पादों की गुणवत्ता में सुधार के लिए ओएफबी को वास्तव में प्रोत्साहन नहीं दिया है। ओएफबी उत्पादों की खराब गुणवत्ता वाले मुद्दे सशस्त्र बलों की चिंता का लगातार कारण रहे हैं। ओएफबी उत्पादों की उच्च लागत मुख्य रूप से ओएफबी में उच्च ओवरहेड शुल्क, उच्च रखरखाव शुल्क, उच्च पर्यवेक्षी और अप्रत्यक्ष श्रम शुल्क सहित है। इसके साथ ही ओएफबी उत्पादों में न्यूनतम नवाचार और प्रौद्योगिकी विकास है क्योंकि इसके लिए कोई प्रोत्साहन नहीं है। संयंत्र और मशीनरी और श्रमशक्ति की कम उत्पादकता है। कारखानों में उत्पादकता की भिन्नता है।

सेना के मुताबिक सरकारी विभाग से सार्वजनिक क्षेत्र की कॉर्पोरेट इकाई में ओएफबी के प्रस्तावित परिवर्तन के कई फायदे होंगे। इसमें दक्षता में सुधार और इष्टतम लागतों की ओर बढ़ना है। इसके अलावा हथियारों और गोला-बारूद के लिए आयात निर्भरता को कम करना, सशस्त्र बलों की बढ़ी हुई दक्षता और समय पर डिलीवरी के माध्यम से ग्राहकों की संतुष्टि सुनिश्चित करना, रक्षा निर्यात बाजार में बड़ी पैठ, रक्षा में आत्मनिर्भरता के लिए प्रौद्योगिकी और नवाचार में देरी करना तथा लंबे समय में स्थायी व्यवसाय मॉडल और नौकरियों का निर्माण प्रमुख रूप से है।

इसके साथ ही इसके जरिए उत्पादन क्षमता और क्षमता और ज्ञान के आधार की अवधारण में वृद्धि तथा सरकारी प्रक्रियाओं के फेरबदल के बिना कॉर्पोरेट इकाई के रूप में निर्णय लेने में लचीलापन और गतिशीलता में सुधार सम्भव हो सकेगा। वहीं कारखानों में उपयोग की जाने वाली क्षमता का बेहतर उपयोग किया जाएगा। कारखानों द्वारा समय पर आपूर्ति और आपूर्ति की गुणवत्ता में सुधार किया जाएगा।

सेना के मुताबिक वर्तमान में ओएफबी महंगी विदेशी तकनीक पर निर्भरता वाला एक उत्पादन केंद्र है। आत्मनिर्भरता बढ़ाने वाली प्रौद्योगिकी आधारित संस्था के उत्पादन से आगे बढ़ने के लिए कॉर्पोरेट इकाई आएंगी। कर्मचारियों के लिए बेहतर रोजगार और बेहतर सेवा स्थितियों के लिए टर्नओवर, लाभ में वृद्धि होगी और विदेशी संपत्ति के माध्यम से प्रौद्योगिकी अधिग्रहण में अधिक लचीलापन सम्भव हो सकेगा।

इसके अलावा कॉर्पोरेट संरचना में शीर्ष प्रबंधन नेतृत्व प्रदान करने की स्थिति में होगा और प्रतिस्पर्धा का जवाब देने के लिए परिवर्तन प्रक्रिया शुरु कर सकता है। कारखाने इंजीनियरिंग और तकनीकी क्षमताओं का लाभ उठाकर राजस्व की नई धाराएं बनाने में सक्षम हो सकते हैं। कॉरपोरेटाइज्ड ऑर्डिनेंस फैक्ट्रियों को आधुनिकीकरण और आरएंडडी को वित्तपोषित करने के लिए सरकार से वित्त की आवश्यकता नहीं हो सकती है और यह आर्थिक रूप से आत्म-सहायक संगठन बन सकता है। कॉरपोरेटाइज्ड ऑर्डिनेंस कारखाने नए उत्पादों को विकसित करने और अंतरराष्ट्रीय आयुध उद्योग में एक आला बनाने के लिए भारतीय और विदेशी कंपनियों के साथ रणनीतिक गठबंधन बना सकते हैं।

सेना के मुताबिक यह देखा गया है कि पिछले तीन-चार वर्षों में अध्यक्ष का कार्यकाल एक वर्ष से कम रहा है। इनमें से प्रत्येक का कार्यकाल छह महीने का है। यह ओएफबी के काम में निरंतरता के साथ-साथ संगठन के लाभ के लिए साहसिक निर्णय लेने में बाधा डालता है। इस तरह कॉर्पोरेट ओएफबी डीपीई दिशानिर्देशों के आधार पर शीर्ष प्रबंधन के लिए निश्चित सुरक्षित कार्यकाल सुनिश्चित करेगा।

Updated : 22 Aug 2019 12:55 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top