Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > दुष्कर्म पीड़िता से थाने में मारपीट का मामला, 3 आरोपियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

दुष्कर्म पीड़िता से थाने में मारपीट का मामला, 3 आरोपियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

कोर्ट ने CBI की खात्मा रिपोर्ट को किया नामंजूर, मामले मे कई पुलिस अधिकारियों पर पहले ही गिर चुकी है गाज

दुष्कर्म पीड़िता से थाने में मारपीट का मामला, 3 आरोपियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी
X

ग्वालियर। ग्वालियर जिला कोर्ट में 15 वर्षीय नाबालिग के साथ दुष्कर्म एवं उसके साथ थाने में मारपीट के मामले में आरोपियों को CBI के द्वारा आरोप मुक्त करते हुए खात्मा रिपोर्ट पेश की गयी थी। जिसे कोर्ट ने ख़ारिज करते हुए नामंजूरी दे दी है। एवं पीड़िता के बयान लेकर CBI की खात्मा रिपोर्ट को अस्वीकार करते हुए मामले को संज्ञान में लेकर तीनो आरोपियों (गंगा सिंह भदौरिया, आदित्य व रामवीर सिंह के खिलाफ गिरफ़्तारी वारंट जारी कर 10 दिसंबर तक तीनों को न्यायालय में पेश होंने के आदेश दिए हैं



ये है मामला -

31 जनवरी 2021 को 15 वर्षीय नाबालिग ने 181 सीएम हेल्पलाइन पर फ़ोन लगाकर अपने साथ हुए दुष्कर्म की शिकायत दर्ज कराई थी। जिसके बाद ग्वालियर की मुरार पुलिस के द्वारा उसे थाने ले जाकर पूछताछ की गयी। जिसमे उसने बताया की वह सीपी कॉलोनी निवासी गंगा सिंह भदौरिया के घर 20 दिसंबर 2020 से झाड़ू पोंछा का काम करने के लिए गयी थी एवं वही किराये पर भी रहती थी। 31 जनवरी की रात करीब 8 बजे गंगा सिंह के नाती आदित्य भदौरिया और उसके दोस्त ने घर में जबरदस्ती घुस कर उसके साथ दुष्कर्म कर दिया। जिसके बाद पीड़िता की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज का लिया गया। आरोपी आदित्य के दादा गंगा सिंह ने थाने पहुंचकर पुलिस पर दवाब बनाया। पुलिस के द्वारा पीड़िता और उसके माता पिता को थाने में लाकर मारपीट की गयी। पीड़िता ने कोर्ट में याचिका दायर करते हुए अपनी आप बीती को कोर्ट में बयां किया। जिसके बाद जून 2021 में कोर्ट ने सीबीआई को जाँच सौंप दी। मामले को गंभीर रूप से देखते हुए तत्कालीन एएसपी, सीएसपी, थाना प्रभारी, थाना प्रभारी भार्गव, सब इंस्पेक्टर पर सख्त कार्रवाई के आदेश दिए गए थे। जिसमे पीड़िता को इनके द्वार थाने में रात भर झाड़ू और डंडे से पीटने की बात कही गयी। मुरार थानाप्रभारी एवं सबइंस्पेक्टर पर लगे आरोप को देखते हुए उन्हें न्यायालय के द्वारा ग्वालियर जोन से बाहर स्थानांतरित किए जाने का आदेश दिया गया। जिसके बाद CBI ने अपनी रिपोर्ट में नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म के केस को झूठा साबित करते हुए आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में खत्म रिपोर्ट पेश की जिसे नाबालिग के अधिवक्ता की सुनवाई पर विशेष न्यायालय में अस्वीकार करते हुए तीनो आरोपियों के खिलाफ गिरफ़्तारी वारंट जारी करते हुए 15 दिनों के अंदर कोर्ट में पेश होने को कहा गया है।

Updated : 25 Nov 2022 2:26 PM GMT
Tags:    

City Desk

Web Journalist www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top