Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > नए प्रयोग से रुकेगी धांधली, प्रत्याशियों के सामने होगी चुनौती

नए प्रयोग से रुकेगी धांधली, प्रत्याशियों के सामने होगी चुनौती

चुनाव आयोग इस बार विधानसभा चुनाव में पहली बार करेगा दस नए प्रयोग

नए प्रयोग से रुकेगी धांधली, प्रत्याशियों के सामने होगी चुनौती
X

ग्वालियर। मध्यप्रदेश सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का बिगुल बजने के साथ ही राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं। चुनाव को लेकर राजनीति का पारा चढ़ा हुआ है और राजनीतिक दल चुनाव जीतने के लिए ऐड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। इस बार चुनाव आयोग 10 नए प्रयोग करने करने जा रहा है, जिससे चुनाव में जहां धांधली की संभावना शून्य हो जाएगी वहीं चुनाव में प्रत्याशियों के सामने नई चुनौतियां खड़ी हो गई हैं। प्रत्याशी को चुनाव मैदान में उतरने से पहले न केवल इन नई चुनौतियों का सामना करना होगा बल्कि चुनावी मैदान में भी फूंक-फूंककर कदम बढ़ाना होगा। ईवीएम एवं चुनाव की विश्वसनीयता को लेकर उठ रहे सवालों का जवाब देने के लिए आयोग ने यह नए प्रयोग किए हैं। इन नए प्रयोगों का हाल ही में हुए कुछ जिलों के नगरीय निकाय चुनाव में उपयोग हो चुका है, जो पूरी तरह से सार्थक रहा, इसलिए अब चुनाव आयोग ने मध्यप्रदेश सहित देश के पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में इन नए प्रयोगों पर अमल करने का निर्णय लिया है।

इन नए प्रयोगों से रुकेगी धांधली बढ़ेगी विश्वसनीयता

1. पेपर टे्रल का रहेगा हिसाब

पूरे राज्य में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन यानी ईवीएम में डाले जाने वाले वाटों की रसीद यानी पेपर ट्रेल का हिसाब रहेगा। अब मतदाता को वोटर वेरीफिएबल पेपर ऑडिट टे्रल की सुविधा होगी। इसमें वोट डालने के बाद एटीएम की तरह ईवीएम से भी कागज की पर्ची निकलेगी। यह पर्ची 15 सेकंड तक वोटर को दिखेगी और फिर मशीन के अंदर बने कंपार्टमेंट में गिर जाएगी।

2. घर-घर पहुंचेगी फोटोयुक्त पर्ची, होगी पहचान

मतदाता के घर तक फोटोयुक्त मतदान पर्ची पहुंचाई जाएगी और इस बार यही पर्ची वोटरों का पहचान पत्र भी होगी। पर्ची पर वोटरों की तस्वीर के साथ तमाम जानकारी होगी, साथ ही एक बार कोड होगा तथा पर्ची पर गूगल मैप के जरिए मतदान केन्द्र तक पहुंचने का रास्ता भी बताया जाएगा। इसके साथ ही यह भी उल्लेख होगा कि वोटिंग के लिए वोटर को साथ में क्या-क्या लाना है।

3. घर-घर पहुंचेगी वोटर गाइड

पर्ची के साथ हर घर में रंगीन ब्रोशर यानी पुस्तिका वोटर गाइड भी पहुंचाई जाएगी। हिन्दी व अंग्रेजी सहित अन्य स्थानीय भाषाओं में प्रकाशित इस पुस्तिका में मतदान की तारीख, समय और चित्रों के जरिए मतदाता सूची में नाम डलवाने से लेकर वोट डालने तक की प्रक्रिया और मतदाता के अधिकारों की बातें समझाई गई हैं।

4. बूथ पर खोला जाएगा सुविधा काउंटर

पहली बार हर बूथ पर मतदाता सुविधा काउंटर भी खोला जाएगा। इसमें मौजूद अधिकारी वोटरों को उसके बूथ, वोटर लिस्ट में उसके नाम के बारे में बताएंगे। इसके अलावा बूथ के आसपास समुचित साइन बोर्ड भी लगे होंगे।

5. प्लास्टिक शीट का होगा वोटिंग कंपार्टमेंट

पहली बार वोटिंग मशीन के चारों ओर स्टील ग्रे रंग के फ्लैक्स जैसे प्लास्टिक शीट का बना 30 इंच ऊंचा वोटिंग कंपार्टमेंट होगा। उसे उस टेबल पर चारों ओर लगाया जाएगा, जहां ईवीएम रहेगी। पहले इसकी जगह 12 से 18 इंच ऊंचाई का फटा पुराना गत्ता होता था। ऐसे में मतदाता के सिर और आंखों से ये पता चल जाता था कि वोट किसे दिया गया है।

6. नियम व जागरुकता बढ़ाने वाले लगाए जाएंगे पोस्टर

चुनाव प्रक्रिया नियम 1961 के नियम 31 के तहत मतदाता को दी जा रही सुविधाओं और उनमें जागरुकता बढ़ाने वाला पोस्टर लगाया जाएगा। ऐसे चार पोस्टर हर मतदान केन्द्र पर लगेंगे। जिन इलाकों में महिला वोटरों की संख्या ज्यादा है, वहां उनके लिए अलग से एक बूथ बनाया जाएगा।

7. मतदान केन्दों में दृष्टि बाधितों के लिए होगी खास सुविधा

दृष्टि बाधित विद्यालयों में बनाए गए मतदान केन्द्रों में दृष्टि बाधितों के लिए खास सुविधाएं होंगी। दृष्टि बाधित मतदान अधिकारियों को ऐसे ही बूथों पर तैनात किया जाएगा, ताकि वोटर और मतदान अधिकारियों को दूर नहीं जाना पड़ेगा।

8. सुरक्षा बलों के लिए ईटीपी बैलेट सिस्टम

चुनाव आयोग पहली बार सेना, अद्र्धसैनिक बलों के लिए इलेक्ट्रोनिक्ली ट्रांसमिटेड पोस्टर बैलेट सिस्टम का इंतजाम करने जा रहा है, जिसका पायलट ट्रायल हो चुका है।

9. देना होगा अतिरिक्त हलफनामा

पहली बार उम्मीदवार के लिए नो डिमांड सर्टिफिकेट का अतिरिक्त हलफनामा भी नामांकन पर्चों के साथ देना अनिवार्य होगा। यानी बिजली, पानी, टेलीफोन, संपत्तिकर जैसे नागरिक सेवाओं वाली एजेंसियों के यहां कोई बकाया नहीं है। इसका सर्टिफिकेट हासिल कर जमा करना होगा।

10. नए नामांकन पत्र पर फाइल करना होगा नॉमिनेशन

कानून मंत्रालय की अधिसूचना के बाद पहली बार नए प्रारूप वाले नामांकन पत्र पर उम्मीदवार अपना नॉमिनेशन फाइल करेंगे। उम्मीदवार इन नए प्रारूप वाले फार्म और हलफनामों की ई-फाइलिंग भी करेंगे।

Updated : 2018-10-20T19:36:35+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top