Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > टीईटी की परीक्षा में जातिसूचक प्रश्न मामले में बोर्ड के चेयरमैन पर कार्रवाई की मांग

टीईटी की परीक्षा में जातिसूचक प्रश्न मामले में बोर्ड के चेयरमैन पर कार्रवाई की मांग

टीईटी की परीक्षा में जातिसूचक प्रश्न मामले में बोर्ड के चेयरमैन पर कार्रवाई की मांग

नई दिल्ली/स्वदेश वेब डेस्क। दिल्ली अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड़ (डीएसएसएसबी) की शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) में जातिसूचक प्रश्न शामिल किए जाने को लेकर विरोध तेज हो गया है। शिक्षक फोरम ने बोर्ड के चेयरमैन पर कानूनी कार्रवाई की मांग को लेकर मोरिस नगर पुलिस थाना में प्राथमिकी दर्ज कराने के साथ ही एससी, एसटी के कल्याणार्थ संसदीय समिति और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग में भी शिकायत दी है।

दिल्ली विश्वविद्यालय एससी, एसटी ओबीसी टीचर्स फोरम ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली के शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया को पत्र लिखकर मांग की है कि बोर्ड के चेयरमैन को तत्काल बर्खास्त किया जाए और भविष्य में प्रतियोगी परीक्षाओं में परीक्षार्थियों से इस तरह के सवाल नहीं पूछे जाएं जो किसी जाति विशेष की भावनाओं को ठेस पहुंचाते हों।

टीचर्स फोरम ने संसदीय समिति, राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग व पुलिस में की गई शिकायत में लिखा है कि 13 अक्टूबर को दिल्ली में प्राथमिक शिक्षक भर्ती के लिए डीएसएसएसबी ने पोस्ट कोड--16/17 और 01/18 की परीक्षा ली थीं। उसमें चमार जाति के संदर्भ में प्रश्न नम्बर--69 किसी में 74 पेज नम्बर--9 में पूछा गया है कि पंडित : पंडिताइन तो चमार : चमाराइन, चमारिन, चमारी, चमीर ? प्रश्न पत्र में जाति विशेष पर टिप्पणी की गई थी जिसे लेकर फोरम ने अपना रोष जताया है।

टीचर्स फोरम के चेयरमैन प्रो. हंसराज सुमन ने कहा कि शिक्षकों की प्रतियोगी परीक्षाओं में इस तरह का जातिवादी प्रश्न पूछकर बोर्ड ने अपनी जातिवादी मानसिकता का परिचय दिया है। आज देशभर में इस जाति के लोगों की संख्या करोड़ों में है। यह जाति आज शिक्षा के मामले में सर्वाधिक पढ़ी लिखी है साथ ही श्रमजीवी भी। इस प्रकार से शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में जाति का उल्लेख करना उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाना है। इस कृत्य की जितनी निंदा की जाए कम है।

फोरम ने शिकायत करने से पूर्व इस संदर्भ में एक बैठक की उसमें शिक्षकों ने मांग रखी कि प्रश्न पत्र बनाने वाले व चयन बोर्ड़ के चेयरमैन को तत्काल उसके पद से बर्खास्त करने की मांग की है। साथ ही उस अधिकारी के खिलाफ तुरंत एफआईआर दर्ज कर कार्यवाही की मांग दोहरायी है।

Updated : 2018-10-16T18:28:42+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top