Top
Home > धर्म > 59 वर्ष बाद सर्वसिद्धि व अमृत योग में मनेगी महाशिवरात्रि, शिव को ऐसे करें प्रसन्न....

59 वर्ष बाद सर्वसिद्धि व अमृत योग में मनेगी महाशिवरात्रि, शिव को ऐसे करें प्रसन्न....

59 वर्ष बाद सर्वसिद्धि व अमृत योग में मनेगी महाशिवरात्रि, शिव को ऐसे करें प्रसन्न....

ग्वालियर। इस वर्ष महाशिवरात्रि का पर्व 21 फरवरी शुक्रवार को मनाया जाएगा। ज्योतिषाचार्य पं. सतीश सोनी के अनुसार 59 वर्ष के बाद महाशिवरात्रि, सर्वसिद्धि, अमृत योग में मनाई जाएगी। यह योग लोगों को भौतिक सुखों में उन्नति व वृद्धि दिलाएगा। यह दिन भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए सबसे अधिक शुभ होता है। महाशिवरात्रि पर कालसर्प दोष पूजा का सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त भी है। जिन व्यक्तियों को कालसर्प दोष है, उन्हें इस संयोग में दोष की शांति कराना श्रेष्ठ होगा।

ज्योतिषाचार्य के अनुसार महाशिवरात्रि पर्व पर चंद्र शनि की मकर राशि में युति के साथ पंच महापुरुष में शश योग भी बन रहा है। आमतौर पर श्रवण नक्षत्र में आने वाली शिवरात्रि में मकर राशि के चंद्रमा का योग बनता है, लेकिन 59 वर्ष बाद शनि के मकर राशि में होने से तथा चंद्र का संचरण अनुक्रम में शनि के वर्गोत्तम अवस्था में शश योग का संयोग बन रहा है, क्योंकि चंद्रमा मन तथा शनि ऊर्जा का कारक ग्रह यह योग साधना सिद्धि के साथ भगवान भोलेनाथ के साथ मां पार्वती की कृपा प्राप्त करने के लिए विशेष महत्व रखता है

भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए यह करें:-

मान्यता है कि भगवान शंकर को रुद्रा-अभिषेक के पाठ से प्रसन्नता मिलती है। शिवजी को बेलपत्र, बेल फल, धतूरा, फूल, पंचमेवा, चंदन लगाकर पूजा करने से जल्दी फल मिलता है। वहीं शिवरात्रि को रात्रि जागरण का अपना एक अलग विशेष महत्व है। शुक्रवार को शिवरात्रि होने से इस दिन दूध चावल, साबूदाना, सफेद मिठाई एवं शक्कर के प्रयोग के साथ पूजन सामग्री का प्रयोग करना एवं ग्रहण करना भी लाभकारी रहेगा।

नि:शुल्क होगी कालसर्प पूजा:-

बालाजी धाम दरबार धर्मार्थ सेवा समिति महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर जातकों को नि:शुल्क कालसर्प दोष, पितृदोष, राहु केतु दोष निवारण शांति पूजा कराई जाएगी। मंदिर के महंत किशोर शर्मा एवं ज्योतिषाचार्य पंडित सतीश सोनी ने बताया कि जो जातक कालसर्प दोष निवारण शांति पूजा में बैठेंगे उन्हें मंदिर समिति की ओर से नि:शुल्क पूजन सामग्री दी जाएगी। जातकों को पूजा में बैठने के लिए पंजीयन कराना होगा। पूजा का समय 21 फरवरी शुक्रवार को सुबह 11 बजे से प्रारंभ होकर शाम 5 बजे तक रहेगा।

Updated : 7 Feb 2020 12:56 PM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top