Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > महागठबंधन के प्रत्याशी ने सुप्रीम कोर्ट का का दरवाजा खटखटाया

महागठबंधन के प्रत्याशी ने सुप्रीम कोर्ट का का दरवाजा खटखटाया

महागठबंधन के प्रत्याशी ने सुप्रीम कोर्ट का का दरवाजा खटखटाया

नई दिल्ली/लखनऊ। उत्तर प्रदेश की घोसी लोकसभा सीट से बसपा-सपा महागठबंधन के प्रत्याशी बाहुबली अतुल राय ने सुप्रीम कोर्ट में दरवाजा खटखटाया है। अतुल राय ने रेप के मामले में गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग की है जिस पर सुप्रीम कोर्ट की अवकाश बेंच 17 मई को सुनवई करेगी। आपको बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट अतुल राय की याचिका खारिज कर चुका है।

यूपी में गठबंधन उम्मीदवार अतुल राय ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर 23 मई तक गिरफ्तारी पर रोक की मांग की है। अतुल राय की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट 17 मई को सुनवाई करेगा। आपको बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति मनोज मिश्र एव न्यायमूर्ति एससी गुप्ता की खंडपीठ ने अतुल राय की याचिका को खारिज कर दिया था। याचिका में अतुल राय ने लड़की से दुराचार का वीडियो वायरल करने के आरोप में वाराणसी के लंका थाने में दर्ज एफआईआर को रद्द करने और गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग की थी। आरोप है कि अतुल राय युवती को लंका क्षेत्र के एक अपार्टमेंट में झांसा देकर ले गए और यौन शोषण किया। युवती ने अपने फेसबुक पेज पर भी आरोपों को लेकर एक वीडियो अपलोड किया है। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि केस दर्ज कर लिया गया है। आरोपों की जांच की जा रही है।

युवती काशी विद्यापीठ की पूर्व छात्रा रही है। उसके अनुसार छात्र राजनीति के दौरान उसकी अतुल राय से मुलाकात हुई थी। धीरे-धीरे मुलाकात घनिष्ठता में तब्दील हो गई। अतुल उसे मदद का आश्वासन देते थे। इस दौरान एक बार उन्होंने लंका इलाके के एक अपार्टमेंट में बुलाया। वहां धोखे से शारीरिक शोषण किया। फिर उसका वीडियो बनाकर प्रताड़ित करने लगे। विरोध करने पर चुप रहने और जान से मारने की धमकी देने लगे। तंग आकर युवती ने सोशल मीडिया पर अपनी आवाज उठाई और ट्वीट के माध्यम से डीजीपी से शिकायत की। डीजीपी कार्यालय के निर्देश पर लंका थाने में केस दर्ज हुआ। एसएसपी का कहना है कि जांच शुरू कर दी गई है। जांच रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। अतुल राय पर दो साल पहले भी डाफी टोल प्लाजा पर हंगामा और फायरिंग करने का आरोप लगा था। इस दौरान उनके खिलाफ धारा 307 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था।

इस संबंध में अतुल राय का कहना है कि वर्ष 2015 से यह युवती मेरी ऑफिस में आती थी और चुनाव लड़ने के नाम पर मदद लेती थी। मैं कभी भी उससे ऑफिस के बाहर नहीं मिला हूं। लोकसभा में प्रत्याशी बन गया तो इसे लगा कि वीडियो जारी करके ब्लैकमेल करेगी। युवती ने 24 अप्रैल को ही मेरे पास वीडियो भेजा और रुपये की मांग की। मना करने पर 28 अप्रैल को फेसबुक पर वीडियो पोस्ट कर दिया। उन्होंने बताया कि मैंने युवती के खिलाफ ब्लैकमेल करने का केस बलिया के नरही थाने में दर्ज कराया है। अतुल राय ने कहा कि यह पूरी तरीके से भाजपा की साजिश है। मैं चुनाव आयोग से पूरे मामले की सीबीआई या न्यायिक जांच कराने की मांग करता हूं।

Updated : 14 May 2019 6:28 AM GMT

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top