Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट : कंट्रोल कमांड सेंटर के लोकार्पण के लिए मिली तारीख, सिंधिया ने दी हरी झंडी

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट : कंट्रोल कमांड सेंटर के लोकार्पण के लिए मिली तारीख, सिंधिया ने दी हरी झंडी

29 को होगा शुभारंभ, 30 करोड़ है लागत

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट : कंट्रोल कमांड सेंटर के लोकार्पण के लिए मिली तारीख, सिंधिया ने दी हरी झंडी
X

ग्वालियर/वेब डेस्क। लगभग छह माह पूर्व बनकर तैयार हो चुके स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के मोती महल स्थित कंट्रोल कमांड सेंटर के लोकार्पण की तारीख आखिर मिल ही गई। इसके लिए वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा लगातार पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से तारीख मांगी जा रही थी, जो अब जाकर 29 नवम्बर की मिली है। यद्यपि इस दिन लोकार्पण को लेकर फेरबदल भी संभावित है क्योंकि सिंधिया के कार्यक्रम बार-बार डगमगा जाते हैं। उल्लेखनीय है कि स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर में लगभग 500 करोड़ से अधिक के कार्य किए जा रहे हैं। इसकी निगरानी के लिए मोती महल की पुरानी इमारत में 30 करोड़ की लागत से कंट्रोल कमांड सेंटर स्थापित किया गया है। यहां यह भी बताना आवश्यक होगा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के कुछ दिन बाद जिलाधीश कार्यालय में विकास कार्यों को लेकर श्री सिंधिया द्वारा ली गई बैठक में यह कहा गया था कि स्मार्ट सिटी का कंट्रोल कमांड सेंटर मोती महल की जगह कहीं और स्थापित किया जाए। किंतु बोर्ड ने यह तर्क रखा कि सेंटर पर काफी कार्य हो चुका है। उस स्थान को बदला नहीं जा सकता है। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत मोती महल में कमांड कंट्रोल (सीसी) सिस्टम बनकर पूरी तरह तैयार हो गया है। फिलहाल इसका परीक्षण प्रत्येक दिन किया जा रहा है, जिसमें सिस्टम पूरी तरह काम कर रहा है। कमांड सिस्टम से सबसे पहले स्वच्छ भारत अभियान की मॉनीटरिंग होगी। मंगलवार को जिलाधीश अनुराग चौधरी ने स्मार्ट सिटी कार्यों की समीक्ष की, जिसमें श्री चौधरी ने स्मार्ट सिटी के सीईओ महिप तेजस्वी को निर्देश दिए कि स्मार्ट सिटी के जो कार्य पूर्ण हो गए हैं, उनका लोकार्पण कराया जाए। बीते रोज स्मार्ट सिटी सीईओ महिप तेजस्वी पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से कंट्रोल कमांड सेंटर के लोकार्पण की तारीख लेकर पहुंचे थे, जहां से हरी झंडी मिलने के बाद 29 नवम्बर को इस सेंटर का लोकार्पण किया जाएगा।

यह मिलेगी सुविधा

कचरा वाहन किस क्षेत्र में नहीं पहुंचा? कमांड सेंटर को इसकी जानकारी मिल जाएगी और वहां बैठे ऑपरेटर नगर निगम को यह जानकारी दे सकेंगे। इसी तरह सडक़ों की बदहाली और पानी की लाइन की लीकेज की जानकारी तत्काल मिल सकेगी। कमांड सेंटर में लगे टीवी स्क्रीन पर ऑनलाइन इस तरह की गड़बडिय़ां या समस्याएं लाइव देखी जा सकेंगी। महिलाओं की सुरक्षा के लिए भी एप बनाए गए हैं। अलर्ट होते ही डायल 100 के वाहन वहां जा खड़े होते हैं।

कचरा वाहनों की ट्रैकिंग

सबसे पहले सेंटर से स्वच्छता मिशन की मॉनीटरिंग की जाएगी। इसके लिए कचरा वाहनों की ट्रैकिंग होगी। कचरा नहीं उठ रहा है तो इसकी भी जानकारी संबंधित के पास पहुंचेगी। क्या कचरा वाहन समय पर कॉलोनी में कचरा लेने के लिए जा रहे हैं? कितनी देर एक घर के सामने कचरा लेने के लिए रुके? इसकी ट्रैकिंग हो सकेगी।

30 करोड़ की लागत से हुआ तैयार

कमांड कंट्रोल सिस्टम से शहर की विभिन्न सेवाओं को ऑनलाइन जोड़ा जाएगा। इसके जरिए मॉनीटरिंग की जाएगी। इसकी लागत करीब 30 करोड़ है, जिसमें 25 करोड़ रुपए आईटी और पांच करोड़ रुपए सिविल वर्क पर खर्च किए गए हैं।

इनका कहना

''कंट्रोल कमांड सेंटर बनकर तैयार हो चुका है। 29 नवम्बर को इसका शुभारंभ किया जाएगा।''

महीप तेजस्वी, सीईओ स्मार्ट सिटी

Updated : 13 Nov 2019 9:35 AM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top