Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > नाम मात्र की बची है शाम की ओपीडी, नहीं पहुंचते चिकित्सक

नाम मात्र की बची है शाम की ओपीडी, नहीं पहुंचते चिकित्सक

नाम मात्र की बची है शाम की ओपीडी, नहीं पहुंचते चिकित्सक
X

ग्वालियर/स्वदेश वेब डेस्क। शहर में इन दिनों चारों तरफ मच्छरों का खौफ बढ़ता जा रहा है। लोगों को दिन में डेंगू का एडीज मच्छर के काटने का खतरा है, तो शाम ढलने से सुबह तक मादा एनाफिलिस मच्छर का खौफ है। डेंगू और मलेरिया के संवाहक इन मच्छरों ने एक बच्ची की जान भी ले ली है, जिस कारण लोगों में दहशत बना बनी हुई है। उसके बाद भी चिकित्सक अपनी लपरवाही से बाज नहीं आ रहे हैं। अस्पताल में पहुंच रहे मरीजों को न तो चिकित्सक मिल रहे हैं और न ही जांचें। जिला अस्पताल मुरार में सुबह 1 बजे तक ओपीडी खोली जाती है, जिसमें बड़ी संख्या में उपचार के लिए मरीज पहुंचते हैं। इसमें सबसे ज्यादा मरीज मेडिसिन विभाग के ही होते है, लेकिन शाम को 5 से 6 बजे तक खुलने वाली ओपीडी सिर्फ नाममात्र की ही रह गई है। शाम को एक घंटे की ओपीडी में कई चिकित्सक पहुंचते ही नहीं हैं। इतना ही नहीं शाम की ओपीडी में कई विभाग तो बंद ही बने रहते हैं। अस्पताल में अल्ट्रासाउण्ड केन्द्र, दवा वितरण स्टोर, ईसीजी केन्द्र सहित अन्य विभाग बंद ही रहते हैं। यही स्थिति सिविल अस्पताल की भी हैं, यहां की ओपीडी में मुश्किल से सिर्फ एक या दो चिकित्सक ही पहुंचे हैं और एक्सरे, अल्ट्रासाउण्ड व पैथोलॉजी विभाग हमेशा बंद ही रहते हैं। जबकि शासन के स्पष्ट आदेश हैं कि शाम की एक घंटे की ओपीडी में चिकित्सक का पहुंचना आवश्यक है, साथ ही जांच केन्द्र खोलना भी अनिवार्य होता है, लेकिन यह लापरवाही चिकित्सक अपनी मनमानी करने से पीछे नहीं हटते, जिस कारण उपचार के लिए पहुंच रहे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। वहीं अगर शाम की ओपीडी में पहुंच रहे मरीजों को चिकित्सक व जांच की सुविधा ठीक से मिलने लगे तो सुबह की ओपीडी में कुछ मरीजों का भार कम हो सकता है। जांच केन्द्र बंद ही बने रहते हैं।

एक साथ 40 को निकला डेंगू

गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में बुधवार को डेंगू के 132 संदिग्ध मरीजों की जांच की गई। जांच रिपोर्ट में 40 मरीजों को डेंगू पॉजिटिव आया है। इसमें अकेले ग्वालियर से ही 25 मरीज शामिल हैं। जबकि अन्य मरीज शिवपुरी, मुरैना व गुना के हैं। इतना ही नहीं इन मरीजों में से सबसे ज्यादा मरीज डीडी नगर, सिकन्दर कम्पू, पिन्टो पार्क क्षेत्र के हैं। यह वह क्षेत्र हैं, जिन्हें मलेरिया विभाग द्वारा पिछले वर्ष ही डेंगू के लिए डेंजर जोन में रखा गया था। लेकिन लापरवाही के चलते इस बार फिर से इन्हें क्षेत्रों में सबसे ज्यादा मरीज सामने आ रहे हैं।

Updated : 2018-10-04T18:12:14+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top