Top
Home > खेल > क्रिकेट > टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग को बदलने का श्रेय वीरेंद्र सहवाग को नहीं देते : वसीम अकरम

टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग को बदलने का श्रेय वीरेंद्र सहवाग को नहीं देते : वसीम अकरम

टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग को बदलने का श्रेय वीरेंद्र सहवाग को नहीं देते : वसीम अकरम

नई दिल्ली। जब टेस्ट क्रिकेट में नई गेंद खेलने वाले ओपनर का सवाल उठता है तो आपको लगता है कि वीरेंद्र सहवाग से बेहतर इस काम को कोई और नहीं कर सकता। पूर्व भारतीय ओपनर को अपने आक्रामक स्टाइल के लिए जाना जाता है। उन्होंने बहुत से तेज गेंदबाजों को अपने दौर में चैन की नींद नहीं सोने दिया। डेविड वॉर्नर भी सहवाग को इस बात की श्रेय देते हैं कि उन्होंने ही मुझे आत्मविश्वास दिया है, लेकिन पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग को बदलने का श्रेय वीरेंद्र सहवाग को नहीं देते।

पाकिस्तान के इस पूर्व ऑलराउंडर वसीम अकरम ने शाहिद अफरीदी का नाम लेते हुए कहा कि उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग का माइंडसेट बदला। अकरम ने कहा, ''टेस्ट क्रिकेट में सहवाग 1999-2000 में आए, तब तक अफरीदी टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग की दुनिया बदल चुके थे। एक गेंदबाज के रूप में मैं जानता था कि मैं उन्हें आउट कर सकता हूं, लेकिन साथ ही यह भी जानता था कि वह मेरी किसी भी गेंद को छक्के के लिए मार सकते हैं।''

शाहिद अफरीदी ने टेस्ट क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1998 में डेब्यू किया, लेकिन 1999-2000 में भारत के दौरे पर इस आक्रामक बल्लेबाज ने अपनी पहचान बनाई। अकरम ने खुलासा करते हुए कहा, ''1999 में वह पाकिस्तानी टीम में नहीं थे, लेकिन इमरान खान के सुझाव और अपने गट्स की वजह से उन्हें टीम में रखा गया।''

उन्होंने कहा, ''टीम चयन से पहले मैंने इमरान खान से कहा कि मैं अफरीदी को टीम में रखना चाहता हूं, लेकिन कुछ चयनकर्ता इसके खिलाफ थे। लेकिन इमरान ने कहा कि तुम निश्चित रूप से उसे साथ ले जा सकते हो। मैंने इमरान से बहुत-सी बातों पर चर्चा की।''

शाहिद अफरीदी ने इमरान और वसीम के विश्वास को सही साबित किया। उन्होंने चेन्नई में पहले टेस्ट शतक (141 रन) बनाया। इससे पाकिस्तान ने 1-0 की लीड ली। अकरम ने कहा, ''चेन्नई के ट्रेक पर क्या लाजवाब पारी थी वह। उन्होंने कुंबले और जोशी की गेंदों पर छक्के जड़े।''

पाकिस्तान वह टेस्ट सीरीज 2-1 से जीत गया। हालांकि, शाहिद अफरीदी का टेस्ट करियर बहुत उड़ान नहीं ले पाया। वह पाकिस्तान के लिए केवल 27 टेस्ट मैच खेले, लेकिन वनडे के वह दिग्गज खिलाड़ी साबित हुए। उन्होंने 398 वनडे और 99 टी मैच खेले।

Updated : 30 March 2020 6:02 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top