Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > पटरी से फिर उतरी नैरोगज ट्रेन, दहशत में आए यात्री

पटरी से फिर उतरी नैरोगज ट्रेन, दहशत में आए यात्री

ट्रेन की गति है 30 कि.मी. प्रति घण्टा, तेज दौड़ाई तो पटरी से उतर गया कोच

पटरी से फिर उतरी नैरोगज ट्रेन, दहशत में आए यात्री
X

ग्वालियर। बीते रोज ग्वालियर से सबलगढ़ जाने वाली नैरोगेज ट्रेन का इंजन सुबह भट्टपुरा स्टेशन के पास पटरी से उतर गया। अचानक हुए इस हादसे से ट्रेन में बैठे यात्री दहशत में आ गए। यात्रियों की मानें तो ट्रेन की गति तेज थी, जिसके चलते ट्रेन का कोच पटरी से जा उतरा, उसके बाद इंजन भी पटरी छोड़ गिट्टी पर आ गया। झटके से रुकी ट्रेन के बाद यात्रियों में खलबली मच गई और वे जल्दी-जल्दी कोच से बाहर निकलने लगे। घटना की सूचना मिलते ही एआरटी गाड़ी व इंजीनियर मौके पर पहुंचे और रात्रि 10 बजे ट्रेन के कोच व इंजन को पटरी पर लाया गया। इसके बाद ट्रेन को कैलारस के लिए रवाना किया गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गत मंगलवार शाम को ग्वालियर से सबलगढ़ की ओर जाने वाली नैरोगेज ट्रेन जब जौरा से गुजर रही थी तभी शाम 7.30 बजे भट्टपुरा के पास इंजन के पीछे लगा कोच पटरी से जा उतारा, उसके बाद इंजन भी पटरी से नीचे आ गया। इसके बाद एआरटी व इंजीनियरों को मामले की जानकारी दी गई। मौके पर पहुंचे कर्मचारियों ने रात्रि 10 बजे ट्रेन के कोच व इंजन को पटरी पर पहुंचाकर ट्रेन को कैलारस के लिए रवाना किया। वहीं कैलारस में नैरोगेज के एक कोच को काटा गया और ट्रेन को सबलगढ़ के लिए रवाना किया गया।

शहर में भी बिना हॉर्न के निकलती है ट्रेन

लोगों का कहना है कि बीच शहर से नैरोगेज ट्रेन निकलती है और चालक बिना हॉर्न व चेतावनी दिए तेज गति से ट्रेन को चलाता है। इसके चलते आए दिन हादसे होते रहते हैं। उल्लेखनीय है कि करीब पांच कि.मी. नैरोगेज का ट्रैक शहर से होकर निकलता है और इस ट्रैक के दोनों ओर घनी बस्तियां हैं। इस कारण लोगों का आवागमन लगातार बना रहता है। हालांकि ट्रेन की स्पीड 30 से 40 कि.मी. प्रति घण्टा रहती है, लेकिन शहर में यह और धीमी भी हो जाती है।

इंजन में लगा है मीटर, 30 से ऊपर जाते ही बजती है बीप

नैरोगेज ट्रेन की गति 30 कि.मी. प्रति घण्टा है, लेकिन चालक इसे 30 से ऊपर चलाते हैं, जिसके चलते इंजन में लगा मीटर भी 30 से ऊपर जाने पर बीप बजा देता है, लेकिन उसके बाद भी चालक रफ्तार को कम नहीं करते हैं, जिसके चलते आए दिन नैरोगेज पटरी से उतर जाती है।

पहले भी उतर चुका है इंजन

बीते 20 जुलाई को भी श्योपुर से चलकर ग्वालियर की ओर जाने वाली नैरोगेज ट्रेन के इंजन के पहिये सुमावली एवं बानमौर स्टेशन के बीच बेपटरी हो गए थे। बताया जा रहा है कि पटरियों का मैंटेनेंस नहीं हुआ है, जिसके चलते आए दिन ट्रेन डिरेल हो रही है।

Updated : 2018-08-02T14:59:20+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top