Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > ईपीएफ घोटाले को लेकर प्रियंका गांधी ने सरकार पर उठाए सवाल, जानें क्या कहा

ईपीएफ घोटाले को लेकर प्रियंका गांधी ने सरकार पर उठाए सवाल, जानें क्या कहा

ईपीएफ घोटाले को लेकर प्रियंका गांधी ने सरकार पर उठाए सवाल, जानें क्या कहा

नई दिल्ली/लखनऊ। उत्तर प्रदेश में ईपीएफ घोटाले में दो अधिकारियों की गिरफ्तारी पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि छोटी मछलियों को पकड़कर ध्यान भटकाने से नहीं, असली गुनाहगारों को सामने लाना होगा।

प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीट पर लिखा है कि पैसा कर्मचारियों का और संदिग्ध जगह निवेश का फैसला सरकार का। गुनाहगार कौन? जिस व्यक्ति ने ईमानदारी से अपनी ज़िंदगी भर की कमाई आपके हाथों में भरोसे से डाली उसके लिए आपका क्या जवाब है? । और कितने विभागों के कर्मचारियों की गाढ़ी कमाई ऐसी संदिग्ध कंपनियों में लगाई गई है?।

प्रियंका गांधी ने आगे लिखा कि उत्तर प्रदेश में बिजली विभाग के कर्मचारियों की जिंदगी भर की कमाई बीजेपी सरकार में डीएचएफएल में निवेश करके फंसा दी। चुनाव के दौरान मुझे तमाम सरकारी कर्मचारियों ने मिलकर नई पेंशन स्कीम को लेकर अपनी चिंता बताई थी। आज उनके शक जायज साबित हो रहे हैं।

आपको बताते दें कि अत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ कर्मचारी भविष्य निधि घोटाले में एक प्राथमिकी दर्ज कर दो वरिष्ठ अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया। राज्य सरकार ने मामले को केंद्रीय जांच ब्यूरो को सौंपने का भी निर्णय लिया है।

शनिवार शाम गिरफ्तार किए गए दोनों अधिकारी ईपीएफ की धनराशि को निजी कंपनी दीवान हाउसिंग फायनेंस लिमिटेड (डीएचएफएल) में फंसाने के आरोपी हैं। इस कंपनी का संबंध माफिया डान दाऊद इब्राहिम के सहयोगी मृत इकबाल मिर्ची से है।

मुख्यमंत्री कार्यालय (लखनऊ) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि योगी आदित्यनाथ ने राज्य सरकार के स्वामित्व वाले यूपी पॉवर सेक्टर इम्प्लाईस ट्रस्ट के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा की गई वित्तीय अनियिमितता को बहुत गंभीरता से लिया है, जिसने ट्रस्ट के 2631 करोड़ रुपए को एक विवादास्पद कंपनी के साथ निवेश करते समय नियमों का उल्लंघन किया।

Updated : 3 Nov 2019 8:00 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top