Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > आईआरसीटीसी ने ई-टिकट बुकिंग में किया बदलाव

आईआरसीटीसी ने ई-टिकट बुकिंग में किया बदलाव

आरक्षित यात्री ट्रेन में अपनी जगह पर परिवार के सदस्य को करवा सकते हैं यात्रा

आईआरसीटीसी ने ई-टिकट बुकिंग में किया बदलाव
X

ग्वालियर/स्वदेश वेब डेस्क। आईआरसीटीसी से ई-टिकट की बुकिंग के बाद यदि यात्री किसी वजह से ट्रेन में यात्रा नहीं कर पाता है तो उसी टिकट से उसके परिवार का कोई भी सदस्य यात्रा कर सकता है।

इसके लिए उसे झांसी मंडल से 24 घण्टे पूर्व इसकी स्वीकृति लेना होगी। मंडल के असिस्टेंट कमिश्नर मैनेजर (एसीएम) की अनुमति मिलने के बाद टिकट से परिवार का दूसरा यात्री यात्रा कर सकेगा। आईआरसीटीसी ने कंफर्म टिकट में यात्री का नाम बदलने की सुविधा उपलब्ध करा दी है। यात्री द्वारा गलत तरीके से परिजन के अलावा किसी और को यात्रा कराने से पहले उसे रेलवे की शर्तों की पालना करना होगी। यात्री को टिकट में नाम बदलवाने के लिए ट्रेन छूटने के 24 घण्टे पूर्व आवेदन करना होगा। यात्री को इलेक्ट्रॉनिक आरक्षित स्लिप प्रिंट आउट के साथ निकट की रेलवे टिकट आरक्षण खिड़की पर जाना पड़ेगा। स्लिप के साथ यात्री का पहचान पत्र व परिजन से संबंध का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। संबंधित दस्तावेज दिखाने के बाद काउंटर पर बैठे आरक्षित अधिकारी टिकट पर नाम परिवर्तन कर देगा। इसमें यात्री से कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा। आईआरसीटीसी ने इससे पहले ई-टिकट में बोर्डिंग स्टेशन बदलने की सुविधा दे रखी है।

नाम बदलवाने के लिए इन शर्तों को करना होगा पूरा

किसी यात्री को यदि अपनी जगह परिजन को यात्रा करवाना है तो उसे 24 घण्टे पहले मंडल में लिखित में आवेदन करना होगा। यात्री टिकट का नाम बदलवाना चाहता है तो पिता, माता, भाई- बहन, पुत्र-पुत्री व पत्नी में से किसी एक के नाम पर ही टिकट स्थानांतरण करा सकेगा। इलेक्ट्रॉनिक आरक्षित स्लिप के साथ जिसके नाम पर टिकट स्थानांतरण कराना है, उस सदस्य का और उसका यात्री के साथ जो संबंध है, उसका प्रमाण देना होगा।

आरक्षण केन्द्र पर दस्तावेजों की होगी जांच

आरक्षण केन्द्र पर दस्तावेजों की जांच की जाएगी। आईआरसीटीसी ने सरकारी कर्मचारी को विशेष सुविधा प्रदान की है। कोई कर्मचारी ड्यूटी पर तैनात है या उससे संबंधित अथॉरिटी भी अगर 24 घण्टे पहले लिखित में आवेदन करती है तो वो भी इस सुविधा का लाभ उठा सकेंगे। हालांकि आईआरसीटीसी ने यह भी स्पष्ट किया है कि इस तरह के आवेदन केवल एक बार ही लिए जाएंगे।

Updated : 2018-10-16T18:05:55+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top