Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > डेंगू की ही तरह कोरोना वायरस को भी हराएंगे : केजरीवाल

डेंगू की ही तरह कोरोना वायरस को भी हराएंगे : केजरीवाल

- अभी तक एक लाख 16 हज़ार से ज्यादा लोगों की हुई एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग

डेंगू की ही तरह कोरोना वायरस को भी हराएंगे : केजरीवाल

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को सचिवालय में अधिकारियों के साथ कोरोना वायरस को लेकर बैठक की। बैठक के बाद मुख्यमंत्री केजरीवाल ने पत्रकार-वार्ता में कहा कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए केन्द्र और राज्य सरकार मिलकर काम कर रही है। जिस तरह से हमने डेंगू को हराया था, उसी तरह हम इस खतरनाक बीमारी (कोरोना वायरस) को भी हराएंगे। दिल्ली में एक स्टेट लेवल टास्क फोर्स का गठन किया गया है जिसकी अध्यक्षता वो खुद करेंगे। टास्क फोर्स की मीटिंग में सभी आपातकालीन स्थिति में तैयार रहने को कहा गया है ताकि हर हालात से निपटा जा सके।

उन्होंने कहा कि अभी तक 1 लाख 16 हज़ार से ज्यादा लोगों की एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग की जा चुकी है। इसमें 5 हजार से ज्यादा यात्री ऐसे थे जो कोरोना पीड़ित देशों से दिल्ली आए थे। उनमें से 4 हजार से ज्यादा की स्क्रीनिंग हो चुकी है। कोरोना वायरस से प्रभावित देशों से आने वाले लोगों की विशेष जांच की जा रही है। केजरीवाल ने यह भी कहा कि इन लोगों के संपर्क में आये 88 लोगों के बारे में पता चला है जिनकी भी जांच की जाएगी। एयरपोर्ट पर थर्मल स्कैनिंग की जा रही है। सभी होटल और गेस्ट हाउस में कोरोना प्रभावित देशों से आने वाले विदेशियों को स्कैन किया जायेगा। केजरीवाल ने बताया कि इटली से आए 21 लोगों को कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया है। यह सभी दिल्ली के सूर्या होटल में रुके थे। इस होटल के 13 से 14 कमरे सील कर दिए गए हैं। सूर्या होटल के बाद ये सभी दिल्ली के ग्रैंड होटल में भी रुके थे। इसलिए वहां भी जांच की जारी है। इन सभी को निगरानी में कैंप में रखा गया है।

उन्होंने बताया कि जिन लोगों में कोई लक्षण नहीं दिख रहे हैं, उनकी भी निगरानी की जा रही है क्योंकि कोरोना वायरस के लक्षण 14 दिनों के बाद दिखाई देते हैं। केजरीवाल ने बतााया कि दिल्ली के 25 अस्पतालों में इसके मरीजों को रखने की व्यवस्था की गई है जिसके लिए 230 बेड निर्धारित किए गए हैं। कोरोना वायरस की जांच के लिए 2 लैब निर्धारित की गई हैं, जिसमें प्रतिदिन 250 मरीजों की जांच की जा सकती है। सरकार के पास N-95 मास्क की कोई कमी नहीं है।

उन्होंने बताया कि आरएमएल और सफदरजंग को नोडल हॉस्पिटल बनाया गया है। 25 अस्पतालों में 19 सरकारी और 6 निजी अस्पताल हैं, जहां तैयारी की गई हैं। उन्‍होंने यह भी कहा कि प्रभावितों के करीब ना आएं। छींक आने पर डिस्पोजल नेपकिन का इस्तेमाल करें। घबराने की ज़रूरत नहीं है। बस सबको एहतियात बरतने की ज़रूरत है। बुजुर्ग और बीमार लोगों को यह बीमारी होने का खतरा ज्‍यादा है। सरकार की ओर से साढ़े तीन लाख मास्क उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली हिंसा और कोरोना वायरस के चलते वह इस बार होली मिलन समारोह नहीं मनाएंगे। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि हमारे विधायक और मंत्री भी होली मिलन समारोह नहीं मनाएंगे।

Updated : 4 March 2020 1:46 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top