Top
Home > राज्य > उत्तरप्रदेश > लखनऊ > सपा और बसपा के रास्ते कांग्रेस से अलग हो सकते हैं, लेकिन लक्ष्य एक : ज्योतिरादित्य सिंधिया

सपा और बसपा के रास्ते कांग्रेस से अलग हो सकते हैं, लेकिन लक्ष्य एक : ज्योतिरादित्य सिंधिया

सपा और बसपा के रास्ते कांग्रेस से अलग हो सकते हैं, लेकिन लक्ष्य एक : ज्योतिरादित्य सिंधिया
X

लखनऊ/नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव अपने दम पर लड़ेगी। उन्होंने यह भी कहा कि सपा और बसपा के रास्ते कांग्रेस से अलग हो सकते हैं, लेकिन उनका लक्ष्य एक है।

कांग्रेस के लिए दो सीटें छोड़ने संबंधी अखिलेश यादव के बयान पर उन्होंने कहा, ''हम भी उनके लिए दो-तीन सीटें छोड़ देंगे।'' उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस के लिए एक अवसर है और पार्टी पूरा दमखम लगाएगी।

उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन के साथ जाने के सवाल पर सिंधिया ने संवाददाताओं से कहा, ''हमने बार-बार कहा है कि हमारा मकसद एक ही है कि केंद्र में संप्रग की सरकार बननी चाहिए। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस अपनी शक्ति के आधार पर और अपने दम पर ये चुनाव लड़ने जा रही है।'' उन्होंने कहा, ''सपा और बसपा ने अपना निर्णय लिया है। उनका यह हक है कि वे अपना निर्णय लें। हम उनके निर्णय का सम्मान करते हैं।''

सिंधिया ने कहा, ''हमने सदा कहा है कि संवाद और चर्चा जरूरी है। लेकिन संवाद और चर्चा दोनों तरफ से होनी चाहिए। वर्तमान परिस्थिति में कांग्रेस अपने दम पर चुनाव लड़ेगी। हमें अपनी पार्टी को उत्तर प्रदेश में स्थापित करना है।'' उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, '' समान विचारधारा वाली पार्टियों को समान विचारधारा के तरीके से सोचना चाहिए। सपा और बसपा तथा हमारे रास्ते अलग हो सकते हैं लेकिन हमारा अंतिम लक्ष्य एक है।''

Updated : 9 March 2019 2:39 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top