Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > हवाई हड्डे की सुरक्षा में कई लूप पोल्स, बिना अनुमति 100 मीटर दायरे में बना दिए अवैध मकान

हवाई हड्डे की सुरक्षा में कई लूप पोल्स, बिना अनुमति 100 मीटर दायरे में बना दिए अवैध मकान

हवाई हड्डे की सुरक्षा में कई लूप पोल्स, बिना अनुमति 100 मीटर दायरे में बना दिए अवैध मकान
X

ग्वालियर, न.सं.। महाराजपुरा स्थित हवाई अड्डे के 100 मीटर के दायरे में मकान का निर्माण करना पूर्णत: प्रतिबंध है। लेकिन नगर निगम के जिम्मेदारों की अंदेखी के कारण हवाई हड्डे की सुरक्षा में जगह-जगह छेद हो गए हैं। हवाई हड्डे के आसपास ग्रामीणों ने एक मंजिला नहीं दो मंजिला मकान तक बना लिए हैं। जिसको लेकर एडीएम इच्छित गढ़पाले द्वारा निगम के अधिकारियों के प्रति नाराजगी व्यक्त करते हुए मकानों को तोडऩे के निर्देश दिए हैं।दरअसल पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे को देखते हुए उनकी सुरक्षा के लिए एसपीजी द्वारा हवाई हड्डे का सुरक्षा की दृष्टि से निरीक्षण किया गया था। निरीक्षण के दौरान उन्होंने देखा कि हवाई हड्डे के 100 मीटर दायरे में ग्राम भंडोली

दो मंजिला मकान बना हुआ है, जिसको लेकर उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों से चर्चा भी की थी। शायद यही कारण है कि गुरुवार को एडीएम श्री गढ़पाले ने निगम के मुख्य समन्वयक अधिकारी सुरेश अहिरवार को बुलाया और नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि आप लोग क्या देखते हैं। हवाई हड्डे के 100 मीटर के दायरे में जो दो मंजिला मकान बना दिए गए हैं, जहां से रनवे दिखाई देता है। जब भवन का निर्माण होता है तो आप लोग नोटिस क्यों नहीं देते। इस पर भवन अधिकारी कुछ नहीं कह सके। इतना ही नहीं एडीएम ने अहिरवार से स्पष्ट रूप से कहा कि मुझे नहीं पता जो दो मंजिला मकान बना है, उसकी दूसरी मंजिल तत्काल तोड़ी जाए।

जब मकान बना तो नहीं दिया ध्यान

हैरानी की बात यह है कि हवाई अड्डे के 100 मीटर दायरे में मकानों को बनाने की अनुमति नहीं है। लेकिन उसके बाद भी ग्राम भंडोली के राजेन्द्र सिंह गुर्जर ने पहले एक मंजिला मकान बनाया, और देखते ही देखते उन्होनें दूसरी मंजिल भी बना ली। लेकिन इस अवैध निर्माण के बारे में नगर निगम भवन अधिकारी राजीव सोनी व सहायक नगर निवेशक सुरेश अहिरवार को जानकारी नहीं लगी।

एसीपी बोले, नोटिस जारी किए थे

सहायक नगर निवेशक सुरेश अहिरवार से जब इस मामले में पूछा गया कि यह अवैध निर्माण 100 मीटर के दायरे में कैसे बन गया तो उन्होंने कहा कि भवन स्वामी को नोटिस जारी किए गए थे, लेकिन उसके बाद भी निर्माण हो गया। सवाल यह है कि संवेदनशील क्षेत्र में दो मंजिला मकान कैसे बन गया। अब अधिकारी उस मकान को तोडऩे की बात कर रहे है।

पुलिस बल कम मिल, नहीं हो पाई तुड़ाई

एडीएम के निर्देश के बाद जब नगर निगम का अमला तुड़ाई के लिए एकत्रित हुआ तो पुलिस बल कम मिलने के कारण तुड़ाई नहीं करने का निर्णय लिया। बताया जा रहा है संबंधित थाने में पर्याप्त संख्या में बल मिलने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

सबसे महत्वपूर्ण एयरबेस है ग्वालियर

ग्वालियर में सुखोई, मिराज व अन्य फाइटर प्लेन के लिए सामरिक दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण एयरबेस है। एयरफोर्स का अयरबेस पहले आगरा में था लेकिन पाकिस्तान की जद में आने के बाद ग्वालियर का एयरफोर्स का एयरबेस बनाया गया था। सुरक्षा की दृष्टि से ग्वालियर एयरबेस सबसे मजबूत एयरबेस माना जाता है।

इनका कहना है

निगम के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि 100 मीटर के दायरे में जो दो मंजिला मकान बना है, उसे तोड़ा जाए। वहीं अन्य मकानों को भी चिन्हित कर कार्रवाई की जाए।

इच्छित गढ़पाले

एडीएम

Updated : 23 Sep 2022 6:38 AM GMT
Tags:    

स्वदेश वेब डेस्क

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top