Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > प्रशासन ने 39 पक्के व कच्चे मकानों को तुड़वाकर शासकीय भूमि को कराया मुक्त

प्रशासन ने 39 पक्के व कच्चे मकानों को तुड़वाकर शासकीय भूमि को कराया मुक्त

प्रशासन ने 39 पक्के व कच्चे मकानों को तुड़वाकर शासकीय भूमि को कराया मुक्त
X

ग्वालियर/स्वदेश वेब डेस्क। शहर में गुरुवार की सुबह न्यायालय के निर्देश पर प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए 39 मकानों पर बुल्डोजर चलाया गया। प्रशासन की इस कार्रवाई में कई परिवारों से छत छिन गई और लोग सड़क पर अपना सामान लेकर आ गए। प्रशासन ने 39 पक्के व कच्चे मकानों को तुड़वाकर शासकीय भूमि को मुक्त कराया गया है। करीब छह घंटे चली कार्रवाई में प्रशासन की टीम ने सभी पक्के व कच्चे मकानों को तोड़ भूमी को अतिक्रमण मुक्त कराया। इधर कार्रवाई के विरोध में महिलाएं भी सामने आईं, लेकिन पुलिस बल अधिक होने के कारण कोई विरोध नहीं कर सका।

दरअसल जसवंत सिंह गुर्जर ने कई वर्षों पहले कलेक्ट्रट के पास स्थित ग्राम डोगरपुर में करीब डेढ़ हेक्टेयर शासकीय भूमी को अवैध रूप से बेच दिया था। इसके साथ ही कुछ लोगों ने अवैध रूप से कब्जा कर पक्के और बहु मंजिला मकान बना लिए थे। इसको लेकर याचिकाकार्ता अशोक कुमार ने शासकीय भूमी को अतिक्रमण मुक्त कराने के लिए उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी। इस पर न्यायालय ने गत दिवस जिला प्रशासन को सर्वे क्रमांक 47, 49 एवं 56 करीब डेढ़ हेक्टेयर भूमी को अतिक्रमण मुक्त कराने के निर्देश दिए थे। इस पर जिलाधीश अनुराग चौधरी ने गुरूवार को प्रशासन की टीम गठित कर कार्यवाई करने के निर्देश दिए।

टीम में शामिल एसडीएम अनिल बनवारिया, प्रदीप तोमर, पुष्पा पुषाम, तहसीलदार शिवानी पाण्डेय, सूर्याकांत त्रिपाठी एवं महेश कुशवाह गुरूवार की सुबह करीब 9.30 बजे निगम निगम के मदाखलत अमले एवं पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और लोगों को घर खाली करने के निर्देश दिए। जेसीबी देख पहले तो लोगों ने इसका विरोध किया, लेकिन पुलिस बल के आते ही सबने अपना सामान निकाल कर बाहर रख लिया। सुबह 9.30 बजे से शुरू हुई कार्रवाई दोपहर 4.30 बजे तक चलती रही। इस दौरान प्रशासन ने 39 पक्के व कच्चे मकानों को तुड़वा कर भूमी को अतिक्रमण मुक्त कराया। वहीं प्रशासन की इस कार्यवाई से कई लोग बेघर हो गए हैं और किराया के मकान में रहने को मजबूर हैं। हालांकि पुलिस बल अधिक होने के कारण कार्रवाई के दौरान किसी प्रकार का विरोध नहीं झेलना पड़ा। (हि.स.)

Updated : 20 Sep 2019 6:02 AM GMT
Tags:    

Swadesh News

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top