Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > जमीन विवाद पर खुरैरी में चली गोलियां, ग्रामीण भयभीत

जमीन विवाद पर खुरैरी में चली गोलियां, ग्रामीण भयभीत

जमीन विवाद पर खुरैरी में चली गोलियां, ग्रामीण भयभीत
X

ग्वालियर, न.सं.

खुरैरी गांव में जमीन पर कब्जे को लेकर हुए विवाद में दो पक्षों में जमकर गोलियां चल गईं। गोलीबारी में एक पक्ष ने दौड़ लगाकर जान बचाई। ताबड़तोड़ गोलियां चलने से ग्रामीणों में भय का माहौल बन गया है। हमले में कोई जनहानि नहीं हुई है। गोलियां चलने की सूचना मिलते ही पुलिस ने मोर्चा संभालकर स्थिति को संभाला।

मुरार थाना क्षेत्र स्थित खुरैरी गांव में रहने वाले वीरसिंह जाटव ने सुल्तान सिंह पुत्र रामदयाल सिंह किरार से सैनिक कॉलोनी में 12 विस्वा जमीन का सौदा किया था। बताया गया है कि उक्त जमीन को बड़ागांव निवासी जीतू यादव को एक बार फिर वीरसिंह ने बेच दिया था। इस जमीन पर कब्जे को लेकर सुल्लान सिंह और जीतू यादव में विवाद चल रहा था। रविवार को जीतू यादव जमीन पर प्लाटिंग करने के लिए पहुंच गया। दूसरे पक्ष को जब पता चला तो वह भी पहुंच गए। दोनों पक्षों में जमीन पर अपने-अपने कब्जे को लेकर बहस होने लगी। उस समय तो बात आई गई हो गई, लेकिन शाम को जीतू यादव अपने लोगों को लेकर एक बार फिर खुरैरी गांव पहुंच गया। जब सुल्तान सिंह किरार को पता लगा तो वह भी ग्रामीणों के साथ जमीन पर पहुुंच गया। दोनों पक्षों में देखते ही झगड़ा होने लगा। सुल्तान सिंह, अतरसिंह, राजेश, रवि व विकास सहित करीब आधा सैकड़ा लोगों ने हथियारों से जीतू पर हमला बोल दिया। गोली चलते ही जीतू के पक्ष ने भी मोर्चा संभाल लिया। बताया गया है कि दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर जमकर गोलीबारी की। ग्राम खुरैरी में ताबड़तोड़ गोलियां चलते ही दहशत फैल गई। सुल्तान सिंह का पक्ष जीतू पर भारी पड़ गया और उसने जीतू को पैर दबाकर भागने पर मजबूर कर दिया। जीतू किसी तरह अपने लोगों के साथ खुरैरी से जान बचाकर मौके से भाग गया। गांव में गोलीबारी की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। गांव में माहैाल तनावपूर्ण था। पुलिस ने मौके से रवि, राजेश, सुल्तान ङ्क्षसह, विकास को दो माउजर बंदूकों के साथ पकड़ लिया और थाने ले आए। देर रात खबर लिखे जाने तक पुलिस दोनों पक्षों की शिकायत पर कार्रवाई कर रही थी।

सुबह सुल्तान ङ्क्षसह ने थाने में की शिकायत

सुबह सुल्तान सिंह मुरार थाने आकर जीतू यादव के बारे में शिकायती आवेदन देकर गया था। पुलिस ने उस समय मामले को गंभीरता से नहीं लिया। जीतू अपनी जान बचाकर नहीं भागता तो रविवार को खुरैरी में खून-खराबा हो जाता। पुलिस अब जमीन के दस्तावेज चैक कर रही है।

20 वर्ष पहले वीरसिंह ने बेची थी जमीन

वीरसिंह ने 20 वर्ष पहले सुल्तान सिंह किरार को जमीन का एग्रीमेट अतरसिंह के नाम से किया था। उस समय रजिस्ट्री नहीं की गई थी। मई 2018 में यह तय हुआ था कि वीरसिंह को सुल्तान सिंह द्वारा सात लाख रुपए और एक प्लाट दिया जाएगा। उसी जमीन का वीरसिंह ने जीतू यादव से भी एग्रीमेंट कर दिया था। इसी कारण विवाद की स्थिति निर्मित हो गई है।

हाइवे ने बढ़ाए जमीनों के दाम

बड़ागांव और खुरैरी के पास से हाइवे निकला है। उसके आसपास की जमीन के दाम इन दिनों आसमान छू रहे हैं। इस कारण यहां पर जमीन को लेकर दबंग खून-खराबे से नहीं चूक रहे हैं। इन गावों में आपसी टशन और जमीन पर कब्जे को लेकर हुए खून-खराबे किसी से छिपे नहीं हैं। पुलिस अब किसी तरह इस मामले को निपटाने के लिए जुट गई है।


Updated : 2019-02-04T15:43:32+05:30

Naveen

Swadesh Contributors help bring you the latest news and articles around you.


Next Story
Share it
Top