Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > कांग्रेस ज्यादा से ज्यादा युवाओं और जीतने योग्य महिलाओं को देगी टिकट

कांग्रेस ज्यादा से ज्यादा युवाओं और जीतने योग्य महिलाओं को देगी टिकट

कांग्रेस ज्यादा से ज्यादा युवाओं और जीतने योग्य महिलाओं को देगी टिकट
X

भोपाल/स्वदेश वेब डेस्क। कांग्रेस इस बार टिकट वितरण को वर्गों के प्रतिशत में नहीं बांध रही है। हां लेकिन प्रयास रहेगा कि ज्यादा से ज्यादा युवक और युवतियों को मौका मिले। जिससे वह विधानसभा में बैठे भ्रष्ट विधायकों को उखाड़ फेकें। शीघ्र ही पार्टी के दावेदारों की स्क्रीनिंग समाप्त हो जाएगी और नवरात्रि शुरू होते ही टिकट वितरण कर प्रत्याशियों की पहली सूची की घोषण कर दी जाएगी।

यह बात कांग्रेस की प्रदेश मीडिया विभाग की अध्यक्ष सुश्री शोभा ओझा ने 'स्वदेश' से विशेष चर्चा में कही। कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के बहुत करीब मानी जाने वाली सुश्री ओझा ने विभिन्न राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा करते हुए कहा कि चूंकि इस बार उनके पास चुनाव की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है इस कारण वह स्वयं इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी। हां लेकिन कोशिश रहेगी कि कुछ जीतने योग्य महिलाओं को टिकिट दिला सकें । प्रदेश में कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री के रूप में सबसे लोकप्रिय चेहरा किसे मानती हैं? सवाल के उत्तर में सुश्री ओझा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में मुख्यमंत्री पद के लिए एक चेहरा नहीं, कई चेहरे हैं। कांग्रेस में शीर्ष नेतृत्व की कमी नहीं हैं। कांग्रेस में जीते हुए नेता स्वयं अपना नेता चुनते हैं। इस बार भी कांग्रेस में विधान का पालन होगा और कांग्रेस के विधायक स्वयं अपना नेता चुनेंगे।

मध्यप्रदेश में इस बार विधानसभा चुनावों में कांग्रेस और भाजपा की स्थिति की तुलनात्मक समीक्षा संबंधी सवाल पर शोभा ओझा कहती हैं कि भाजपा के 15 साल के शासनकाल में हर वर्ग परेशान हो चुका है। जो बेसब्री से मतदान दिवस का इंतजार कर रहा है। किसान 15 सालों में कर्जों से दब चुकाहै। जो लगातार आत्महत्या कर रहा है। अधिकारों के लिए खड़ा होता है तो उसे भून दिया जाता है। प्रदेश में छह किसान मरते हैं। उसके बाद सरकार को कोई दोषी नहीं मिला। व्यापम जैसे महाघोटाले ने इस प्रदेश के छात्रों के भविष्य को अंधकार में डाल दिया। करोड़ों का घोटाला हुआ। व्यापम में भी सजा सिर्फ छात्रों और उनके अभिभावकों को मिली। दोषी खुले घूम रहे हैं। वहीं प्रदेश में महिलाएं भी पूरी तरह असुरक्षित हैं। एक साल की बच्ची से लेकर 80 साल तक की बूढी मां हो। घर हो या बाहर, स्कूल अथवा थाने में कहीं भी सुरक्षित नहीं। 5 से 20 दुष्कर्म प्रतिदिन इस प्रदेश में रजिस्टर्ड हो रहे हैं। जबकि अपंजीकृत दुष्कर्म मामलों का आंकड़ा बहुत बड़ा है। सुश्री ओझा का कहना है कि बेरोजगारी दो साल मे ही 52 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ी है। बेरोजगार नव युवक युवतियों की आत्महत्या के मामले में भी हम नंबर एक पर हैं। प्रदेश में माफियाराज है। रेत माफिया, खनन माफिया, शिक्षा माफिया, दवाई माफिया, जैसे तमाम माफिया हावी हैं। इसके चलते प्रदेश में अपने प्रतिनिधियों को जिताने में भाजपा के लिए संघर्ष की स्थिति पैदा हो जाएगी। इनके महाकुंभ हो, चाहे जनआशीर्वाद यात्रा, जमाम कार्यक्रमों में इन्हीं के कार्यकर्ता आना नहीं चाह रहे हैं। बसपा से गठबंधन होगा? देरी क्यों? सवाल के जवाब में सुश्री ओझा कहती हैं कि बसपा से बातचीत जारी है। लेकिन बसपा से समझौता हो अथवा नहीं हो, लेकिन हम इस बार पूरी तरह तैयार हैं। इस बार जनता कांग्रेस पर विश्वास कर रही है। हमारा वचन पत्र अथवा नेताओं की घोषणा, राहुल गांधी की 10 दिन में कर्जा माफी की की घोषणा हो अथवा प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ द्वारा हर पंचायत में गौशाला खोले जाने की घोषणा हो अथवा ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा की गई घोषणाएं । जनता इस बार कांग्रेस की घोषणाओं पर विश्वास कर हाथ के पंजे पर मोहर लगाकर कांग्रेस को जिताएगी। क्रूरता कानून में संशोधन पर सवर्ण समाज द्वारा जारी राजनेताओं के विरोध प्रदर्शन संबंधी सवाल पर सुश्री ओझा कहती हैं कि कांग्रेस ने इस देश को वर्गों अथवा जातिवाद में कभी नहीं बांटा। हम हर वर्ग को साथ लेकर चले हैं। भाजपा धु्रवीकरण की राजनीति करती है, जिसका खामियाजा उसे भुगतना पड़ेगा।

Updated : 2018-10-02T17:49:10+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top