Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > कश्मीर में धारा 370 हटने का ग्वालियर मेला पर कोई असर नहीं, 100 कश्मीरियों ने बुक कराईं दुकानें

कश्मीर में धारा 370 हटने का ग्वालियर मेला पर कोई असर नहीं, 100 कश्मीरियों ने बुक कराईं दुकानें

मेला की छत्रियों में मिलेगा नि:शुल्क शीतल जल, होगी बैठने की व्यवस्था

कश्मीर में धारा 370 हटने का ग्वालियर मेला पर कोई असर नहीं, 100 कश्मीरियों ने बुक कराईं दुकानें

ग्वालियर, न.सं. कश्मीर में धारा 370 व 35 ए हटाए जाने का असर भले ही तीन महीने के बाद भी वहां देखने को मिल रहा हो, लेकिन कश्मीरी कारोबारियों के कारोबार करने के जुनून में कोई कमी नहीं आई है। कश्मीरी कारोबारियों ने ग्वालियर व्यापार मेला में 100 दुकानों को कारोबार के लिए बुक करा लिया है। मेला में 15 से 25 दिसम्बर के बीच कश्मीरी कारोबारियों की दुकानें सैलानियों के लिए लग जाएंगी।

ग्वालियर व्यापार मेला में पिछले कई वर्षों से कश्मीरियों का आना लगा हुआ है। कश्मीरी यहां आकर गर्म कपड़े और कालीन आदि बेचते हैं। मेला में आने वाले सैलानी इन कश्मीरियों का सामान खरीदने के लिए वर्ष भर इंतजार भी करते हैं। कश्मीर में धारा 370 व 35 ए हटने के बाद वहां कुछ समय के लिए कफ्र्यू लगने के साथ ही मोबाइल व इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई थी, साथ ही बाजार, स्कूल-कॉलेज भी बंद हो गए थे। हालांकि अब वहां स्थिति सामान्य बताई जा रही है। इसके बावजूद कारोबारी कश्मीरियों ने हिम्मत दिखाते हुए अपने घरों में कामकाज चालू रखा और गर्म कपड़े व कालीन आदि तैयार कर लिए। अब इन कश्मीरियों ने ग्वालियर व्यापार मेला में आने की सहमति देते हुए 100 दुकानों को बुक कर लिया है। मेला में इन कश्मीरियों की दुकानें इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर के पास लगाई जाएंगी। इन कारोबारियों के मेला में आने से मेला का कारोबार और अधिक अच्छा होने की संभावना है।

छत्रियों पर की जाएगी शीतल जल की व्यवस्था

ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण द्वारा इस बार मेला में सैलानियों के लिए एक अच्छी पहल की शुरूआत होने जा रही है। ग्वालियर व्यापार मेला में 23 छत्रीयां हैं। मेला प्राधिकरण द्वारा इनमें से कुछ छत्रियां कम्पनियों को दिए जाने की योजना है। यह कम्पनियां इन छत्रियों पर अपना विज्ञापन करेंगी और प्राधिकरण को पैसा देंगी। प्राधिकरण द्वारा इन छत्रियों में लोगों के बैठने के लिए कुर्सियां और पीने के लिए नि:शुल्क शीतल जल उपलब्ध कराया जाएगा, जिससे ऐसे सैलानी जो मेला में घूमते-घूमते थक जाते हैं। वे यहां बैठकर कुछ समय तक आराम कर सकें।

इनका कहना है

'मेला में आने के लिए 100 कश्मीरियों ने सहमति दे दी है। दिसम्बर माह में इनकी दुकानें लग जाएंगी।'

डॉ. प्रवीण अग्रवाल, उपाध्यक्ष, मेला प्राधिकरण

'हम पिछले 18 वर्ष से मेला में आ रहे हैं। कश्मीर भी अब धीरे-धीरे सामान्य हो रहा है। धारा 370 व 35 ए हटने के दौरान जब कश्मीर में कफर््यू लगा था, उसी दौरान हमने अपने घरों पर बैठकर मेला में आने के लिए अपना सामान तैयार कर लिया था। अब सरकार भी हमारे साथ है। मेला में इस बार हम लक्ष्य से अधिक व्यापार करेंगे। हमारे पास बेचने के लिए पूरा माल तैयार है।'

मोहम्मद इस्माइल, कश्मीरी कारोबारी

'हम यहां आकर कारोबार नहीं करेंगे तो कहां जाएंगे। कारोबार की दृष्टि से ग्वालियर व्यापार मेला हम लोगों के लिए एक अच्छा प्लेफार्म है। हम 20 दिसम्बर तक मेला में अपनी दुकान लगा लेंगे।'

जिनेब शेख, कश्मीरी कारोबारी

'कश्मीर में अभी स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। मगर धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हो जाएगी। आगे अच्छे परिणाम आने की संभावना है।'

रूऊफ अहमद, कश्मीरी कारोबारी

Updated : 23 Nov 2019 11:07 AM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top