Top
Home > राज्य > अन्य > नई दिल्ली > चैमुखी विकास के लिए भाजपा ही एकमात्र विकल्प: श्याम जाजू

चैमुखी विकास के लिए भाजपा ही एकमात्र विकल्प: श्याम जाजू

पहले देश बदला, अब दिल्ली बदलेंगे

चैमुखी विकास के लिए भाजपा ही एकमात्र विकल्प: श्याम जाजू

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक दलों का प्रचार-प्रसार गुरूवार शाम थम गया। भाजपा का अब तक का यह सबसे बड़ा और सघन प्रचार अभियान था जिसमें उसने पूरी ताकत लगा दी। प्रधानमंत्री से लेकर मंत्रिपरिषद के सहयोगियों सहित बड़ी संख्या में सांसदों, मुख्यमंत्रियों व पूर्व मुख्यमंत्रियों ने भाजपा को जिताने के लिए प्रचार किया। यह प्रचार हर बार की तरह से कुछ अनौखा था तो इसलिए कि गृह मंत्री अमित शाह से लेकर सभी मंत्री जनता के बीच जनसंपर्क करते नजर आए। केंद्रीय मंत्रियों व सांसदों ने जगह-जगह नुक्कड़ सभाओं के जरिए मोदी सरकार की योजनाओं को उनके पास पहुंचाया। उन्हें भरोसा दिलाया कि भाजपा की सरकार बनने पर ही दिल्ली का चैमुखी विकास संभव है। पूरी भाजपा एक यूनिट की तरह काम करती नजर आई। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार को तथ्यों के आधार पर घेरते हुए भाजपा ने उसके झूठे दावों और वादों की हवा निकालकर रख दी है। भाजपा के दिल्ली प्रभारी व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्याम जाजू ने 'स्वदेश' के साथ बातचीत में कहा कि दिल्ली में इस बार भाजपा अपनी सरकार बनाएगी। कांग्रेस पर सवाल उठाते हुए श्याम जाजू ने कहा कि वह तो नतीजों से पहले ही चुनावी रण से पलायन कर गई, लिहाजा मुकाबला भाजपा और आप पार्टी के बीच रह गया है जिसमें भाजपा आप को पटकनी देगी। प्रस्तुत है बातचीत के अंश -

सवाल: तमाम सर्वे में आप पार्टी की एकतरफा जीत के दावे थे लेकिन, कुछ ही दिनों में भाजपा ने जबरजस्त बढ़त हासिल की, यह सब कैसे हो गया?

जवाब: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली की जनता को पांच साल तक गुमराह किया। हमने तथ्यों के आधार पर उनके दावों की पोल खोली। इसके लिए पार्टी ने एकजुटता के साथ सघन संपर्क अभियान चलाया। लोगों को जब सच्चाई समझ में आई तो जनता से केजरीवाल का जादू उतर गया है।

सवाल: इस चुनाव में कांग्रेस प्रचार-प्रसार से दूर रही। भाजपा को रोकने के लिए क्या उसने केजरीवाल अप्रत्यक्ष रूप से वाक ओवर दे दिया है?

जवाब: भाजपा राष्ट्रहित में लगातार एक से बढ़कर एक निर्णय कर रही है। प्रधानमंत्री का भरोसा भी लगातार बढ़ता जा रहा है। इसके इतर, कांग्रेस की नकारात्मक नीति ने उसे कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। पिछले चुनावों में तो वह दो-चार सीटों पर दमखम दिखा भी पाई थी। इस बार तो वह नेपथ्य में जाती नजर आ रही है। फिर आप पार्टी के नेता और कार्यकर्ता जिस तरह के कृत्यों को अंजाम दे रहे हैं उससे जनता के बीच उनकी छवि धूमिल हुई है। अगर अब भी वे वे सत्ता में वापसी की बात करते हैं तो यह उनका दिवास्वप्न ही होगा।

सवाल: तो क्या मुद्दा इस बार राष्ट्रवाद बनाम शाहीना बाग का बन गया है? अगर हां तो दिल्ली की जनता किसे तवज्जो देने जा रही है?

जवाब: दिल्ली में देश के विभिन्न राज्यों से आए हुए लोग यहां के निवासी हैं जो अनेकता में एकता की मिसाल कायम कर रहे हैं। इन्होंने बहुरंगी संस्कृति को अपनाया लेकिन सबकी प्राथमिकता में राष्ट्रवाद ही सर्वाेपरि है। देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आगे बढ़ रहा है तो दिल्ली की जनता भी राष्ट्रवाद के यज्ञ में अपनी आहुति देना चाहती है। विघ्नकारी तत्वों को हराकर दिल्ली की जनता उन्हें सबक सिखाएगी।

सवाल: आप नेता अपने बचाव में गिरफ्तार करने की चुनौती देते हैं, अगर वे दोषी हैं तो पुलिस गिरफ्तार क्यों न हीं करती?

जवाब: ईडी ने उन पर पीएफआई जैसे संगठन के साथ जुड़े होने के आरोप तय किए हैं। भाजपा ने बाकायदा इसकी प्राथमिकी दर्ज कराई हैं। जांच आने दीजिए, मौका रहा तो वे गिरफ्तार भी किए जाएंगे। आखिर, 120.5 करोड़ रूपए के लेनदेन की बात है। पता लगना जरूरी हो गया है कि इतनी बड़ी राशि कैसे घूमती रही? इनका इरादा क्या था? कहीं देश को अस्थिर करने की साजिश तो नहीं थी, ईडी इस पर गहराई से पड़ताल कर रही है।

सवाल: आप के नेता शुरू से ही शाहीन बाग और जामिया में हिंसक प्रदर्शनों के पीछे भाजपा का हाथ बताते रहे हैं लेकिन पुलिस की रिपोर्ट तो कुछ और ही बयां कर रही है।

जवाब: यह तो यही हुआ कि उल्टा चोर कोतबाल को डांटे। शाहीना बाग में गोली चलाने वाला आप पार्टी का कार्यकर्ता निकला। इसने लोगों को झकझोर कर रख दिया है। इनका असली चेहरा जनता के समक्ष उजागर हो गया है। गुमराह करने के कदमों को फौरन रोका जाना चाहिए। भाजपा ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की मांग कर रही है।

सवाल: प्रचार का आज आखिरी दिन है, आप किस तरह के परिणामों की उम्मीद करते हैं?

जवाब: चुनाव का माहौल पूरी तरह बदल गया है। राष्ट्रवाद लहर के चलते पहले देश बदला अब दिल्ली बदलेंगे। लोग मोदी सरकार की योजनाओं का लाभ लेने के लिए भाजपा को विकल्प के तौर पर देख रहे हैं। केजरीवाल जनता से उतर गए हैं। भाजपा दिल्ली में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी।

Updated : 6 Feb 2020 4:30 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top