Top
Home > राज्य > मध्यप्रदेश > ग्वालियर > अमृत के जितने भी काम हो रहे हैं उनकी जानकारी कब मिलेगी आयुक्त जी

अमृत के जितने भी काम हो रहे हैं उनकी जानकारी कब मिलेगी आयुक्त जी

एमआईसी सदस्य ने कहा, ग्रामीण विधानसभा के साथ अन्याय हो रहा है अलग से मुद्दे जोडऩे पर भड़की खुशबू, बोली ये क्या तरीका है

अमृत के जितने भी काम हो रहे हैं उनकी जानकारी कब मिलेगी आयुक्त जी
X

ग्वालियरआयुक्त जी आप हम लोगों को यह बताए कि अमृत योजना के तहत जितने भी काम हो रहे है, उनकी जानकारी हम लोगों को कब मिलेगी। हमने बैठक में कई बार अमृत योजना से जुड़े कार्यो की जानकारी मांगी, लेकिन आज तक किसी को भी कोई जानकारी नहीं दी गई है। अमृत योजना के तहत कहां क्या काम हो रहे है, इसकी जानकारी हमें नहीं है, आपके अधिकारी कब सूची बनाएंगे। हर बार यहीं बताया जाता है कि सूची बन रही है। यह बात बुधवार को बालभवन में आयोजित एमआईसी की बैठक में सभी एमआईसी सदस्यों ने निगमायुक्त से कही। जिस पर निगमायुक्तकोई भी जवाब नहीं दे पाए। बैठक में एमआईसी सदस्य धर्मेन्द्र राणा ने कहा कि उनके वार्ड में अमृत के तहत काम हो रहे है वह भी बंद कर दिए गए है। जिस पर निगमायुक्त ने कहा कि बारिश के दौरान काम बंद कर दिए गए है। तभी एमआईसी सदस्य खुशबू गुप्ता ने कहा कि बारिश के दौरान अमृत के तहत होने वाले काम बंद किए है, तो दूसरी जगह क्यों शुरू किए। इसकी अनुमति किसने दी है। खुशबू गुप्ता ने अधिकारियों द्वारा पहले से तय बिंदुओं के अलावा बैठक में अन्य बिंदु जोडऩे पर भी सख्त नाराजगी जताई।

बैठक में श्रीमती गुप्ता ने कहा कि माधवगंज एक ऐसा मार्ग है जो सीधे महाराज बाड़े को जोड़ता है, लेकिन वहां की सड़क आज तक नहीं बन पाई है। साथ ही कम्पू ईदगाह मार्ग पर पानी की पाइप लाइन डालने के बाद सड़क बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी है। लोग आए दिन घायल हो रहे हैं, लेकिन सड़क कब बनेगी, इसकी कोई जानकारी नहीं है। जिस पर निगमायुक्त ने कहा कि एस्टीमेट बन गया है, जल्द ही काम शुरू किए जाएंगे। बैठक में नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा, एमआईसी सदस्य गंगाराम बघेल, सतीश बोहरे, खुशबू गुप्ता,धर्मेन्द्र राणा, नीलिमा शिन्दे, खेमचंद गुरवानी, केशव सिंह गुर्जर आदि उपस्थित थे।

ग्रामीण वार्ड के लिए एक भी फाइल स्वीकृत नहीं

एमआईसी सदस्य केशव सिंह ने कहा कि ग्रामीण विधानसभा में एक भी काम नहीं हुए है। हमारी विधानसभा के साथ अन्याय क्यों हो रहा है। आज तक एक भी फाइल स्वीकृत नहीं हुई है। जिस पर निगमायुक्त ने कहा कि ग्रामीण वार्डो में काफी काम हुए है, जिस पर श्री सिंह ने कहा कि आप मुझे बताओ कि कौन-कौन से काम निगम की निधि से हुए है। जिस पर निगमायुक्त कोई जवाब नहीं दे पाए।

यह निर्णय भी लिए बैठक में

-बैठक में मनोरंजन का शुल्क अब नगर निगम वसूलेगा।

-शहर की पेयजल आपूर्ति के लिए चम्बल नदी से तिघरा बांध तक पाइप लाइन बिछाए जाने की कार्ययोजना के लिए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र बोर्ड नई दिल्ली से ऋ ण प्राप्त करने के लिए शासन स्तर से गारन्टी जारी करने के संबंध में प्राप्त निगमायुक्त के प्रतिवेदन पर चर्चा उपरांत स्वीकृति प्रदान की गई।

-बैठक में वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए गौशाला लाल टिपारा मुरार में गौवंश के आहार के लिए कुल स्वीकृत राशि 5 करोड़ के अतिरिक्त 3 करोड़ की राशि की स्वीकृति के लिए प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई।

-ग्वालियर ग्रामीण विधानसभा के अंतर्गत मुख्यमंत्री पेयजल परियोजना की फिजिबिलटी रिपोर्ट व प्राथमिक प्रोजेक्ट रिपोर्ट अनुसार जलयोजना पर अनुमानित राशि 6047.28 लाख के व्यय की स्वीकृति।

-बैठक में दक्षिण विधानसभा नव निर्मित पुल का नाम पूर्व महापौर पूरन सिंह पलैया सेतु मार्ग रखने के प्रस्ताव पर चर्चा उपरांत स्वीकृति प्रदान की गई।

-सुगम यातायात के लिए दो स्थानों पर होगा मैकेनिकल पार्किंग का निर्माण।

आवारा मवेशियों को छोडऩे के लिए लगेगा 50 रुपए का जुर्माना

निगम द्वारा संचालित लालटिपारा स्थित गौशाला में शहर से पकड़कर रखे गए आवारा मवेशियों को छोडने के लिए अब 50 रुपए की पेनल्टी की रसीद काटी जाएगी। इसके साथ ही प्रति दिन के हिसाब से 200 रुपए प्रतिदिन प्रति जानवर की खुराक के लिए वसूल किए जाएंगे।

Updated : 2018-07-19T16:28:08+05:30
Tags:    

Swadesh Digital

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Next Story
Share it
Top