Top
Latest News
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > झांसी रेल मंडल को मिले 300 कोहरा निवारण यंत्र, नहीं फंसेगी शताब्दी

झांसी रेल मंडल को मिले 300 कोहरा निवारण यंत्र, नहीं फंसेगी शताब्दी

तमिलनाडु व पंजाब मेल सहित कई ट्रेनों में लगे यंत्र

झांसी रेल मंडल को मिले 300 कोहरा निवारण यंत्र, नहीं फंसेगी शताब्दी

ग्वालियर, न.सं.। कोहरे के दौरान भी ट्रेनों की आवा-जाही बिना किसी बाधा और खतरे के हो सकेगी। सर्दियों में धुंध में रेल हादसों से बचाने के लिए ट्रेनों को कोहरा निवारण यंत्र से सुसजित कर दिया गया है। इससे चालकों को सिग्नल व क्रॉसिंग की जानकारी आसानी से मिल सकेगी। रविवार तक 300 डिवाइस ट्रेनों में लगा दिए गए हैं।

कोहरे में ट्रेनों के सुरक्षित संचालन के लिए झांसी रेल मंडल को 300 कोहरा निवारण यंत्र ट्रेनों में लगा दिए गए हैं। ड्यूटी समाप्त होने के बाद लोको पायलट यंत्र को लॉबी में जमा करा देंगे, जिसे बाद में दूसरे लोको पायलट को दिया जा सके। यह यंत्र जीपीएस सिस्टम से जुड़े हैं। इस यंत्र के जरिए ट्रेनों का समय संचालन पटरी पर लाने में काफी मदद मिलेगी। झांसी रेल मंडल से तीन सौ से अधिक ट्रेनें निकलती हैं। यहां से निकलनेे वाली शताब्दी एक्सप्रेस, पंजाब मेल, सदर्न एक्सप्रेस, जीटी एक्सप्रेस, तमिलनाडु एक्सप्रेस, यूपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस, दादर-अमृतसर एक्सप्रेस, गोवा एक्सप्रेस, श्रीधाम एक्सप्रेस समेत रात में गुजरने वाली ट्रेनों में यह डिवाइस लगा दी गई है। इस यंत्र की मदद से ट्रेन चालकों को कोहरे में भी क्रॉसिंग और सिग्नल की आसानी से जानकारी मिल सकेगी।

यंत्र से यह होगा फायदा

ट्रेनों के इंजन में लगने वाला कोहरा निवारण यंत्र ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम पर आधारित है। यह रूट की मैपिंग करता है। इस यंत्र में रूट के सभी सिग्नलों की जानकारी होती है। इस कारण कोहरे में भी ट्रेनों की रफ्तार कम नहीं होती है। इससे सिग्नल के एक किलोमीटर पहले ही डिवाइस का अलार्म बजने लगता है, जिससे लोको पायलट सतर्क हो जाते हैं।

इस तरह काम करेगा यंत्र

डिवाइस में यह फीड कर दिया जाता है कि कितनी दूरी पर कौन सी क्रॉसिंग है और कितनी दूरी पर सिग्नल है। क्रॉसिंग या सिग्नल से करीब पांच सौ मीटर पहले डिवाइस लोको पायलट को सतर्क कर देगी। ऐसे में दृश्यता कम होने पर चालक सावधान हो जाएगा और विवेक से काम लेगा।

इनका कहना है

चालक इंजन में इस डिवाइस को लगाकर सुरक्षित ट्रेनों का संचालन करेंगे। इससे कोहरे में किसी भी प्रकार के हादसे का डर नहीं रहेगा।

मनोज कुमार सिंह, जनसंपर्क अधिकारी, झांसी रेल मंडल

Updated : 2019-12-10T06:30:45+05:30
Tags:    

Swadesh News ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top