Top
Home > राज्य > गणेशमय हुआ मुंबई महानगर, इतने पंडालों में हुई गणपति प्रतिमा की स्थापना

गणेशमय हुआ मुंबई महानगर, इतने पंडालों में हुई गणपति प्रतिमा की स्थापना

1 लाख 55 हजार 414 स्थानों पर घरेलू व 11 हजार 813 गौरी गणपति की प्रतिस्थापना, सुरक्षा के लिए 50 हजार पुलिस तैनात

गणेशमय हुआ मुंबई महानगर, इतने पंडालों में हुई गणपति प्रतिमा की स्थापना
X

मुंबई। मुंबई महानगर में गुरुवार से गणेश पर्व शुरु हो गया है। बीती रात में ढोल-तासे के साथ गणेश भक्तों ने नाचते गाते हुए अपने आराध्य देव भगवान गणेश की प्रतिमाओं के अपने घरों, सार्वजनिक पंडालों में लाया और विधिवत पूजापाठ करते हुए प्रतिस्थापित किया। मुंबई में सार्वजनिक पांडालों में 6445 बड़े गणपति प्रतिस्थापित किए गए हैं। इनमें लालबाग के राजा, चिंतामणि, खेतवाड़ी आदि गणेश मंडलों का समावेश है। इसी प्रकार 1 लाख 55 हजार 414 छोटे मंडपों में भगवान गणेश को प्रतिस्थापित किया गया है। मुंबई वासियों ने 11 हजार 813 स्थानों पर मां गौरी की भी प्रतिमा को प्रतिस्थापित कर पूजा अर्चना शुरु कर दिया है। इस तरह पूरे मुंबई का माहौल गणेशमय हो गया है।

मुंबई महानगर में किसी भी तरह की तकलीफ न हो और कोई विघ्र उत्पन्न न करे, इसे लेकर पुलिस प्रशासन चौकन्ना है। इसलिए 10 दिन तक चलने वाले इस पर्व को सुरक्षित संपन्न होने के लिए 50 हजार से अधिक पुलिस वालों को सड़कों पर उतारा गया है| मुंबई पुलिस की मदद के लिए भारी संख्या में होमगार्ड भी सड़कों पर तैनात किए गए हैं। लाखों की संख्या में निजी सुरक्षा रक्षक व स्वयंसेवक भी गणेशभक्तों की सुरक्षा में तैनात हैं। इसी तरह बम निरोधक दस्ता, सीआईडी, एटीएस सहित एसआरपीएफ की विशेष टुकड़ी भी सादे वेश में मुंबई की सड़कों पर उतारे गए हैं।

मुंबई महानगर की सड़कों पर गणपति बप्पा मोरया की गुंज सुनाई दे रही है। सभी गणपति मंडलों में भगवान गणेश का दर्शन करने के लिए लोगों की भीड़ लगी हुई हैं। गणपति की पूजा का सभी जगह शुरु है। मुंबई के मशहूर लालबाग गणेशोत्सव पंडाल में भगवान गणेश का दर्शन पाने के लिए गणेशभक्तों की कतारें लगनी शुरु हो गई हैं। यहां विदेशी भक्तों का भी आगमन होने लगा है। मुंबई के जैसे ही पुणे, नासिक, नागपुर आदि शहरों में भी भगवान गणेश की पूजा अर्चना की जा रही है। मुंबई सहित पूरा महाराष्ट्र इस समय गणेश भक्ति के रस में सराबोर हो गया है।

Updated : 2018-09-13T19:04:08+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top