Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > बारिश से कीचड़ में बदली अमृत योजना

बारिश से कीचड़ में बदली अमृत योजना

बारिश से कीचड़ में बदली अमृत योजना
X

अमृत योजना की खुदाई से सडक़ें बनी दलदल सडक़ पर चलना हादसे को दावत देना

ग्वालियर, न.सं.

शहर मेंं स्मार्ट सिटी योजना के तहत चलने वाली अमृत योजना अब लोगों के लिए मुसीबत बन गई है। इस योजना के तहत सीवर व पानी की लाइन डालने के लिए शहर भर में की गई खुदाई के बाद बुधवार को हुई बारिश से अब वहांं की सडक़ें दलदल में बदल गई हंै। सिटी सेंटर हो या विवेक विहार बारिश के बाद हुई कीचड़ के कारण लोगों का पैदल चलना मुश्किल हो रहा है। सडक़ों पर दलदल होने के कारण वाहन चलाना खतरनाक साबित हो रहा है। सिटी सेटर इलाके का सबसे बुरा हाल है। यहां अमृत योजना के तहत सडक़ बनाने के लिए की गई खुदाई के कारण लोगों के चार पहिया वाहन घरों मे कैद हो गए हैं। दोपहिया वाहन सडक़ पर चलाने पर कीचड़ के कारण फिसलने से लोग हादसों का शिकार हो रहे हैं। शहर के अधिकांश इलाकों का यही हाल है। बिना योजना के किए जा रहे कार्यों के कारण शहरवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं बारिश होने से अब फिलहाल सडक़ बनाने का काम भी लेट होगा और अगले माह आचार संहिता लगते ही शहर में चलने वाले विकास कार्यों की गति भी धीमी पड़ जाएगी। लोगों को खस्ताहाल सडक़ों से कब निजात मिलेगी? यह तो नगर निगम ही जाने।

यहां पर ज्यादा समस्या

वार्ड 30 के अंतर्गत पुलिस अधीक्षक कार्यालय के पास सिटी सेंटर, वसंत विहार, विवेक विहार, चेतकपुरी, विनय नगर में सडक़ खोदने से सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है। यहां लोगों को पैदल चलने की जगह भी सडक़ पर नहीं बची है। नाली की मिट्टी सडक़ पर डालने से कीचड़ हो रहा है।

बची हुई सडक़ों को भी खोदा

अमृत योजना के तहत शहर में जगह-जगह पानी व सीवर की पाइप लाइन डाली जा रही है। ठेकेदारों द्वारा सीवर की लाइनें तो डाल दी गई हैं, लेकिन उसके बाद बाहर पड़ी मिट्टी को समेटा नहीं गया, जिसके चलते सडक़ों पर वाहन फिसल रहे हैं। उधर गुरुवार को कई जगहों पर जेसीबी मशीनों द्वारा सडक़ों को खोदा गया है।

कीचड़ में फिसली मोटर साइकिल, युवक घायल

गुरुवार को सिटी सेंटर क्षेत्र में एक युवक अपने घर जा रहा था। इस दौरान युवक की मोटर साइकिल कीचड़ में जा फिसली, जिससे युवक सडक़ पर जा गिरा और घायल हो गया। स्थानीय लोगों की मदद से युवक को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया।

इनका कहना है

''नगरीय प्रशासन विभाग के भोपाल से लेकर ग्वालियर के अधिकारी अमृत योजना को पलीता लगा रहे हैं। शहर के चेम्बरों की हालत हम सबने देखी है। इसके बाद भी धरातल पर कोई काम नहीं हो रहे हैं। अधिकारी अपने चहेते ठेकेदारों को ठेका देकर मनमाने तरीके से काम करा रहे हैं। जहां सडक़ डालना चाहिए, वहां अभी तक सडक़ नहीं डली है। इन मामलों की जांच होना चाहिए।''

कृष्णराव दीक्षित,नेता प्रतिपक्ष, नगर निगम

Updated : 2019-02-08T20:29:40+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top