Top
Home > राज्य > पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के विदेश सफर पर कितना खर्च, विधायक ने किया सवाल

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के विदेश सफर पर कितना खर्च, विधायक ने किया सवाल

वाममोर्चा विधायक दल के नेता सुजन चक्रवर्ती ने दाखिल किया आरटीआई

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के विदेश सफर पर कितना खर्च, विधायक ने किया सवाल
X

कोलकाता/स्वदेश वेब डेस्क। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के विदेश सफर पर कितना खर्च हुआ है एवं कितने रुपये का निवेश पश्चिम बंगाल को मिला है, यह जानने के लिए आरटीआई लगाई गई है। वाममोर्चा विधायक दल के नेता सुजन चक्रवर्ती ने आरटीआई दाखिल किया है। इस बारे में बताया गया है कि इसके जरिए जानने की कोशिश की गई है कि 2011 में मुख्यमंत्री बनने के बाद से लेकर आज तक ममता बनर्जी के विदेश दौरे पर कुल कितनी धनराशि खर्च हुई है एवं कितने रुपये का निवेश इस दौरे की वजह से राज्य को मिला है।

इसके अलावा उनके विदेश सफर पर उनके साथ कौन-कौन गया? वह अपने खर्च पर गए थे या सरकारी खर्च पर, आदि का ब्यौरा भी इस आरटीआई के जरिए मांगा गया है। इस बारे में सुजन चक्रवर्ती ने बताया कि विधानसभा में मुख्यमंत्री के विदेश दौरों से संबंधित खर्च का आंकड़ा मांगने पर राज्य सरकार कभी नहीं देती। कई बार आम लोगों या विधायकों ने भी इस बारे में सूचना के अधिकार का इस्तेमाल कर आरटीआई किया है लेकिन उन्हें भी जानकारी नहीं दी गई है। अब इस बार माकपा विधायक दल के नेता ने स्वयं आरटीआई लगाई है। नियमानुसार 30 दिनों के अंदर अगर राज्य सरकार के संबंधित विभाग की ओर से जानकारी नहीं मिली तो कोर्ट में आवेदन लगाया जाएगा। सुजन चक्रवर्ती ने कहा कि इस बार मुख्यमंत्री इटली और जर्मनी गई थीं। आधिकारिक तौर पर उनका दौरा केवल ढाई दिनों का था लेकिन वह 12 दिनों तक विदेश सफर पर थीं। उनके साथ कौन गया, कितना खर्च हुआ और कितने का निवेश मिला है, इसकी पूरी जानकारी इस आईटीआई में मांगी गई है।

इसके अलावा सुजन चक्रवर्ती ने एक के बाद एक धराशाई हो रहे फ्लाईओवर को लेकर भी मुख्यमंत्री पर हमला बोला है। उन्होंने पूछा कि राजधानी कोलकाता के सबसे बड़े मां फ्लाईओवर पर बड़े-बड़े फूल के गमले लगे हैं। अब जब फ्लाईओवर गिरने लगे हैं तो उन गमलों को हटाया जा रहा है तो सवाल यह है कि क्या विशेषज्ञों की राय के बगैर ही ये गमले लगा दिए गए थे? अगर ऐसा था तो ये फूल लगाने का ठेका किसे दिया गया? कितने रुपये की धनराशि उसे दी गई? उसे अब क्यों हटाया जा रहा है? इसका भी जवाब राज्य सरकार को देना चाहिए।

Updated : 2018-10-05T16:23:53+05:30

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top