Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > मायावती बोलीं - भाजपा की संकीर्ण नीतियों के कारण असम में आया अनर्थ परिणाम

मायावती बोलीं - भाजपा की संकीर्ण नीतियों के कारण असम में आया अनर्थ परिणाम

मायावती बोलीं - भाजपा की संकीर्ण नीतियों के कारण असम में आया अनर्थ परिणाम
X

लखनऊ। असम में नागरिकता की पहचान माने जाने वाले राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर का दूसरा ड्राफ्ट जारी होने के बाद विपक्ष ने सरकार को घेरा है। इसी क्रम में बसपा मुखिया मायावती ने मंगलवार को कहा कि असम में 40 लाख लोगों की नागरिकता को छीना गया है। अगर ये लोग पिछले काफी समय से वहां रह रहे हैं और अपने कागजात नहीं दे पाएं हैं तो फिर क्या आप उन्हें देश से निकाल देंगे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा की संकीर्ण विभाजनकारी नीतियों का ही यह परिणाम है कि असम में आज ऐसा अनर्थ परिणाम आया है।

मायावती ने कहा कि भाजपा ने उत्तर प्रदेश में दलितों की एकता व एकजुटता को प्रभावित करने के लिये घिनौनी साजिश करके पर्दे के पीछे से भीम आर्मी का गठन करवाया और फिर अपने राजनीतिक स्वार्थ की पूर्ति के लिये इसकी आड़ में सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में बीएसपी के सर्वोच्च नेतृत्व की हत्या करवाने की घिनौनी साजिश रची गयी।

उन्होंने कहा कि भाजपा व आरएसएस एण्ड कम्पनी द्वारा पूरे देश में खासकर दलितों, आदिवासियों, अन्य पिछडे़ वर्गों व धार्मिक अल्पसंख्यकों को हर प्रकार से अपनी संकीर्ण, जातिवादी, साम्प्रदायिक एवं विभाजनकारी नीति का शिकार बनाने का अभियान जारी रखे हुये है। गैर भाजपा शासित राज्यों को भी खास निशाना बनाकर राजनीति की जा रही है। इससे कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक देश की जनता त्रस्त है।

यूपी में खासकर दलितों, आदिवासियों, अन्य पिछड़े वर्गों एवं धार्मिक अल्पसंख्यकों में खासकर मुसलमानों के खिलाफ इनका जातिवादी, धार्मिक द्वेषपूर्ण व राजनीति के साथ-साथ सरकारी मशीनरी का भी घोर दुरुपयोग करना लगातार जारी है।

मायावती ने कहा कि बसपा के मजबूत गढ़ पश्चिम उत्तर प्रदेश में सरकारी जुल्म-ज्यादती अत्याचार के पहाड़ तोड़ने का प्रयास अभी भी लगातार जारी है। मेरठ में पार्टी के मेयर के पति व पूर्व विधायक योगेश वर्मा को फर्जी मुकदमों में जेल में डाल दिया गया है। वे काफी लम्बे समय से जेल में हैं। उन पर 02 अप्रैल के 'भारत बन्द' के सम्बन्ध में सरकार अपना गुस्सा निकालना चाहती है। सहारनपुर में हमारी पार्टी के विधायक महमूद अली व इनके भाई मोहम्मद इकबाल भी गैंगेस्टर एक्ट आदि में फंसाया जा रहा है। इनके परिवार वालों पर सरकारी आतंक का जुल्म ढाया जा रहा है।

Updated : 2018-07-31T21:30:55+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top