Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > किरार की किरकिरी, घर के रहे न घाट के

किरार की किरकिरी, घर के रहे न घाट के

कांग्रेस में नो एंट्री

किरार की किरकिरी, घर के रहे न घाट के
X

ग्वालियर डॉ. गुलाब सिंह किरार न घर के रहे और न घाट के। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के समक्ष बीते रोज इंदौर में कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा के बाद डॉ. गुलाब को कांग्रेस पार्टी सदस्यता देने को तैयार नहीं है। भाजपा में मजे मारने के बाद डॉ. गुलाब सिंह कांग्रेस में शामिल होने को अपनी घर वापसी बता रहे थे, लेकिन किरार की वापसी 24 घंटे बाद ही किरकिरी में बदल गई। क्योंकि कांग्रेस ने उनसे साफ पल्ला झाड़ लिया है। समझा जाता है कि व्यापम घोटाले में आरोपी होने के कारण उन्हें कांग्रेस दूर रखना चाहती है। ऐसे में अब वे न तो भाजपा में रहे और न ही कांग्रेस में। बीते रोज इंदौर के रेडिसन होटल में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी, प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया सहित वरिष्ठ नेताओं के समक्ष तीन भाजपा नेताओं के कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा की गई थी। जिनमें तेंदूखेड़ा से भाजपा विधायक संजय शर्मा, पूर्व विधायक कमलापति आर्य और गुलाब सिंह किरार के नाम शामिल थे। जैसे ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को यह पता लगा कि किरार का नाता व्यापम घोटाले से रहा है, चूंकि वह इन दिनों प्रदेश सरकार को व्यापम घोटाले को लेकर घेर रहे हैं, ऐसे में उन्हें अपना ही तीर वापस आता दिखाई दिया, इसीलिए प्रदेश कांग्रेस ने अब किरार के कांग्रेस में शामिल होने से साफ-साफ पल्ला झाड़ लिया है।

कांग्रेस में शामिल नहीं हुए किरार : शोभा

कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा का कहना है कि डॉ. गुलाब सिंह किरार कांग्रेस में शामिल नहीं हुए हैं,वह तो सिंधिया से मिलने आए होंगे। इसी तरह प्रदेश कांग्रेस के मीडिया सेल प्रभारी नरेंद्र सलूजा कहते हैं कि कांग्रेस ने भाजपा से कांग्रेस में आने वाले नेताओं की अधिकृत घोषणा की है,उसमें पूर्व विधायक कमलापति आर्य और विधायक संजय शर्मा का नाम है। गुलाब सिंह किरार कांग्रेस में शामिल नहीं हुए हैं। वे वैसे ही वहां आए होंगे। इसलिए उन्हें कांग्रेस में शामिल होना नहीं बताया जा सकता।

कांग्रेस नहीं मानती तो घर बैठूंगा : गुलाब सिंह

उधर जब इस मामले में गुलाब सिंह किरार से चर्चा की गई तो वह बोले कि मैं तो कांग्रेस को समर्थन देने गया था और उन्होंने इसे स्वीकार भी कर लिया था। अब किस उलझन के कारण कांग्रेस मुझे शामिल नहीं मान रही, मैं क्या बताऊं? कोई कानूनी प्रतिबद्धता होगी,उस बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता।यदि वे नहीं मान रहे तो मैं घर बैठ जाऊंगा। वैसे मेरा इरादा कांग्रेस के लिए काम करने का था। उन्होंने कहा कि जब मुझे सीबीआई ने व्यापम मामले में निर्दोष बता दिया,फिर इस मामले को बार-बार क्यों उछाला जा रहा है। इसमें मुझे आरोपी नहीं कहा जा सकता, आरोपित अथवा विक्टिम कहा जाना चाहिए।

Updated : 2018-11-01T16:20:39+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top