Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > कोरोना : एक टैक्सी, पांच सवारी, सात संक्रमित, बुजुर्ग की मौत

कोरोना : एक टैक्सी, पांच सवारी, सात संक्रमित, बुजुर्ग की मौत

कोरोना : एक टैक्सी, पांच सवारी, सात संक्रमित, बुजुर्ग की मौत

नई दिल्ली। कोरोना को लेकर दुनियाभर में खौफ का माहौल है। भारत में संक्रमितों की संख्या 147 हो चुकी है। ऐसे में महाराष्ट्र से आई खबर डराने वाली है। दरअसल, एक मार्च को महाराष्ट्र के पुणे के एक पति-पत्नी और उनकी बेटी दुबई से मुंबई लौटे। मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से उन्होंने पुणे के लिए टैक्सी बुक की थी। तीनों बाद में कोरोना से संक्रमित पाए गए। इन तीनों का अभी पुणे में इलाज चल रहा है।

इसी टैक्सी में मुंबई के 64 साल के एक बुजुर्ग भी एयरपोर्ट से घर लौटे। उन्हें भी बाद में कोरोना संक्रमण हुआ। मंगलवार को मुंबई में उनकी मौत हो गई। बुजुर्ग की पत्नी और बेटी भी पीड़ित हैं। मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल में भर्ती किए गए हैं। टैक्सी चला रहा ड्राइवर भी कोरोना से संक्रमित हुआ। इसी टैक्सी में एक अन्य युवक ने सफर किया। उसे भी संक्रमण हो गया और इस तरह से कुल सात लोग संक्रमण की चपेट में आए। टैक्सी ड्राइवर और युवक अभी आइसोलेशन वार्ड में इलाजरत हैं।

इधर, राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा पर भी अब कोरोना का खौफ हावी हो चला है। दो मरीजों को कोरोना की पुष्टि हो जाने के बाद उनकी सोसाइटी में रहने वाले लोगों में हड़कंप मच गया। इन दोनों सोसाइटियों के अलावा इन्ही से सटी एक अन्य सोसाइटी के 6000 परिवार दहशत में आ गए हैं। इन परिवारों के लोग घरों में कैद हो गए हैं और उनमें अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंता साफ नजर आ रही थी, वह स्वास्थ्य विभाग, प्रशासन और एओए के पदाधिकारियों से भिड़ते हुए नजर आए।

नोएडा के सेक्टर-78 में स्थित निंबस हाइड पार्क सोसाइटी में बीस से अधिक टावरों में 2100 परिवार रहते हैं। इसी सोसाइटी के एच ब्लाक टावर में रहने वाले एक युवक को कोरोना की पुष्टि होने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम अपने साथ ले गई थी। जिसका पता दिन निकलने के साथ ही जैसे-जैसे लोगों को चला उनका खौफ बढ़ता गया और उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों और सोसाइटियों के पदाधिकारियों से तीखी नोंक-झोंक करते हुए इसको लेकर नाराजगी भी जतायी कि दोपहर तक भी इस पूरी सोसाइटी को संक्रमण मुक्त करने के लिए अभियान क्यों नहीं चलाया गया और कोरोना पीड़ित व्यक्ति के साथ रहने वाली महिला को अभी तक अस्पताल में क्यों नहीं रखा गया है।

Updated : 18 March 2020 5:05 AM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top