Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, ज्वाइंट ऑपरेशन में श्रीनगर से पकड़े तीन आतंकी

दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, ज्वाइंट ऑपरेशन में श्रीनगर से पकड़े तीन आतंकी

जम्मू-कश्मीर के शोपियां में मुठभेड़ में छह आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, ज्वाइंट ऑपरेशन में श्रीनगर से पकड़े तीन आतंकी

नई दिल्ली/जम्मू। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल टीम ने आज तीन आतंकियों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं। बताया जा रहा है कि ये आतंकी बड़ी साजिश को अंजाम देने की फिराक में थे। पकड़े गए आतंकियों का संबंध जम्मू-कश्मीर के एक आतंकवादी समूह से है। फिलहाल पुलिस पकड़े गए इन आतंकियों से पूछताछ कर जानकारी हासिल करने की कोशिश कर रही है। उधर, जम्मू कश्मीर में रविवार की सुबह तक चली मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने छह आतंकियों को मार गिराया है जबकि इस दौरान सेना का एक जवान भी गंभीर रूप से घायल हो गया, जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गयी ।

स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा के अनुसार दरअसल दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल पिछले कई महीनों से आतंकियों के एक मोड्यूल पर काम कर रही थी। इसी बीच स्पेशल सेल को जानकारी मिली कि तीन आतंकी श्रीनगर (जम्मू-कश्मीर) में हैं। इस सूचना के आधार पर दिल्ली पुलिस ने श्रीनगर की एसओजी के साथ एक ज्वाइन्ट ऑपरेशन श्रीनगर में किया। गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने श्रीनगर के कोठीबाग इलाके में ट्रैप लगाया और वहां से गुजर रहे तीनों को रुकने के लिए कहा, इसी बीच एक आतंकी ने पुलिस पर हमला कर दिया, लेकिन पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए तीनों आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया।

इनकी पहचान हैरिश मुश्ताक़ खान, ताहिर अहमद खान और आसिफ सुहैल के रूप में हुई है। इन आतंकियों के पास से पुलिस ने 3 हैंड ग्रेनेड, दो पिस्टल और 14 कारतूस बरामद किये हैं। इनके पास से आईएसआईएस का झंडा भी बरामद हुआ है। जब इनसे पूछताछ हुई तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए। जांच में पुलिस को पता चला है कि आतंकियों का ये ग्रुप आईएसआईएस से प्रेरित है। ये आतंकी दिल्ली में किसी बड़ी साजिश को अंजाम देना चाहते थे। ये दहशत गर्द पहले भी कई बार दहशत फैला चुके हैं।

डीसीपी के अनुसार इस ग्रुप में कई आतंकी है। इस ग्रुप का हैंडलर पाकिस्तान में बैठा है और वहीं से इस ग्रुप को निर्देश देता है। उक्त ग्रुप ने 31 जुलाई, 2018 को अनंतनाग जिले में ग्रनेड से सीआरपीएफ कैम्प पर हमला किया था। नवम्बर 2017 में इसी ग्रुप ने कश्मीर पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर की गोली मार कर हत्या की थी। नौ सितम्बर, 2018 को एक नागरिक की सिर्फ इसलिए हत्या कर दी थी, क्योंकि इनको लगता था कि वह पुलिस का मुखबिर है।

पुलिस के अनुसार इसी वर्ष सितम्बर के महीने में परवेज और जमशीद नाम के दो आतंकियों को दिल्ली के लाल किले के पास से गिरफ्तार किया गया था। ये दोनों भी इसी ग्रुप आईएसजेके से जुड़े थे। इन्हीं से बाकी के मॉड्यूल की जानकारी मिली और अब ये तीन आतंकी गिरफ्तार किए गए हैं। पुलिस ने अवंतीपोरा में इनके उस ठिकाने को भी तलाश लिया है, जहां ये ज़मीन के अंदर छुप कर रहते थे। ज़मीन में बाहर एक छोटा सा होल था, लेकिन नीचे पूरा कमरा था, जिसमें जरूरत का पूरा सामान था।

पकड़ा गया आतंकी हैरिश मुश्ताक़ खान 2013 से 2016 तक जामिया विश्वविद्यालय का छात्र रह चुका है। उसने जामिया से एमए इंटरनेशनल स्टडीज में किया है। स्पेशल सेल के अनुसार इस मॉड्यूल में करीब 12 आतंकी हैं, जिसमें कई मारे और पकड़े गए हैं। इस ग्रुप का सरगना आदिल ठोकर है, जिसकी तलाश अब की जा रही है। हाल ही में ग्रेटर नोएडा के शारदा विश्वविद्यालय का छात्र एहतिशाम बिलाल भी इसी मोड्यूल में शामिल था। स्पेशल सेल की टीम अब ये पता करने में जुटी है कि दिल्ली में ये लोग कहां-कहां दहशत फैलाने वाले थे।

खुफिया सूचना के आधार पर पहले ही अलर्ट थी दिल्ली पुलिस

मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने एडवाइजरी जारी करते हुए संदिग्ध आतंकियों की तस्वीर भी जारी की थी। पुलिस ने लोगों से अपील की थी कि अगर ये दोनों शहर में देखे जायें तो तुरंत थाने में फोन कर इसकी सूचना दें। हालांकि इस मामले में दिल्ली पुलिस को कोई आधिकारिक बयान फिलहाल नहीं आया है। पुलिस ने पिछले हफ्ते से ही दिल्ली में सर्च अभियान चलाया हुआ था, जिसके तहत कई गेस्ट हाउस और होटलों में पुलिस की छापेमारी चल रही थी। इससे पहले खुफिया एजेंसियों ने दिल्ली समेत पंजाब में आतंकियों के छिपे होने का अलर्ट भी जारी किया था।

शोपियां में सुरक्षाबलों ने 6 आतंकियों को किया ढेर

जम्मू-कश्मीर में शोपियां जिले के बटागुंड क्षेत्र में शनिवार देर रात से रविवार की सुबह तक चली मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने छह आतंकियों को मार गिराया है। इनमें से पांच की पहचान हो गई है। इनके सम्बन्ध हिज्बुल मुजाहिदीन और लश्करे तैयबा से है। इस दौरान सेना का एक जवान भी गंभीर रूप से घायल हो गया, जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गयी। शहीद जवान की पहचान सेना की 34 आरआर के नज़ीर अहमद के रूप में हुई है। नज़ीर अहमद अशमुजी कुलगामा का निवासी है।

मारे गए आतंकियों के शवों के साथ भारी मात्रा में हथियार व गोला बारूद बरामद किया गया है। मारे गए आतंकियों के नाम मुश्ताक अहमद मीर निवासी चेकीचोलन, मोहम्मद अब्बास भट्ट निवासी चेकी मंत्रीबुग, मोहम्मद वसीम वागेय निवासी अमीशपोरा, खालिद फारूक मलिक निवासी शोपियां तथा उमर मजीद गनई निवासी कुलगाम हैं।

पुलिस के अनुसार मारे गए आतंकियों के बारे में जो भी सुराग जुटाए गए हैं, उनसे पता चला है कि ये आतंकी पिछले दिनों सुरक्षाबलों की मुखबिरी करने के संदेह में अगवा किए गए युवकों तथा उनमें से एक को मारकर सोशल मीडिया पर वीडियो अपलोड करने की वारदात में शमिल थे।

Updated : 2018-11-30T20:28:57+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top