Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > गए थे तोमर की दीवार नापने, मिल गई 75 करोड़ की शासकीय भूमि

गए थे तोमर की दीवार नापने, मिल गई 75 करोड़ की शासकीय भूमि

एंटी माफिया सेल ने शहर में चार जगह की कार्रवाई

गए थे तोमर की दीवार नापने, मिल गई 75 करोड़ की शासकीय भूमि

सिरोल में मुक्त कराई 80 करोड़ की 26.5 बीघा जमीन

ग्वालियर, न.सं.। एंटी माफिया सेल की कार्रवाई शनिवार को बड़े जोरों के साथ एक साथ चार स्थानों पर हुई। जिसमें 80 करोड़ कीमत की लगभग 26.5 बीघा जमीन अतिक्रामकों से मुक्त कराई गई। मुक्त भूमि पर शासकीय सूचना पटल लगा दिए गए हैं। यहां मजेदार बात यह रही कि शनिवार को कास्मो आनन्दा के पास आनंद तोमर की विवादित दीवार को जब अधिकारियों ने रविवार को पुन: नापना शुरू किया तभी पास के ही खेत में सरसों लहराती देखी तो राजस्व अधिकारियों ने उस जमीन को नक्शे में शासकीय पाया। फिर क्या था इस जमीन की नापतोल की गई तो वह 25 बीघा 75 करोड़ रूपए की रामअवतार गुर्जर के कब्जे में पाई गई, जिसे मुक्त कराया गया।


प्रशासनिक अधिकारी सबसे पहले सिरोल स्थित कॉस्मो आनन्दा पहुंचे और नर्सिंग कॉलेज के संचालक आनंद तोमर की भूमि की नपाई शुरू की। इस दौरान सामने आया कि सर्वे क्रमांक 421 में 1.5 बीघा शासकीय भूमि पर श्री तोमर का कब्जा है, इस पर अधिकारियों ने दीवार तुडवाकर भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराया, जिसकी कीमत 4 करोड़ 50 लाख है। इसी दौरान श्री तोमर के कॉलेज के पीछे ही एक बडे भू भाग पर अधिकारियों की नजर पड़ी, जिसमें सरसों की खेती की जा रही थी। इस पर मौके पर ही नक्शे से भूमि की नपाई शुरू कराई तो अधिकारी दंग रह गए। क्योंकि सर्वे क्रमांक 421 की जिस 25 बीघा में खेती की जा रही थी, वह पूरी शासकीय थी। इस पर अधिकारियों ने तत्काल जेसीबी मशीन से सरसों की खेती उजाड़ कर भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराया। उक्त भूमि पर रामअवतार सिंह गुर्जर का अतिक्रमण था, साथ ही भूमि पर एक कमरा भी बना हुआ था, जिसे भी ध्वस्त किया गया। भूमि की कीमत करीब कीमत 75 करोड़ बताई जा रही है। कार्यवाई के दौरान एडीएम किशोर कन्याल, एसडीएम प्रदीप तोमर एवं एसडीएम अनिल बनवारिया मौजूद रहे।


Updated : 2019-12-22T05:15:41+05:30
Tags:    

Swadesh News ( 0 )

Swadesh Digital contributor help bring you the latest article around you


Next Story
Share it
Top