Home > राज्य > अन्य > अब मेट्रो सुरंग और ट्रेन में भी लगेंगे सीसीटीवी कैमरे

अब मेट्रो सुरंग और ट्रेन में भी लगेंगे सीसीटीवी कैमरे

अब मेट्रो सुरंग और ट्रेन में भी लगेंगे सीसीटीवी कैमरे
X

कोलकाता। औपनिवेशिक काल से ही देश की सांस्कृतिक नगरी कोलकाता की पहचान रहे भू-गर्भ मेट्रो ट्रेन समय के साथ काफी पुरानी हो चुकी है और इतनी अधिक अत्याधुनिक नहीं है कि इसमें सारी व्यवस्थाएं अप-टू-डेट रहे। रोज ही कुछ ना कुछ ऐसी घटनाएं हो रही हैं जो मेट्रो की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर रही हैं। पिछले साल 27 दिसंबर को चलती मेट्रो में आग लग गई थी जो यात्रियों से भरी हुई थी। उसमें 44 लोग घायल हो गए थे। दो दिन पहले ही मेट्रो सुरंग में शॉर्ट सर्किट के बाद पटरी पर आग लग गई थी जिसे बुझाने के लिए अग्निशमन विभाग की तीन गाड़ियों को लगाना पड़ा। इससे सबक लेते हुए मेट्रो रेल प्रबंधक और ट्रेन दोनों में ही सीसीटीवी कैमरे लगाने का निर्णय लिया है। सुरंग के अंदर लगाए गए सीसीटीवी कैमरे की निगरानी संबंधित स्टेशनों और मुख्यालय से होगी तथा मेट्रो ट्रेन में लगाई गई सीसीटीवी की निगरानी भी मेट्रो मुख्यालय समेत मोटरमैन के केबिन से रखी जा सकेगी। सोमवार को मेट्रो रेल प्रबंधन की ओर से इसकी पुष्टि की गई है।

बताया गया है कि मेट्रो ट्रेन के अंदर सीसीटीवी कैमरे रहने से मेट्रो के चालक को प्रत्येक कमरे में निगरानी रखने में मदद मिलेगी। इससे ना केवल अग्निशमन जैसी घटनाओं की सूरत में तत्काल कदम उठाया जा सकता है बल्कि महिलाओं के खिलाफ अपराध और अन्य वारदातों पर भी लगाम लगाने में मदद मिलेगी और मेट्रो सुरंग में जो सीसीटीवी कैमरे लगेंगे। सुरंग के अंदर पटरी की स्थिति और किसी भी तरह की समस्या मूलक परिस्थिति को भी समझा जा सकेगा।

मेट्रो रेल प्रबंधन से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि आज तक मेट्रो के गेट से लेकर प्लेटफार्म तक हर जगह सीसीटीवी कैमरे जरूर लगे हुए थे लेकिन सुरंग और ट्रेन के अंदर कैमरे नहीं थे। इसे लगाने के बाद ना सिर्फ सुरक्षा बढ़ेगी बल्कि व्यवस्थाएं भी और अधिक मजबूत होंगी। सबसे पहले एसी मेट्रो ट्रेनों में सीसीटीवी कैमरे लगाने का काम शुरू होगा। दरअसल कोलकाता मेट्रो में फिलहाल 14 एसी और 13 नॉन एसी मेट्रो ट्रेन हैं। प्रतिदिन कवि सुभाष से नोआपाड़ा के बीच ये ट्रेनें करीब 300 बार चलती हैं । प्रतिदिन करीब छह लाख यात्री मेट्रो के जरिए यात्रा करते हैं। इनकी सुरक्षा के लिए मेट्रो रेल प्रबंधन ने यह कदम उठाने का निर्णय लिया है। हालांकि जब यह पूछा गया कि आखिर ऐसी मेट्रो में ही सीसीटीवी कैमरे क्यों लग रहा है, नॉन एसी में क्यों नहीं? इस पर उक्त अधिकारी ने बताया कि नॉन एसी मेट्रो को धीरे-धीरे हटा दिया जा रहा है और उनकी जगह पर भी एसी मेट्रो ही चलेंगी। इसीलिए उनमें फिलहाल सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाए जाएंगे।

मेट्रो सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि कवि सुभाष से नोआपाड़ा मेट्रो स्टेशन के बीच करीब 600 सीसीटीवी कैमरे पहले से लगाए गए हैं। अब मेट्रो ट्रेन और सुरंग में भी कैमरे रहेंगे तथा सुरक्षा के लिए अतिरिक्त संख्या में रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के जवानों को भी तैनात किया जाएगा।(हि. स.)

Updated : 28 Jan 2019 1:04 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top