Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > अस्पताल का निर्माण कार्य आधुनिक अस्पतालों के लिए उदाहरण हो : शर्मा

अस्पताल का निर्माण कार्य आधुनिक अस्पतालों के लिए उदाहरण हो : शर्मा

संभाग आयुक्त ने किया हजार बिस्तर वाले अस्पताल के निर्माण कार्य का निरीक्षण , ग्वालियर पॉटरीज की जमीन पर बन रहा है आधुनिक सुविधाओं वाला अस्पताल, अस्पताल के लिए आ चुकी है 338 करोड़ रुपये की प्रशासकीय स्वीकृति

अस्पताल का निर्माण कार्य आधुनिक अस्पतालों के लिए उदाहरण हो : शर्मा
X

ग्वालियर। अंचल के सबसे बड़े अस्पताल जयारोग्य अस्पताल समूह के अस्पतालों का भार कम करने के लिए हजार बिस्तर के अस्पताल का 15 दिसंबर से निर्माण कार्य प्रारम्भ हो गया है।ग्वालियर पॉटरीज की जमीन पर बनाये जा रहे हजार बिस्तर के अस्पताल के निर्माण कार्य का गुरुवार को संभाग आयुक्त बीएम शर्मा ने निरीक्षण किया।

संभाग आयुक्त ने निरीक्षण के दौरान अधिकारियों को निर्माण कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए साथ ही कहा कि अस्पताल का काम पूरी गुणवत्ता के साथ तय समय सीमा में हो जाना चाहिए। श्री शर्मा ने कहा कि अस्पताल का निर्माण ऐसा होना चाहिए जो दूसरे आधुनिक अस्पतालों के लिए उदाहरण बने। उल्लेखनीय है कि हजार बिस्तर के अस्पताल में सभी आधुनिक चिकित्सा सुविधाएँ उपलब्ध कराई जाएँगी साथ ही अस्पताल की बिल्डिंग का निर्माण आधुनिक डिजाइन के आधार पर होगा। उन्होंने अस्पताल का काम देख रही एजेंसी के प्रतिनिधियों से कहा कि निर्माण के दौरान ये प्रयास होना चाहिए कि पॉटरीज की जमीन पर लगे पेड़ बच जाएँ।

निरीक्षण के दौरान उपस्थित लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री प्रदीप अष्टपुत्रे ने अधिकारियों कि अस्पताल का निर्माण लगभग सवा छह हैक्टेयर क्षेत्र में किया जा रहा है। और इसके निर्माण के लिए 338 करोड़ रुपये की प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है। बीते छह अक्टूबर को अस्पताल निर्माण के लिए अनुबंध हुआ था और 15 दिसंबर से काम शुरू हो चुका है। अस्पताल का निर्माण दो चरणों में पूरा होगा, इसमें तीन ब्लॉक होंगे, इसके अलावा एक प्रशासनिक ब्लॉक होगा और साथ ही 300 बिस्तर वाली धर्मशाला बनाई जाएगी। पोस्टमार्टम कक्ष का निर्माण भी बनाया जाएगा। अस्पताल के प्रबंधन के लिए अलग से सर्विस ब्लॉक भी बनाया जाएगा। इसके अलावा चिकित्सक और पैरामेडिकल स्टाफ के लिए 100 आवास बनेंगे। श्री अष्टपुत्रे ने अष्टपुत्रे ने बताया कि प्रथम चरण में ए और सी ब्लॉक, धर्मशाला का निर्माण होगा। सी-ब्लॉक में 568 बिस्तर और ए-ब्लॉक में 260 बिस्तर होंगे। अस्पताल का निर्माण 30 महीने में पूर्ण किया जाना है। जिसमें से प्रथम चरण के कार्य के लिये 18 माह की समय-सीमा निर्धारित है। उन्होंने बताया कि प्रशासनिक भवन में सभी चिकित्सा विभागों के पंजीयन का कार्य होगा। वहीं से मरीज सीधे संबंधित विभाग में जा सकेंगे। सी-ब्लॉक में 150 बिस्तर का प्राइवेट वार्ड भी बनाया जायेगा। निरीक्षण के दौरान संभाग आयुक्त के साथ नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा, जीआर मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. भरत जैन , जयारोग्य अस्पताल समूह के अधीक्षक डॉ. अशोक मिश्रा सहित लोक निर्माण विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

Updated : 20 Dec 2018 1:56 PM GMT
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top